Mahindra Scorpio से लहराते हुए लोग उड़ा रहे हैं ट्रैफिक नियमों का मखौल [वीडियो]

गाड़ियों में क्षमता से अधिक सवारी बैठाने का चलन भारत में एक तरह से लोगों का लोकतान्त्रिक अधिकार बन चुका है जिसके कारण आए दिन हम सड़कों पर बड़ी संख्या में जानलेवा दुर्घटनाएं भी होती देखते हैं. देश की अनेकों छोटे शहरों और कस्बों में हम लोगों को बहुत से वाहनों पर बाहर लटक कर सफर करते देखते हैं जो कि बेइन्तहा खतरनाक है. इस वीडियो में आप ऐसी ही एक क्षमता से अधिक सवारी लेकर चल रही गाड़ी को देख सकते हैं जो चलता-फिरता “टाइम बम” है.

पुलिस भी करती है रोकने की कोशिश

https://youtu.be/76zPLht8beA

ऐसा प्रतीत होता है कि यह वीडियो तमिलनाडू से है और इसे इसके पीछे चल रहे वाहन से इसे शूट किया गया है. इस Mahindra Scorpio के अंदर इतनी सवारियां हैं कि आप गिन नहीं सकते और गाड़ी के बाहर की ओर तो ऐसा लग रहा है जैसे ये गाड़ी नहीं मधुमक्खी का छत्ता हो जिस पर ढेर सारी मधुमक्खियाँ लटकी हुईं हैं. यह गाड़ी एक बिना डिवाइडर वाली सड़क पर बेहद तेज़ रफ्तार से दौड़ी चले जा रही है और उस पर इसके ड्राईवर महाशय गाड़ी को सड़क पर खतरनाक तरीके से दाएं बाएँ झुलाए पड़े हैं.

वीडियो की शुरुआत में देखा जा सकता है कि कैसे सड़क के सीधे हाथ पर खड़े पुलिसकर्मी ने इस गाड़ी को रोकने की कोशिश की. इसके बाद भी यह गाड़ी और ज़ोर-ज़ोर से लहराते हुए आगे बढ़ती जा रही है. गाड़ी से लटके लोगों को गाड़ी पर अपनी पकड़ बनाए रखने के लिए मशक्कत करते देखा जा सकता है, यहां तक की इनमें से एक इंसान को अपना संतुलन खोते हुए भी देखा जा सकता है. हम देख सकते हैं कि इस Scorpio का पीछे का दरवाज़ा भी खुला हुआ है जिससे लोगों के बाहर गिरने का और भी बड़ा खतरा है.

Scorpio Overload Featured

वीडियो यह तो नहीं दिखाता कि इस गाड़ी का ड्राईवर गाड़ी पर अपना संतुलन खो बैठा है लेकिन देखने से इस गाड़ी की चाल बेहद खतरनाक लग रही है. अगर इस गाड़ी पर लदा एक भी व्यक्ति गाड़ी से छिटक कर नीचे सड़क पर आ गिरता तो यह बेहद जानलेवा, यहाँ तक कि विनाशकारी, भी साबित हो सकता था. एक SUV होने की वजह Scorpio का गुरुत्वाकर्षण केंद्र बहुत ऊंचा होता है जिस कारण ये गाड़ी झोल ज़्यादा खाती है. इसके चलते इस गाड़ी के पलट जाने की संभावना बहुत ज़्यादा रहती है.

क्षमता से ज़्यादा सवारी बैठाने की स्थिति में गाड़ी के ऊपरी भाग का वज़न बढ़ जाता है और गाड़ी के पलटने की संभावनाएं बहुत अधिक बढ़ जातीं हैं. ज़रूरत से ज़्यादा सवारी बैठाना गाड़ी पर संतुलन खो बैठने के पीछे का एक बहुत बड़ा कारण है. साथ ही इस वजह से तेज़ गति पर गाड़ी के टायर भी फ़ट सकते हैं. इस कारण गाड़ी में  क्षमता से अधिक सवारी बिठाने से हर कीमत पर बचना चाहिए.

ओवरलोडिंग: एक आम समस्या

Overload

गाड़ियों में क्षमता से अधिक भार लेकर चलने की समस्या भारत में आम है. अधिकतर व्यावसायिक वाहनों को आप माल से ठूंस-ठूंस कर भरा हुआ सडकों पर दौड़ता देख सकते हैं जो सड़कों को आम लोगों के लिए बेहद खतरनाक बनाते हैं. क्षमता से अधिक भार लेकर चलने से गाड़ी के इंजन पर अधिक ज़ोर पड़ता है और इसका जीवनकाल भी तेज़ी से कम होता जाता है. साथ ही ऐसे वाहनों के बीच सड़क पर बंद पड़ जाने/खराब हो जाने की घटनाएं बढ़ती जातीं हैं और गाड़ी के महंगे पुर्जों को बार बार बदलने की जरूरत होती है.

Overloaded Car

जिन शहरों में सार्वजनिक यातायात व्यवस्था लचर होती है वहां लोगों को यहाँ-वहां जाने के लिए किसी भी उपलब्ध साधन का उपयोग करना पड़ता है. अक्सर सड़कों पर यातायात के साधनों की कमी के कारण लोगों को गाड़ियों के बाहर लटक कर सफर करने पर मजबूर होना पड़ता है. देश के देहाती इलाकों में आप आदमी, औरत, और यहाँ तक कि बच्चों को भी गाड़ियों के बाहर लटक कर सफर करता देख सकते हैं.

इन समस्याओं से निजात तब ही मिल सकती है जब सडकों पर यातायात के नए साधन और वाहनों को बढ़ाया जाए. साथ ही लोगों को भी इस बात को समझना होगा कि इस तरह से सड़कों पर गाड़ियों पर लटक कर यात्रा करना कितना खतरनाक हो सकता है. ऐसी स्थिति में हो सकने वाली दुर्घटनाओं के नतीजों को भी दिमाग में रखना चाहिए.