Yamaha R15 के इस शानदार ऑटोमेटिक हाई-लो बीम फीचर पर नजर डालें

कुछ दिन पहले हम आपके लिए एक मॉडिफाइड R15 लाए थे जिसमें ऑटोमैटिक हेडलैंप, फिंगरप्रिंट सेंसर इग्निशन, और टचस्क्रीन जैसी हाई-टेक सुविधाएँ मौजूद थीं. आज हम आपके लिए उसी बाइक का एक और वीडियो लेकर आए हैं जो मोटरसाइकिल के ऑटो हाई-लो बीम फीचर पर प्रकाश डालता है. पढ़ने में यह हालाँकि ज्यादा मजेदार नहीं लगता है लेकिन यह वास्तव में एक अच्छा फीचर है.

Kunal Vlogs द्वारा अपलोड किए गए वीडियो पर एक नज़र डालते हैं जो दर्शाता है कि बाइक पर यह सिस्टम कैसे काम करता है.

R15 अपने आप में एक शानदार बाइक है. इस बाइक में एक शानदार डेल्टा-बॉक्स चेसिस दिया है जो इसे अच्छी हैंडलिंग देता है. अगर लुक्स की बात करें तो 150-सीसी सेगमेंट में यह सबसे अच्छी और शानदार मोटरसाइकिल है. इस विशेष बाइक के मालिक द्वारा इस पर किये गए सभी हाई-टेक मॉडिफिकेशन बाइक को आधुनिक बनाते हैं. आपको बता दें यहाँ दिखाई गई बाइक R15 इसका नवीनतम V3 मॉडल नहीं है बल्कि दूसरी पीढ़ी का V2 मॉडल है. इसकी हेडलाइट सामने कस्टम प्लेट द्वारा आधी ढंकी हुई है जो इसे एक विशिष्ट रूप देता है जिससे यह अलग वैरिएंट का भ्रम पैदा करता है.

R15 Headlight Auto Beam Switch

लो-बीम मोड

ऑटोमैटिक हाई-लो बीम फीचर की बात करें तो यह फीचर भारत की कई महंगी लग्जरी कार्स में मिलता है. सीधे शब्दों में कहें तो जब सामने से कोई वाहन आता है तो बाइक अपने आप लो-बीम पर चली जाती है और वाहन के गुजरने के बाद एक बार फिर हाई-बीम मोड पर आ जाती है. यह न केवल आपको मैन्युअल स्विच से बचाता है बल्कि उस स्थिति में काफी उपयोगी साबित होता है जब कोई यह भूल जाता है कि उसका हाई-बीम चालू है.

R15 Headlight Auto Beam Switch High Beam

हाई-बीम मोड

यह मोड एक सेंसर का उपयोग करके काम करता है जो प्रकाश का पता लगाता है. उदाहरण के लिए एक सिंगल-लेन रोड पर सवारी करते समय जब भी कोई वाहन बाइक के पास आता है और उसकी रोशनी बाइक के सामने के मुख पर गिरती है तो हेडलाइट खुद हेडलाइट बीम को नीचे कर देती है और वाहन के गुजरने के बाद वापस हाई बीम पर आ जाती है. जैसे ही प्रकाश सेंसर पर गिरता है, हाई-बीम रोशनी लो-बीम में बदल जाती है और लो-बीम प्रोजेक्टर के जरिये सड़क पर रोशनी जारी रहती है. यह एक साधारण लेकिन शानदार फीचर है जो दैनिक सवारी को आसान बनाने के साथ-साथ अधिक सुरक्षित भी बनाता है.

आपको बताते चलें कि लगभग हम सभी ने अपनी नाजुक आंखों में अंधा करने वाले हाई-बीम का सामना किया होगा और इसने कई दुर्घटनाओं को भी जन्म दिया है क्योंकि राइडर या ड्राइवर एक पल के लिए ऐसी रौशनी में अंधा हो जाता है जो सामने कोई बाधा होने पर दुर्घटना का रूप ले सकता है. इसलिए हमेशा यह सलाह दी जाती है कि वन-वे और शहरों की जगमग सड़कों पर हाई-बीम को चालू न रखें. इसके अलावा हर किसी को सामने से वाहन आने पर हाई-बीम को लो-बीम में बदलने की आदत डालनी चाहिए.