आखिर आज भी इतने सारे क्यों हैं Royal Enfield के दीवाने? पेश हैं 10 कारण…

India दुनिया का सबसे बड़ा टू-व्हीलर मार्केट मार्केट है. फिलहाल 1 लाख से ऊपर के कीमत वाली प्रीमियम बाइक्स के कुल सेल्स का 5% हिस्सा होने के बावजूद, ये आकंडे बढ़ रहे हैं. पिछले वित्तीय वर्ष में प्रीमियम बाइक्स की सेल्स लगभग 10 लाख यूनिट्स के आसपास थीं. यहाँ सबसे बड़ी बात ये है की प्रेमुइम मोटरसाइकिल के सेल्स में 80% से ज़्यादा हिस्सेदारी अकेले Royal Enfield की थी. तो ऐसा क्या है जो Royal Enfield मोटरसाइकिल्स को इतना सफल बनाता है? आइये देखते हैं.

ब्रांड

Royal Enfield पूरे दुनिया में टू-व्हीलर्स का सबसे पुराना निर्माता है. ये Harley Davidson से भी पुराना है. इसलिए, इस ब्रांड की लिगेसी काफी अच्छी है. और काफी चार्मिंग होने के चलते, इसकी एक कल्ट फॉलोविंग भी है. इसका रेट्रो डिजाईन और RE इंजन का साउंड कई बाइक शौकीनों की पसंद है.

काफी ज़्यादा भरोसेमंद

जहां Royal Enfield मोटरसाइकिल्स ज़्यादा भरोसेमंद होने के लिए बदनाम हैं, अभी वाली बाइक्स पहले से कहीं ज़्यादा भरोसेमंद हैं. हाँ, अभी भी कुछ क्वालिटी की दिक्कतें हैं, लेकिन कम्पनी इस दिक्कत को दूर करने के लिए कड़ी मेहनत कर रही है. लेटेस्ट Royal Enfields वर्ल्ड-क्लास निर्माण प्रणाली के द्वारा बनाये जाते हैं, जिनमें रोबोट का इस्तेमाल भी शामिल होता है. अभी वाली नए Unit Construction Engine (UCE) पुराने समय वाले कास्ट आयरन AVL मोटर्स से ज़्यादा भरोसेमंद होते हैं. तो मूलतः, REs अब ज़्यादा भरोसेमंद हो गयी हैं और कम्पनी के आत्मविश्वास का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है की वो अब अपने Classic रेंज पर 24 महीने/24,000 किमी की वारंटी देते हैं.

ये चलाने में आसान हो गयी हैं

अभी वाली Royal Enfield मॉडल्स पहले वाले बाइक्स के मुकाबले में चलाने में ज़्यादा आसान हो गयी हैं. इस नयी बाइक में एक इलेक्ट्रिक स्टार्टर, डिस्क ब्रेक, और लेफ्ट-हैण्ड साइड गियर लीवर होता है. पहले वाली REs में गियर-लीवर राईट-हैण्ड साइड पर हुआ करता था जो इन्हें बाकी बाइक्स चलाने वाले लोगों के लिए इसे चलाना मुश्किल बनाता था. अच्छी बात है की ये सब बदल गया है और इसलिए ये मोटरसाइकिल अब ज़्यादा कस्टमर्स को आकर्षित करती है.

ज़्यादा पैसे

Royal Enfield की बाइक्स हमेशा से ही बाकी मोटरसाइकिल्स से ज़्यादा महंगी रही हैं. लेकिन, लोगों के पास बढ़ते हुए पैसे के साथ अब शौक़ीन एक Royal Enfield मोटरसाइकिल आसानी से खरीद सकते हैं. इसने इस मोटरसाइकिल को फेमस करने में एक बड़ा रोल निभाया है.

अपडेटेड शोरूम लाइन-अप

Royal Enfield हमेशा ही लगातार अपडेटेड प्रोडक्ट्स लॉन्च करती रही है. जहां ये नए प्रोडक्ट्स हमेशा पहले वाले वर्शन से अलग नहीं होते ये छोटे-मोटे अपडेट मार्केट में प्रोडक्ट को काफी समय तक फ्रेश रखते हैं. उदाहरण के लिए Redditch एडिशन, Himalayan Sleet, Desert Storm, और हाल में आया Thunderbird X कुछ ऐसे बाइक्स हैं जो ओरिजिनल मॉडल से ज़्यादा फ्रेश लगते हैं.

नवीनता

जहां अधिकांश Royal Enfield मोटरसाइकिल्स रेट्रो होते हैं, वो इंडिया में बिकने वाले जापानी बाइक्स जितने मॉडर्न नहीं होते. और साल-दर-साल और भी ज़्यादा विकसित मॉडल लॉन्च करने के साथ कंपनी इस धारण को बदलने की पूरी कोशिश कर रही है. उदाहरण के लिए कंपनी ने Continental GT लॉन्च किया था जो इंडिया का पहला कैफ़े रेसर था. और Himalayan भी इंडिया में बिकने वाली इकलौती मास-मार्केट एडवेंचर मोटरसाइकिल है.

अगला पड़ाव

जल्द ही, Royal Enfield वो इकलौती इंडियन निर्माता होगी जो पैरेलल ट्विन इंजन ऑफर करेगी. ये एक और बात है जो कंपनी के नए प्रोडक्ट लॉन्च और नवीनता के प्रति प्रतिबद्धता को दर्शाता है. बिल्कुल नया 650-सीसी पैरेलल ट्विन इंजन Interceptor और Continental GT के साथ आएगा. ये बाइक्स इस देश की सबसे किफायती पैरेलल ट्विन बाइक्स होंगी.

इवेंट्स

Royal Enfield ओनर्स को अपना एक अलग तरह का भाईचारा होता है. इसे प्रोमोट करने की आड़ में Royal Enfield कल्चर के प्रचार के लिए कम्पनी कई इवेंट आयोजित करती है जो इन ओनर्स को एक साथ लाता है. और मीडिया एवं बाइकिंग शौक़ीन से इन इवेंट्स को जिस प्रकार का ध्यान मिलता है वो कंपनी का प्रचार ही करता है. Royal Enfield के पॉपुलर इवेंट में Ridermaina, Himalayan Odyssey, और and Tour of Tibet शामिल हैं.

बढ़ते हुए डीलरशिप

हाल के वर्षों में कंपनी का सेल्स नेटवर्क काफी ज़्यादा बढ़ा है. अब कम्पनी ने 367 शहरों में 587 डीलरशिप्स खोल लिए हैं. ये कुछ साल पहले से काफी अलग है जब कंपनी के बहुत कम डीलरशिप हुआ करते थे. सेल्स और सर्विस नेटवर्क के बड़े होने के साथ Royal Enfield अब पहले से ज़्यादा बड़ी हो गयी है.

कस्टमाईज़ेशन

जैसा की हम कहते आये हैं, Royal Enfields इस देश में सबसे ज़्यादा कस्टमाईज़ की जाने वाली बाइक्स हैं. इस ब्रांड ने कई कस्टमाईज़र्स से पार्टनरशिप भी की है और अपने शोरूम में उनके कुछ प्रोडक्ट्स डिस्प्ले भी करती है. किसी और कंपनी ने मोटरसाइकिल कस्टमाईज़ेशन को ऐसे नहीं अपनाया है. ये कई मोटरसाइकिल ओनर्स को अपनी बाइक को एक नायाब लुक देने में मदद करता है.