चेतावनी! ट्रैफिक सिग्नल पर चीज़ें खरीदने वालों को जुर्माना

इंडिया में कई ऐसे ट्रैफिक उल्लंघन हैं जिनके बारे में आपको पता नहीं होगा. और ये शायद उस लिस्ट में सबसे ऊपर आएगा. क्या आपको पता था की ट्रैफिक सिग्नल पर रोडसाइड वेंडर्स से चीज़ें खरीदना असल में कानून के विरुद्ध है? मोटर वेहिकल्स एक्ट (MVA) इस उल्लंघन के लिए रु. 1000 का मोटा जुर्माना भी लगाती है. याद रहे, कानून न जानना कोई बहाना नहीं है.

इस ओफेंस के लिए ट्रैफिक पुलिस अधिकारी आपको MVA के खतरनाक ड्राइविंग वाले सेक्शंस के अन्दर भी फाइन कर सकते हैं. सुनिए दिल्ली पुलिस कमिश्नर श्री दीपेन्द्र पाठक के मुंह से. ये कहना था श्री पाठक का ऐसे कम जाने हुए उल्लंघनों के बारे में.

ऐसे अभियान समय समय पर चलाये जाते हैं, सजा देने के लिए नहीं बल्कि वाहन चालकों को कानून के बारे में और इनके उल्लंघन से जुड़े खतरों के बारे में बताने के लिए. इसलिए हम इनमें से कुछ उल्लंघनों पर जुर्माना लगाते हैं डेंजरस ड्राइविंग के अन्दर आने वाली धाराओं के तहत.

जहाँ दिल्ली ट्रैफिक पुलिस का एक सेक्शन वाहन चालकों के लिए ट्रैफिक रूल्स अवेयरनेस कैंपेन चला रहा है, कई पुलिस वालों को ये भी नहीं पता की ऐसे रूल्स हैं भी. ऐसे ही वेस्ट दिल्ली के एक अनाम ट्रैफिक हवालदार ने HindustanTimes  से बात की और वेंडर्स से ट्रैफिक सिग्नल्स पर सामान खरीदने पर ये कहा

हॉकर और भिखारी ट्रैफिक स्लो करते हैं और हादसों की भी वजह बनते हैं लेकिन हमें नहीं पता था की उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा सकती है

कुछ वजहें हैं जो MVA वाहन चालकों के ट्रैफिक सिग्नल्स पर वेंडर्स से सामान खरीदने पर जुर्माना लगाती है

  1. ऐसी वेंडिंग से ट्रैफिक रुक जाता है. वेंडर्स को आने वाली गाड़ियों से हादसों का भी खतरा होता है, विशेषकर अगर वो सिग्नल ग्रीन होने से पहले फूटपाथ तक न पहुँच पाएं.
  2. वेंडर्स का रूप धरे असामाजिक तत्व अक्सर ट्रैफिक सिग्नल्स पर वाहन चालकों का ध्यान बंटा कर लूट लेते हैं.
×

Subscibe our Newsletter