Rolls Royce में क्या है इतना ख़ास की लोग करोड़ों खर्च करते हैं?

Rolls Royce एक ऐसा ब्रांड है जिसकी परिचय की ज़रुरत नहीं है. इनके कार्स लक्ज़री की मूरत होते हैं. पेश हैं 10 ऐसी बातें जो बहुत कोग नहीं जानते और जो इन कार्स को इतना महंगा भी बनाती हैं.

लॉन्ग लास्टिंग बिल्ड

Rolls Royce काफी समय से कार्स बनाते आई है, इसके बावजूद, अब तक बनीं 65% Rolls Royce अभी भी रोड चलती हैं. ये इस बात का सबूत है की ये कार्स कितनी लॉन्ग लास्टिंग होती हैं. साथ ही ओनर्स इन गाड़ियों से इतने जुड़े रहते हैं की वो इन्हें इस्तेमाल करते रहना चाहते हैं.

डिटेल्स पर ध्यान

क्या आपने कभी Rolls Royce को बगल से गुज़रते हुए देखा है? अगर आपने व्हील्स पर ध्यान दिया होगा आपने देखा होगा की व्हील कैप्स पर RR बैज हमेशा ही सीधा रहता है. बाकी कार्स की तरह वो चक्कों के साथ घूमता नहीं है. ये वाकई में बेहद कूल फीचर है और ये आपको हर Rolls Royce पर मिल जाएगी. तो अगली बार जब आप Rolls Royce देखें तो रिम्स पर ध्यान दें और आपको पता चल जाएगा की हम क्या कह रहे हैं.

शान्ति

Rolls Royce इंजिनियर्स को पता है की पैसेंजर्स को कम्फर्ट कैसे दें. रोड की आवाज़ और दूसरे आवाज़ से आपका सफ़र थकान भरा हो जाता है. Rolls के इंजिनियर्स ने अपनी कार्स को ऐसे डिजाईन किया है ताकि वो बिलकुल शांत रहें. कहा जाता है की 100 किमी/घंटे पर Rolls के अन्दर जो सबसे तेज़ आवाज़ होती है वो उसके डैशबोर्ड पर लगे घड़ी की होती है.

सच में हाथ से बना

Rolls Royce के पूरे फैक्ट्री में बस 4 रोबोट हैं, और उनमें से दो का इस्तेमाल कार पर प्राइमर कोट लगाने के लिए होता है. इसका मतलब है की अधिकांश काम हाथ से किया जाता है जिससे कार काफी एक्सक्लूसिव बन जाती है. अगर आप कार्स में पिनस्ट्राइप का ऑप्शन चुनते हैं तो आमतौर पर आपको स्टीकर मिलता है लेकिन Rolls में ऐसा नहीं होता. इस कार पर जो पिनस्ट्राइप होते हैं वो एक गिलहरी के बालों से बने ब्रश से बनाए जाते हैं. इस पूरे प्रक्रिया को सिर्फ एक इंसान पूरा करता है और इसे करने में 3 घंटे का समय लग जाता है.

Rolls सिर्फ सबसे बेहतरीन चीज़ों से बनती है

Rolls को बनाने में सबसे अच्छी सामग्री का इस्तेमाल किया जाता है. सबसे पहले, सिर्फ बैल ना की गाय के लेदर का इस्तेमाल किया जाता है. इसके पीछे का कारण है की बछड़ों को जन्म देते वक़्त गाय के चमड़े पर स्ट्रेच मार्क्स आ जाते हैं और Rolls Royce इसे इस्तेमाल नहीं करना चाहती. इसलिए सिर्फ बैल के लेदर का इस्तेमाल किया जाता है. एक कार के इंटीरियर का काम करने में कुल 17 दीं लगते हैं और इसमें 11 बैलों के चमड़े का इस्तेमाल होता है. और इसके अलावे कार में इस्तमाल किये गए सारे लकड़ी के वीनीर को उमस भरे चैम्बर में रखा जाता है ताकि इनमें दरारें ना पड़ें. और उसके बाद इन्हें लगाते वक़्त वीनीर को वेलवेट पर रखा जाता है ताकि इनमें स्क्रैच ना आये. हर Rolls के अन्दर लगे चीज़ों पर इतनी बारीकी से ध्यान दिया जाता है.

भरोसेमंद

1906 में Rolls Royce कार और एयरप्लेन बनाने वाली कंपनी के रूप में स्थापित की गयी थी. उसी साल कंपनी ने अपनी पहली कार Silver Ghost लॉन्च की. इसकी भरोसेमंदता को साबित करने के लिए कंपनी ने कार को बिना रुके 24,000 किमी तक चलाया जो अपने आप में एक रिकॉर्ड था. Rolls Royce उन चुनिंदा कार कंपनियों में से है जो एयरप्लेन के लिए इंजन बनाती है. चूंकि एविएशन इंडस्ट्री में स्टैण्डर्ड काफी ऊंचे हैं और फेलियर पर नतीजे खतरनाक हो सकते हैं, इसलिए इस इंडस्ट्री में बने रहने के लिए क्वालिटी बेहतरीन होनी चाहिए. 1913 में भी Rolls Royce ने एक Rolls Royce Alpenfahrt नाम की एक प्रतियोगिता आयोजित की थी जिसमें ड्राइवर्स को 19 अलग-अलग Alpine दर्रों से गुज़रना था. ये है Rolls के भरोसेमंद होने का सुबूत. एक समय पर ज़मीन, आसमान, और हवा में चलने वाली सबसे तेज़ वाहन में Rolls Royce का इंजन हुआ करता था. यहाँ तक की लीजेंडरी Concorde में भी Rolls का इंजन था. क्या और कुछ बोलने की ज़रुरत रह जाती है?

सच में कस्टम बिल्ट

कहा जाता है की कोई भी दो Rolls Royces एक जैसी नहीं होतीं. इसके पीछे का कारण है Rolls पर उपलब्ध अनेकों कस्टमाईजेशन ऑप्शन. आपके पास 44000 रंगों का ऑप्शन है. इस हद तक कस्टमाईजेशन संभव है की आप एक रंग चुनें और कंपनी उसी रंग की एक पूरी एक कार बना डालेगी. आपके पास इंटीरियर कलर्स, मटेरियल और वीनीर तक कस्टमाईज़ करने का ऑप्शन है. Rolls Royce पेंट करने की प्रक्रिया भी काफी पेचीदा है. क्या आपको पता है की Rolls Royce के पेंट का वज़न अकेले 45 किलो होता है? साथ ही क्लियर कोट के दो लेयर अप्लाई किये जाते हैं ताकि इसे मिरर फिनिश मिल सके. Rolls में डिटेल इस स्तर का होता है!

रूहानी शान्ति

Rolls Royce ने अपनी सभी कार्स का नाम रूह के नामों पर रखा है, Phantom, Ghost, Dawn या Wraith कुछ भी चुन लीजिये. अगर आप इतिहास भी खंगालेंगे, आपको सभी मॉडल नाम रूह के ही मिलेंगे. इसके पीछे का कारण है की कार्स इतनी शान्ति चलती हैं की ये लगभग रूह जितनी शांत होती हैं.

विरासत

जब से Rolls कार्स बना रही है, हर कार पर Spirit of Ecstasy का लोगो मौजूद रहा है. ये 1911 से इनका मैस्कॉट रहा है. जब BMW ने ब्रांड खरीदा, तब उन्होंने लोगो के इस्तेमाल के लिए $40 मिलियन की राशि चुकाई. ये लोगो इतना महत्वपूर्ण है की जब कार लॉक हो तब ये ग्रिल के अन्दर चली जाती है ताकि इसे चोरी नहीं किया जा सके. साथ ही, Rolls Royce काफी समय से सुसाइड डोर्स का इस्तेमाल कर रही है. इसका मुख्या कारण है की ये एंट्री और एग्जिट आसान बनाते हैं, और स्टाइलिश एलिमेंट तो है ही.

असीमित ऑप्शन

आपके ज़रुरत के अनुसार, आपके पास अपने Rolls को असंख्य स्पेक्स से मॉडिफाई करने के ऑप्शन हैं. अगर आपको सिगार पसंद हैं तो सिगार को नम रखने का ऑप्शन है. फेमस Spirit of Ecstasy बैज को आप 24 कैरट गोल्ड में भी बनवा सकते हैं. अगर आपको सितारों वाली रात का नज़ारा पसंद है, आप ऐसा ही हेडलाइनर लगवा सकते हैं. इसमें 1600 छोटे-छोटे फाइबर ऑप्टिक लाइट्स होती हैं जिन्हें उस कपड़े में हाथ से लगाया गया है. आपके डोर्स पर आपकी शैम्पेन को ठंढा रखने के लिए एक मिनी-बार का ऑप्शन भी है. और भी ऐसे अनेकों विचित्र ऑप्शन हैं जो Rolls को इतना लक्ज़रीयस और महंगा बनाते हैं.