देखिये इस Audi A4 को सड़क पर आने में कितनी दिक्कत आती है

भारत में महंगी कार खरीदना एक इंसान की समृद्धि का प्रतीक होता है लेकिन महंगे कार के मालिक को कई बार काफी परेशानी भी होती है. भारत की सड़कें, खासकर शहर के अन्दर की सडकें अक्सर अच्छे हालत में नहीं होतीं. प्रशासन सड़कों की मरम्मत कराता है लेकिन जब इसकी सूचना स्थानीय आबादी को नहीं दी जाती है तब वहां के लोगों को इस मरम्मत के दौरान काफी दिक्कतें आती हैं. पेश है Mumbiker Nikhil का एक विडियो जिसमें वो ऐसी ही दिक्कत में फंसे हैं और अपनी Audi A4 को निकालने की कोशिश में अपनी मुश्किलें और बढ़ा बैठते हैं.

विडियो से लगता है की उनके घर के बाहर की सड़क की मरम्मत हो रही है और ऐसे में रोड की ऊंचाई थोड़ी बढाई जा रही है. ये काम उनके घर के बाहर काफी दिनों से चल रहा है और वो अपनी गाड़ी को पार्किंग से निकालना चाहते थे ताकि वो इसे रोजाना इस्तेमाल कर सकें. ये देखने के बाद की रोड की हालत पहले से बेहतर हो गयी है वो बीच रात अपनी गाड़ी निकालने की कोशिश करते हैं और इसके लिए अपने कुछ दोस्तों की मदद लेते हैं.

ये पूरी सड़क जर्जर नज़र आ रही है, और वो गाड़ी को बड़े आराम से निकालने की कोशिश करते हैं. मौके पर मौजूद कुछ कर्मी भी उनकी मदद करते नज़र आते हैं. Nikhil फिर सड़क की एक बड़ी उभार पर चढ़ने की कोशिश करते हैं क्योंकि उस तरफ की सड़क ज्यादा अच्छी हालत में है. फिर वो मदद के लिए पूछते हैं तो पता चलता है की इलाके में JCB क्रेन केवल कुछ घंटे बाद ही चलनी शुरू होंगी.

फिर वो अपने दोस्त को ध्यान से गाड़ी चलाने के लिए कहते हुए बाहर आकर निर्देश देते हैं. जैसे ही गाड़ी एक विशाल उभार की तरफ आती है गाड़ी का अगला बम्पर लगभग ज़मीन छू जाता है. फिर वो कुक कर्मियों की मदद लेकर सड़क को थोड़ा चपटा करवाते हैं ताकि उनकी Audi A4 आगे बढ़ सके. सेडान के व्हीलबेस और कम ग्राउंड क्लीयरेंस के चलते वो अक्सर फँस जाती हैं. लेकिन यहाँ ऐसा कुछ नहीं हुआ क्योंकि गाड़ी के ड्राईवर और बाहर खड़े निर्देशक ने विवेक से काम लिया. उभार के नीचे उतारते हुए अगला बम्पर ज़मीन के काफी करीब आया लेकिन ज़मीन से उसे कोई नुक्सान नहीं हुआ.

भारत में लोफ-लूर वाली कार्स को सबसे ज्यादा दिक्कत खराब सड़कों से ही आती है. सड़क पर चलने वाले काम के अलावे यहाँ कई गैरकानूनी स्पीड ब्रेकर लगे हैं जिन्हें स्थानीय लोगों ने कार्स की रफ़्तार धीमी रखने के लिए बनाया गया है. इनमें से कई स्पीड बराकर पर मार्किंग नहीं होती और इससे बड़े हादसे भी होते हैं. साथ ही कई ऐसे ब्रेकर नियम को तोड़ काफी ज्यादा ऊंचे बनाए जाते हैं जिससे गाड़ियां अक्सर क्षतिग्रस्त हो जाती हैं. यही कारण है की भारत में नए कस्टमर्स सेडान या हैचबैक की जगह SUVs को ज्यादा पसंद करते हैं.