Thatched Roof on a Jaguar XE? Only in India! लाखों की Jaguar XE पर लगा 'चिक' का देसी जुगाड़!

लाखों की Jaguar XE पर लगा ‘चिक’ का देसी जुगाड़!

भारत में गर्मी काफी तीव्र होती है. देशभर में गर्मी का मौसम काफी लम्बे समय तक चलता है और इस दौरान यहाँ पारा 45 डिग्री सेल्सियस तक पहुँच जाता है. ऐसे में कई बार कई कार्स का एसी उतने अच्छे से काम नहीं करता. गर्मी के मौसम में कई यूरोपियन कार्स का एसी उतना प्रभावी नहीं रह जाता. इसलिए लोग कई तरह के तरीके अपनाकर कार को ठंडा रखने की कोशिश करते हैं. पेश है तेलंगाना के हैदराबाद से एक ऐसे ही अजीब विडियो जिसमें एक Jaguar XE पर एक चिक को लगे हुए देखा जा सकता है.

Jaguar में लगा देसी जुगाड़

Jaguar 1

इस कार में चिक को इसके छत पर लगाया गया है. इस चिक लगे हुए काली गाड़ी को भरे ट्रैफिक में देखा गया था और इसकी तस्वीरें इन्टरनेट पर वायरल हो गयी हैं. हमें भी किसी ने ये तस्वीरें भेजीं. इन दो तस्वीरों में देखा जा सकता है की इस गाड़ी पर सूखे हुए तीलियों की चिक लगी हुई है. ऐसे में इसपर पानी डाला जा सकता है और जब इसपर धूप लगती है तो पानी भाप बन कर उड़ जाता है जिससे नीचे की सतह ठंडी रहती है. ऐसा अक्सर घरों को ठंडा रखने के लिए किया जाता है लेकिन ऐसा कार पर पहली बार देखा गया है और वो भी एक Jaguar पर.

चिक के नीचे देखे जाने वाले नीले प्लास्टिक शीट का काम Jaguar के रूफ को पानी से मुक्त रखना है. ये एक इमारत की छत को ठंडा रखने के लिए तो अच्छा है लेकिन पता नहीं कार पर इसका क्या असर होगा. बिना एसी चलाये अगर कार को खड़ा कर दिया जाए तो इसका केबिन बंद होने के कारण काफी गर्म हो जाता है. कार के अन्दर ग्रीनहाउस इफ़ेक्ट देखने को मिलता है और ऐसा उसमें लगे बड़े कांच के हिस्सों के चलते होता है. इसलिए सनरूफ लगीं कार्स जल्दी गर्म होती हैं एवं खड़ी रहने पर जल्दी गर्म हो जाती हैं.

Jaguar 2

तस्वीरों में देखी जाने वाली Jaguar XE में एक बड़ा सनरूफ लगा है और इसके काले पेंट की वजह से ये काफी जल्दी गर्म हो जाती होगी. हो सकता है की इस Jaguar के छत पर लगी चिक बड़े अच्छे से काम करती हो और इसके चलते इसके केबिन में थोड़ी ठंडक रहती हो. इससे गाड़ी का एसी भी ज्यादा असरदार हो जाता है. लेकिन, अगर इस चिक को अच्छे से नहीं लगाया जाए तो तेज़ रफ़्तार पर मुड़ते हुए या ब्रेकिंग के दौरान ये गिर भी सकती है. अब जब ऐसा आईडिया लोगों के दिमाग में आने लगा है, देखना होगा कितने लोग ऐसी तरकीबों को आजमाते हैं.

×

Subscibe our Newsletter