Watch Drunk Ford Aspire Driver Chased and Apprehended by Police in Mahindra TUV300 देखिये कैसे शराब के नशे में चल रहे Ford Aspire के ड्राईवर को पुलिस ने Mahindra TUV300 में पीछा करते हुए पकड़ा

देखिये कैसे शराब के नशे में चल रहे Ford Aspire के ड्राईवर को पुलिस ने Mahindra TUV300 में पीछा करते हुए पकड़ा

भारत में पुलिस का दोषियों का कार से पीछा करना अमेरिका जैसे विकसित देशों जितना आम नहीं है. भारत पुलिस अक्सर अपराधियों का पीछा नहीं करती है. लेकिन, ऐसे कुछ मामले पहले भी सामने आये हैं जहां पुलिस को कार्स का पीछा करते हुए देखा गया है. पेश है केरल से एक ऐसा ही वाक्या जहां पुलिस एक Mahindra TUV300 में एक Ford Aspire का पीछा कर रही है.

Mahindra TUV300 ने किया Ford Aspire का पीछा

ये पूरा वाक्या रोड पर लगे एक CCTV कैमरे में कैद हो गया. इस फुटेज को Sarath Sivaraman G ने एक फेसबुक ग्रुप में अपलोड किया है और इसमें देखा जा सकता है की एक Ford Aspire तेज़ रफ़्तार पर मुड़ने की कोशिश करती है. गाड़ी के तेज़ रफ़्तार के चलते वो ठीक समुद नहीं पाती और सामने खड़ी एक Maruti Suzuki Alto से टकरा जाती है. इसी विडियो में हम देख सकते हैं की पुलिस की एक TUV300 तेज़ रफ़्तार पर Aspire का पीछा कर रही है.

एक अलग CCTV के एक दूरे एंगल से हम देख सकते हैं की पहले तेज़ रफ़्तार वाली Aspire संतुलन खो कर एक दूसरे गाड़ी से टकराती है जो रोड के दूसरे तरफ खड़ी है. इस फुटेज में ये भी देखा जा सकता है की इस तेज़ रफ़्तार Aspire से एक राहगीर भी बाल-बाल बचा. दूसरे एंगल वाले फुटेज में हम Mahindra TUV300 को भी देख पाते हैं.

इस बात की जानकारी नहीं है की पुलिस की गिरफ्त में आने के बाद Aspire के ड्राईवर के साथ क्या हुआ. रिपोर्ट्स के मुताबिक़ वो नशे में था और इसी कारण से पुलिस उसे रोकने के लिए उसका पीछा कर रही थी. हो सकता है ड्राईवर पुलिस के डर से नहीं रुका हो क्योंकि शराब के नशे में गाड़ी चलाने पर भारी जुर्माना लगाया जाता है और कभी-कभी कार भी ज़ब्त हो जाती है.

Tuv Aspire

शराब पीकर गाड़ी चलाने से कारावास भी मिल सकता है. लेकिन, इस मामले में क्या सज़ा सुनाई गयी इसकी जानकारी नहीं है. भारत की सड़कों पर शराब पीकर गाड़ी चलाना एक बहुत बड़ी दिक्कत है और अक्सर पुलिस श्वास यन्त्र की मदद से ऐसे लोगों को पकड़ने के लिए बैरिकेड भी लगाती है. लेकिन छोटे शहरों में ऐसे यन्त्र आमतौर पर मौजूद नहीं रहते. दिल्ली के आसपास के इलाकों में भी हर साल हज़ारों लोग शराब के नशे में गाड़ी चलाते हुए पकडे जाते हैं और उन्हें जुर्माने के अलावे कारावास भी दिया जाता है.

शराब पीकर गाड़ी चलाने से ड्राईवर का रिएक्शन टाइम कम हो जाता है जिससे एक्सीडेंट की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ जाती है. अक्सर रात में शराब पीने के बाद भी उसका नशा सुबह तक रहता है और ऐसे में गाड़ी चलाना बेहद खतरनाक हो जाता है. ऐसी हालत में आपको हमेशा एक टैक्सी ले लेनी चाहिए या एक ऐसे इंसान को गाड़ी देनी चाहिए जो नशे में ना हो.

×

Subscibe our Newsletter