Toyota Fortuner और Ford Endeavour से सीखिए बालू में फंसने पर कैसे निकलें

ऑफ-रोडिंग तभी मजेदार साबित हो सकती है जब आपको इसके चुनौतियों की जानकारी हो. बालू के टीलों में ऑफ-रोडिंग बेहद मजेदार हो सकती है लेकिन यहाँ भी ड्राईवर को सारी मुश्किलों की जानकारी होनी चाहिए.

यहाँ हमने तीन अलग SUVs पेश की हैं जो बालू में फँस जाती हैं और बिना किसी बाहरी मदद के निकल भी जाती हैं. तीनों SUVs को इस पोजीशन में रखा गया है की वो अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन कर सकें. पिछले जनरेशन वाली Toyota Fortuner ने पहले हाथ आज़माया. गाड़ी का ड्राईवर काफी धीरे-धीरे एक्सीलीरेटर का इस्तेमाल करता है और टायर्स को स्लिप करने से बचाते हुए बालू से बाहर निकलने की कोशिश करता है. कुछ मिनट के बाद, पिछले जनरेशन वाली Fortuner बालू से बाहर निकल आती है. पुराने जनरेशन वाली Fortuner में ट्रैक्शन कण्ट्रोल नहीं था और सारे इनपुट ड्राईवर को खुद ही करने होते थे.

दूसरे प्रयास में अभी वाली Fortuner उतरती है. इसमें उन्नत A-TRAC सिस्टम है जो एक तरह का ट्रैक्शन कण्ट्रोल सिस्टम है. इलेक्ट्रॉनिक्स के साथ नयी Fortuner यहाँ से आसानी से बिना किसी दिक्कत के निकल आती है. दरअसल, इलेक्ट्रॉनिक्स के चलते पुरानी Fortuner के मुकाबले नयी Fortuner अच्छा प्रदर्शन करती है. ये इस बात को साबित करता है की इलेक्ट्रॉनिक्स गाड़ी की काबिलियत ज़रूर बढाते हैं.

अंत में आती है Ford Endeavour. Toyota Fortuner को टक्कर देने वाली Ford Endeavour ने मार्केट में कई लोगों को अपनी ओर खींचा है. हालांकि Ford Endeavour भी उसी तरीके से ग्रिप पाती है एवं बिना किसी दिक्कत के वहां से निकल आती है.

ये विडियो इस बात को भी दर्शाता है की इन गाड़ियों को जानबूझकर ऐसी जगह पर फंसने के लिए ले जाया गया था. तीनों गाड़ियाँ एक ही तरह की प्रक्रिया से गुज़रती हैं और बिना किसी दिक्कत के निकल आती हैं.

Fortuner Endeavour Sand Stuck

इसके पीछे का रहस्य क्या है?

ऑफ-रोडिंग में काबिलियत अनुभव के बाद ही आता है. लेकिन, कुछ ऐसी चीज़ें हैं जिनका ख़याल आपको ज़रूर रखना चाहिए. पेश हैं कुछ बातें जो आपको ऑफ-रोडिंग के दौरान अपनी गाड़ी को वापस निकालने में मदद करेंगी.

  •     संयम रखें, हड़बड़ी में कुछ भी हासिल नहीं होता. संयम रखकर हालात का मुआयना करें और उसके बाद कदम उठाएं.
  •     टायर्स में हवा हमेशा कम कर लें. इससे टायर ज़मीन से ज़्यादा संपर्क में आता है और गाड़ी को काफी अच्छा ट्रैक्शन देता है. आप हवा को 10-12 PSI कम कर सकते हैं. विडियो में देखी गयी सारी गाड़ियों के टायर में हवा कम थी.
  •     हमेशा आराम से काम करें. ऑफ-रोडिंग के दौरान अचानक से ब्रेक या एक्सीलीरेट करना खतरनाक हो सकता है. अधिकांश ऑफ-रोडिंग सतह फिसलन-भरी होती हैं. हमेश आराम से काम लेना सही होता है.
  •     फंसने पर एक्सीलीरेट ना करें. फंसने पर सबसे बड़ी गलती होता है एक्सीलीरेट करना. इससे आपकी गाड़ी के और बुरी तरह फंसने की संभावना बढ़ जाती है.
  •     अपने पास हमेशा कुछ औज़ार रखें. अगर आप ऑफ-रोडिंग करने जा रहे हैं तो फावड़े और हवा पम्प साथ में रखें. ये दो चीज़ें काफी काम की होती हैं और आपको बेहद मुश्किल हालात से भी निकाल सकती हैं.