जानिये की ABS आखिर है क्या और ये काम कैसे करता है…

Anti-lock Braking Systems (ABS), आपके अंदाज़े से ज़्यादा लंबे समय से हमारे साथ है. विमान पर उपयोग के लिए 1929 में विकसित, मोटर चालकों ने पहली बार 1966 में अनावरण की गई Jensen Ferguson Formula की 4-व्हील ड्राइव कार में ABS के लाभ का अनुभव किया. आगे का विकास धीमा था और अधिकांश मोटर चालकों को 1980 के दशक के मध्य तक ABS के फायदों का इंतजार करना पड़ा, विशेष रूप से जब एंटी लॉक ब्रेक सिस्टम को Ford Scorpio में स्टैण्डर्ड रूप में फिट किया गया था. ABS अब लगभग हर नई कार और अधिकांश हाई-परफॉरमेंस बाइक्स में लगाया जाता है और इसका उपयोग कॉर्निंग के दौरान स्थिरता में मदद करने के लिए किया जाता है.

ABS काम किस तरह करता है ?

अधिकांश बार ब्रेकिंग के दौरान, जैसे कि आपातकालीन स्थिति में, पहिया लॉक होकर स्किड हो जाता है. ये जानते हुए, एक सरल और आसान तरीका यह है कि प्रत्येक पहिए पर एक ABS सेंसर लगाकर उस समय का पता लगा लिया जाए की पहिए कब लॉक हो रहा है. उसके बाद सेंसर ब्रेकिंग का कण्ट्रोल ले लेते हैं और पहियों को लॉक होने से बचा लेते हैं और बार-बार छोटे अंतराल पर ब्रेक लगाना शुरू कर देते हैं. इसलिए अनिवार्य रूप से, एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम जो कुछ भी कहता है, वही करता है – आपकी कार में ABS को पहियों को ब्रेकिंग के दौरान लॉक करने से रोकना चाहिए, जिससे आपको अधिक नियंत्रण मिलता है और आप कार को आसानी से स्टीयर कर सकते हैं. बाइक्स में भी ठीक ऐसा ही होता है.

क्या ABS तेजी से रोकने में मदद करता है?

आमतौर पर ये कहना गलत होगा. ABS चालक को दो तरह से हार्ड ब्रेकिंग के तहत कार के बेहतर नियंत्रण को बनाए रखने की अनुमति देता है: ये गाड़ी के पहियों को लॉक होकर स्किड में जाने से रोकते हुए आपको गाड़ी चलाने में मदद करता है, और आपको उस वास्तु से टकराने से बचाता है जिसके चलते आपने ब्रेक लगाए थे. वहीँ बाइक्स की बात करें तो ये आपके बाइक की ब्रेकिंग दूरी को काफी हद तक कम करता है.

ABS आपको अधिक तेज़ी से कॉर्नरिंग में मदद कर सकता है

कार निर्माता अब ABS का उपयोग कर अपनी कारों को और अधिक तेज़ी से और अधिक सुरक्षित रूप से कॉर्नरिंग में मदद करने के लिए उपयोग कर रहे हैं. ये कार की ABS सिस्टम का उपयोग ट्रैक्शन कन्ट्रोल और चेसिस स्टेबिलिटी ऐड के रूप में करते हैं; अनिवार्य रूप से कार पता लगाती है जब कार को कॉर्नरिंग के दौरान  नियंत्रण खोने का खतरा होता है और इसे नियंत्रित करने के लिए धीरे-धीरे एक या अधिक पहियों को ब्रेक करता है.

इंडियन निर्माताओं का क्या?

भारतीय कार और बाइक निर्माता भी अब भले ही देर से सही पर ABS की महत्वपूर्णता समझ रहे हैं. Maruti, Mahindra और Tata जैसे बड़े कार उद्योगों ने भी अपने ज़्यादातर मॉडल्स में ABS फीचर देना शुरू कर दिया है. कार्स ही नहीं, ABS जैसे फीचर्स मोटरसाइकिल्स में तो और ज़्यादा महत्वपूर्ण हैं. जैसा कि हम सब जानते हैं – 2-पहिया वाहन, 4-व्हीलर्स से कही ज़्यादा ख़तरनाक होते हैं. भारतीय सड़कों पर मौजूद मोटरसाइकिल्स में ABS, KTM Duke 390, Honda CBR 250 और Bajaj Dominar जैसे चुनिंदा महंगे मॉडल्स में ही उपलब्ध है. हालाँकि सरकार द्वारा निकाले गए आदेश के अनुसार अप्रैल 2019 से निर्माताओं के लिए हर 125 सीसी और उससे ऊपर वाले बाइक में ABS पेश करना अनिवार्य होगा.

कोई ड्राइवर, सिस्टम की तरह फुर्ती और तेजी से ब्रेकिंग नहीं कर सकता है, लेकिन ABS फिर भी आपको नियंत्रण में रहने में मदद करेगा.