Tesla Model X बनाम Lamborghini Urus: जानिये दुनिया की सबसे तेज़ कार्स की रेस में कौन बना विजेता

फ़िलहाल दुनियाभर के ऑटो उद्योग के सामने सबसे बड़ा सवाल इलेक्ट्रिक कार्स के भविष्य को लेकर है. जहाँ कई विशेषज्ञों और कार प्रेमियों का कहना है कि पेट्रोल-डीजल कार्स ही सबसे बेहतर विकल्प हैं वहीँ पर्यावरण प्रदूषण की समस्या को देखते हुए इलेक्ट्रिक कार्स के भविष्य को नकारा नहीं जा सकता. कार प्रेमियों को इलेक्ट्रिक कार्स से सबसे बड़ी शिकायत यह है कि इनमें V8 या V10 जैसे शक्तिशाली इंजन के अनुभव का एहसास नहीं मिलता.

अपने नवीनतम विडियो में DragTimes ने Lamborghini Urus और Tesla Model X के बीच आमने-सामने का मुक़ाबला करवाया. आइये देखते हैं यह विडियो और जानते हैं कि इनमें से सबसे दमदार कार कौन सी है.

इस रेस के कुल 4 चरण आयोजित किये गए थे और इन दोनों SUVs ने 2-2 चरणों में सफलता हासिल की. आखिरी चरण में दोनों कार्स के 20 मील प्रति घंटे की रफ़्तार पकड़ने के बाद रेस शुरू की गयी और इसमें Tesla ने अपनी प्रतिद्वंद्वी Urus को काफी पीछे छोड़ दिया. जैसा कि आप में कई लोग जानते होंगे, रफ़्तार पकड़ने के मामले में इलेक्ट्रिक कार्स का कोई सानी नहीं है. ऐसा इसलिए क्योंकि ऐसी कार्स का संचालन करने वाली बैटरी शुरू से ही सामान टॉर्क पैदा करती हैं और उन्हें किसी भी प्रकार का ईधन इस्तेमाल नहीं करना पड़ता. दूसरी और Lamborghini Urus में आपको पारंपरिक V8 इंजन मिलता है जिसमें ईधन के जलने पर ही पॉवर और टॉर्क पैदा होती है.

अगर इंजन की बात करें तो Urus में अति-शक्तिशाली 4-लीटर ट्विन-टर्बोचार्ज  V8 इंजन इस्तेमाल किया जाता है जो 641 बीएचपी पॉवर और 850 एनएम टॉर्क पैदा करता है. इस इंजन को एक 8-स्पीड ऑटोमैटिक गियरबॉक्स के साथ जोड़ा जाता है और यह पावरफुल SUV मात्र 3.6 सेकंड में 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार पकड़ लेती है. यह फ़िलहाल दुनिया की सबसे अधिक ताकतवर SUVs में से एक है. बताते चलें की Urus इस इतालवी कार निर्माता की अब तक की बनायीं दूसरी SUV ही है. इस कंपनी की पहली SUV का नाम LM002 था.

Urus 1

दूसरी और Tesla Model X में आपको मिलती हैं ट्विन-इलेक्ट्रिक मोटर जो 588 बीएचपी पॉवर और 1247 एनएम टॉर्क पैदा करती हैं. इतनी उच्च पॉवर और टॉर्क के कारण यह SUV मात्र 2.9 सेकंड में 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार प्राप्त कर लेती है जो कई स्पोर्ट्स कार्स से भी ज्यादा है. मगर वज़न के मामले में यह कार Lamborghini से भारी है और इसी कारण इसकी उच्चतम गति भी थोड़ी कम है. बाज़ार में उपलब्ध अनेकों इलेक्ट्रिक कार्स के विकल्पों में Model X हमारे हिसाब से सबसे बेहतरीन विकल्प है.

और तो और, कुछ अमीर भारतीयों ने तो इस इलेक्ट्रिक कार का आयात भी करना शुरू कर दिया है. इतना ही नहीं, एक भारतीय एजेंट इन कार्स के लिए निजी तौर पर आर्डर भी ले रहा है. इस कार की कीमत 1.5 करोड़ रूपए से शुरू होती है.

Tesla Model X

तो सवाल अब भी बरकरार है — इलेक्ट्रिक या पेट्रोल-डीजल कार? जहाँ एक और हम पारंपरिक पेट्रोल-डीजल कार्स को अलविदा नहीं कहना चाहते वहीँ दूसरी ओर इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि इलेक्ट्री कार्स ही ऑटोमोबाइल का भविष्य हैं. यह कार्स परफॉरमेंस के मामले में बेमिसाल हैं और हमारे बहुमूल्य पर्यावरण की भी रक्षा करते हैं. मगर यह भी एक तथ्य है कि दुनिया एक झटके में इलेक्ट्रिक वाहनों को नहीं अपना सकती और इस और हमें धीरे-धीरे ही अग्रसर होना होगा.