Video Review of Royal Enfield Classic 350 Signals ABS Royal Enfield Classic 350 Signals ABS; पेश है पहला विडियो रीव्यू

Royal Enfield Classic 350 Signals ABS; पेश है पहला विडियो रीव्यू

पिछले हफ्ते, भारतीय मोटरसाइकिल निर्माता Royal Enfield ने इंडिया में Classic 350 Signals Edition को लॉन्च किया था. Classic 350 Signals Edition इंडिया में Royal Enfield की वो पहली मोटरसाइकिल होगी जिसमें ड्यूल चैनल ABS स्टैण्डर्ड होगा. यूट्यूबर Dino’s Vault ने नयी Classic 350 Signals Edition को टेस्ट ड्राइव किया और ये रहा उनका विचार.

Dino सबसे पहले Classic 350 के नए Classics Edition के डिजाईन के बारे में बात करते हैं. उन्हें इसके ब्लैकड आउट पार्ट्स पसंद आते हैं, जैसे हेडलाइट की हाउसिंग, इंजन, रिम्स, और एग्जॉस्ट. ये पार्ट्स गाड़ी के दो कलर ऑप्शन्स के साथ अच्छा कंट्रास्ट ऑफर करते हैं.

पहला रंग, Airborne Blue, इंडियन एयर फ़ोर्स को एक सलाम है, जो 1960 के दशक से ही Royal Enfields इस्तेमाल कर रही है. ‘Stormrider Sand’ रंग Border Security Force (BSF) के सम्मान में लाया गया है जो अपने 1965 में अपने गठन के बाद से ही इसे इस्तेमाल कर रही है. Dino ये भी बताते हैं की फ्यूल टैंक पर स्टेंसिल किया हुआ नम्बर और नायब लोगो बाइक को एक्सक्लूसिव बनाते हैं. Dino फिर हमें मिलिट्री पैनियर, पैनियर माउंटिंग किट, विंडशील्ड किट, और अलॉय व्हील किट जैसे एक्सेसरीज़ के बारे में बताते हैं.

Royal Enfield Classic 350 Signals Featured

लेकिन, आम Classic 350 को ज़्यादा पसंद नहीं करने वाले रीव्यूर को एक बात आश्चर्यजनक लगती है और वो ये है की RE ने कहा है की उन्होंने बाइक में नए ABS के अलावे मैकेनिक्स में कुछ नहीं बदला है, पर फिर भी Classic 350 Signals Edition बाकी RE बाइक्स से अलग चलती है.

उनका दावा है की आम बाइक के जितना ही वज़न होने के बावजूद, नया Signals एडिशन हल्का लगता है और उसे हैंडल करना बेहद आसान है. Dino फिर ये भी कहते हैं की नयी बाइक की राइड ज़्यादा पेपी है क्योंकि इंजन से मिलने वाला शुरूआती पिक-अप बढ़िया है और उन्हें पहले के मुकाबले इंजन रेव करना ज़्यादा अच्छा लगा.

Dino के मुताबिक़ तीसरा बड़ा बदलाव है गियरबॉक्स, जिसे अब न्यूट्रल में डालना आसान हो गया है, उनके मुताबिक़ पहले वाली बाइक्स में ये करना ज़्यादा मुश्किल था. अंत में वो कहते हैं की बाइक में अभी भी काफी वाइब्रेशन है और इसे शुरुआत में ही अप-शिफ्ट कर बदला जा सकता है. उनके कहना है की टॉप गियर में 60-70 किमी/घंटे पर चलते हुए वाइब्रेशन लगभग गायब हो जाते हैं लेकिन एक बार आप 80 किमी/घंटे से ऊपर जाते हैं तो वाइब्रेशन फिर से वापस आ जाते हैं.

फिर, Dino अंत में बाइक की ब्रेकिंग परफॉरमेंस दिखाते हैं जो अब ड्यूल चैनल ABS के आने से बेहतर हो गयी है. नयी Classic 350 Signals Edition में आगे में 280-एमएम डिस्क ब्रेक है और पीछे में 240-एमएम डिस्क है और दोनों ही वेंटीलेटेड हैं. Dino नयी बाइक के ब्रेकिंग परफॉरमेंस को टेस्ट करने के लिए इसे उबड़-खाबड़ सड़कों पर ले जाते हैं और वो इस रेट्रो क्रूज़र को मात्र 2.2 सेकेण्ड में 55 किमी/घंटे से 0 किमी/घंटे तक ले आते हैं.

RE Classic 350 Signals Edition बिना किसी दिक्कत के उबड़-खाबड़ रास्तों पर चल लेती है और इसमें तेज़-रफ़्तार पर स्थिरता एवं राइड कम्फर्ट ज़्यादा अच्छी है. लेकिन, वो कहते हैं की 135 एमएम ग्राउंड क्लीयरेंस के चलते एक पैसेंजर को बिठाने के बाद आपको उबड़-खाबड़ रास्तों पर संभल कर चलना चाहिए.

वाया — Dino’s Vault

×

Subscibe our Newsletter