आपकी कार 30-45 किमी/लीटर का माइलेज दे सकती है, लेकिन क्या आप इसे करना चाहेंगे?

इंडियन मार्केट में किसी भी कार की सफलता में माइलेज एक अहम् रोल निभाती है. लेकिन क्या आपको पता है आप आसानी से अपनी गाड़ी से काफी ज़्यादा माइलेज पा सकते हैं? निर्माता इस प्रक्रिया को ‘hypermiling’ कहते हैं. आइये देखते हैं.

बेहतरीन माइलेज

Hypermiling समझाने के लिए हम एक बिल्कुल नए Maruti DZire को लेते हैं. ये मार्केट में सबसे अच्छी माइलेज देने वाली कार्स में से एक है और इस डीजल कॉम्पैक्ट सेडान की अधिकतम माइलेज 28.4 किमी/लीटर है. ये टेस्ट सरकारी एजेंसी ARAI द्वारा किये जाते हैं और ये असल दुनिया से अलग हालात होते हैं. असल दुनिया में हाईवे पर माइलेज 25 किमी/लीटर के आसपास होती है. लेकिन, ऐसे कई रिकॉर्ड तोड़ने वाले ड्राईवर हुए हैं जिन्होंने इस आंकड़े से काफी बड़ा आंकड़ा हासिल किया है.

एक Maruti Suzuki Dzire ओनर को तो 45.8 किमी/लीटर की अविश्वश्नीय माइलेज मिली थी! कुछ ऐसे लोग हैं जिन्होंने ज़्यादा माइलेज पाने की कोशिश कर 32.3 किमी/लीटर की माइलेज प्राप्त की. और ऐसे एक्सपेरिमेंट के लिए Renault Scala और Ford Fiesta जैसी कार्स इस्तेमाल की गयीं.

तो, ये होता कैसे है?

Hypermiling में आप हाईवे पर सबसे ऊपर वाले गियर में 60 किमी/घंटे पर चलते हैं. इसका मतलब है की अगर आपकी कार में 5 गियर हैं तो ये पाँचवे में होनी चाहिए और अगर कार में 6 गियर हैं, तो ये छठे गियर में होनी चाहिए. ज़्यादा से ज़्यादा माइलेज पाने के लिए एसी को बंद कर देना चाहिए और हेडलैम्प्स, ऑडियो सिस्टम, या नेविगेशन जैसा कोई सा भी इलेक्ट्रिकल इक्विपमेंट नहीं चल रहा होना चाहिए. खिड़कियाँ बस इतनी थोड़ी सी खुली होनी चाहिए की थोड़ी सी हवा आनी चाहिए और उन्हें पूरी तरह से खोलने से एरोडायनामिक्स बिगड़ जायेंगे और माइलेज कम हो जायेगी. माइलेज बढाने के लिए आपको उसी स्पीड पर चलना होगा और एक्सीलीरेटर एवं ब्रेक्स का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. अगर आप इस प्रकार से चलेंगे तो आपको कम से कम 20% तक ज़्यादा माइलेज मिलेगी.

क्या आप इसे करना चाहेंगे?

इंडिया के मौसम में इस प्रकार से चलाना बहुत आरामदायक नहीं होता है. आम हालत में आपको एसी का इस्तेमाल करना ही पड़ता है. साथ ही खुले हाईवे पर 60 किमी/घंटे पर चलना काफी बोरिंग हो सकता है. तेज़ कार्स आपसे आगे निकलते जायेंगे और ये काफी खतरनाक भी हो सकता है. और कभी-कभी, लोग एक ही स्पीड पर चलते हुए बोर होकर सो जाते हैं. और बिना म्यूजिक चलाये हुए हाईवे पर आप लम्बे समय तक ध्यान केन्द्रित नहीं कर सकते. अगर आपको अच्छी माइलेज चाहिए तो बिना तेज़ एक्सीलीरेट किये हुए या तेज़ ब्रेक लिए हुए चलें.