सरकार के इस प्लान से महाराष्ट्र इलेक्ट्रिक कार ओनर्स हाईवे पर बेफिक्र घूम सकेंगे…

इंडिया में इलेक्ट्रिक गाड़ी चार्ज करने के लिए मूलभूत संरचना ना के बराबर है. इलेक्ट्रिक गाड़ियाँ ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री का भविष्य हैं, और भारत सरकार ने Mumbai-Nagpur हाईवे पर एक नयी परियोजना शुरू की है. इस 820 किलोमीटर के रास्ते में जल्द ही हर 35 किलोमीटर पर इलेक्ट्रिक कार चार्जर लगे होंगे. कुल 50 ई-चार्जिंग स्टेशन बनाये जायेंगे और इस हाईवे पर लगाए जायेंगे.

राज्य का बिजली विभाग MSEDCL इन स्टेशन्स को लगाना शुरू करेगा और ये राज्य एवं केंद्रीय भारी संयत्र मंत्रालय द्वारा फण्ड की जायेगी. हर कॉरिडोर पर 25 चार्जिंग स्टेशन लगाए जायेंगे और Nashik, Aurangabad, Jalgaon एवं Amravati जैसे Tier II शहरों में चार्जिंग स्टेशन आसपास ही लगे होंगे. MSEDCL ने पूरे राज्य में 2020 तक ऐसे 500 स्टेशन लगाने का प्लान बनाया है. ऐसे स्टेशन Mumbai-Nashik, Mumbai-Pune और Mumbai-Ratnagiri कॉरिडोर पर लगाए जायेंगे. MSRDC ने इन ठिकानों को फाइनल कर लिया है और इन स्टेशन को लगाने पर काम कर रही है.

इस कदम से सरकार इलेक्ट्रिक कार खरीदने वालों को अपनी कार शहर के बाहर ले जाने के लिए भी प्रेरित करना चाहती है. फिलहाल, चार्जिंग स्टेशन की कमी के कारण इलेक्ट्रिक कार ओनर्स अपनी कार को शहर के अन्दर ही रखते हैं लेकिन सरकार हाईवे पर भी इन गाड़ियों के इस्तेमाल को बढ़ावा देना चाहती है. एक औसत के मुताबिक़, एक पूरी तरह से चार्जड इलेक्ट्रिक गाड़ी हाईवे पर 120 किलोमीटर तक चल सकती है.

The इसके पहले भारत सरकार ने इंडिया को ऑल-इलेक्ट्रिक मार्केट बनाने के लिए 2030 तक का लक्ष्य रखा था. लेकिन बाद में इस टारगेट को वापस ले लिया गया था. सरकार अभी भी इलेक्ट्रिक कार्स को अपनाने पर ज़ोर दे रही है और उसने 10,000 इलेक्ट्रिक कार्स खरीदने का मन बनाया है. ये गाड़ियाँ सरकारी अधिकारियों को आधिकारिक गाड़ी के रूप में आवंटित की जायेंगी.

महाराष्ट्र सरकार इलेक्ट्रिक कार खरीदने वालों को बढ़ावा देने पर भी काम कर रही है. इसके डिटेल्स अभी तक सामने नहीं आये हैं लेकिन सरकार जल्द ही इसके लिए प्लान बनाएगी.