टार्ज़न वंडर कार -- कुछ ऐसी दिखती है अब ये !

टार्ज़न वंडर कार — कुछ ऐसी दिखती है अब ये !

टार्ज़न वंडर कार को दिलीप छाबरिया ने डिजायन किया था और ये ये कार 2005 में बनी हिंदी फिल्म ‘टार्ज़न — द वंडर कार’ में इस्तेमाल हुई थी | इस कर ने अपने लुक्स और स्टंट्स से काफी वाह-वाही और फैन्स बटोरे क्योंकि ये कुछ ऐसे स्टंट्स करती नज़र आई जो कि एक साधारण कर नहीं कर सकती थी | मगर अब से मुंबई की एक सड़क पर लावारिस पड़ी है और इसका कोई मालिक नहीं |

मगर क्यों

फिल्म में इस्तेमाल होने के बाद ये कार भारत में बहुत प्रसिद्ध हुई | दिलीप छाबरिया ने इसे बेचने का फैसला किया मगर इसकी कीमत रखी 2 करोड़ रुपया | इस गाड़ी की इतनी ज्यादा कीमत देने के लिए कोई राज़ी नहीं था | कुछ साल बाद दिलीप छाबरिया ने इससे 35 लाख में बेचने की कोशिश की मगर तब भी कोई खरीददार इसे लेने के लिए राजी नहीं हुआ | नतीजतन इसे कई पुरानी गाड़ियों के साथ लावारिस छोड़ दिया गया | और मुंबई की कुछ बरसातों के बाद गाड़ी अब खस्ता हालत में हैं |
टार्ज़न वंडर कार सेकंड जनरेशन Toyota MR2 पर आधारित थी | इसमें मिड-इन्जिंड लेआउट था और ये रियर-व्हील ड्राइव थी | दिलीप छाबरिया ने इस कार की बाहरी बॉडी पर काम किया था और इसे सुपरकार जैसा लुक दिया | इसी वजह से ये कार जहाँ भी जाती थी, लोगों का ध्यान आकर्षित करती थी | बहुत कम लोगों को पता होगा की वंडर कार एक और कस्टम-मेड कार — द इनफिडेल — पर आधारित थी जिसका अनावरण DC ने 2002 में किया था |

कुछ ऐसी दिखती थी ये कार अपने अच्छे दिनों में :

अगर हम उस कार की बात करें जो टार्ज़न वंडर कार की बुनियाद बनीं — MR2 — तो ये जापानी कार एक टू-सीटर के तौर पर लांच की गयी थी और इसका मकसद था एक सस्ती कार के तौर पर बाज़ार में जगह बनाना | इसमें एक टू-लीटर इंजन था जिसमें नैचुरली एस्पिरेटेड और टर्बोचार्ज्ड पेट्रोल विकल्प के तौर पर मजूद थे | जहाँ नैचुरली एस्पिरेटेड इंजन 163 BHP पैदा करता है, टर्बोचार्ज्ड पेट्रोल इंजन 218 BHP उत्पन्न करता था | इस कार में 5-स्पीड मन्युअल और 4-स्पीड आटोमेटिक गियरबॉक्स विकल्प थे और ये जापान, अमेरिका, और यूरोप के बाज़ार में उतारी गयी थी | पहली MR2 का निर्माण 1984 में किया गया था और आखरी कार 2007 में बनी थी |

कार और बाइक्स की Latest वीडियोज़ देखने के लिए सब्स्क्राइब करेंCarToq Hindi

×

Subscibe our Newsletter