चोंकाने वाला खुलासा! Seat belt के इस्तेमाल के मामले में नार्थ इंडियंस कहीं आगे हैं साउथ इंडियंस से

चोंकाने वाला खुलासा! Seat belt के इस्तेमाल के मामले में नार्थ इंडियंस कहीं आगे हैं साउथ इंडियंस से

Maruti Suzuki के देशव्यापी सीटबेल्ट सर्वेक्षण ने कुछ मज़ेदार खुलासे किये हैं और इन में से कुछ तो बिलकुल ही चोंकाने वाले हैं | देश भर के 2,505 उत्तरदाताओं के जवाबों का विश्लेषण करने की बाद पता चलता है कि ड्राइवर्स, को-ड्राइवर्स, और रियर पसेंजर्स में सीटबेल्ट ना इस्तेमाल करने के मामले में साउथ इंडिया पहले स्थान पर है |

 

इस मामले में नार्थ इंडिया की परफॉरमेंस कहीं बेहतर है और केवल 42 प्रतिशत कार चालक सीटबेल्ट का इस्तेमाल नहीं करते | सीटबेल्ट ना इस्तेमाल करने के मामले में ईस्ट इंडिया दूसरे स्थान पर है और 79 प्रतिशत कार चालक सीटबेल्ट का इस्तेमाल नहीं करते | दूसरी तरफ वेस्ट इंडिया से 60 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने माना कि वो सीटबेल्ट का इस्तेमाल नहीं करते |

किसी भी कार में सीटबेल्ट सेफ्टी की पहली लेयर होती है और कार में बैठे सभी लोगों के लिए ये अत्यंत ज़रूरी है की वे इसका इस्तेमाल करें | सीटबेल्ट ना पहनने से कार के ड्राईवर और कोड्राईवर को हादसों की सूरत में नुकसान का ज्यादा खतरा होता है | हादसे की सूरत में कार में बैठे लोग अन्दर एक दुसरे से टकरा सकते हैं या फिर कार के इंटीरियर्स से भी चोट खा सकते हैं |

इससे गहरी चोटें और कुछ हादसों में जान का नुकसान भी हो सकता है | सीटबेल्ट पहनने की वजह से हादसों के दौरान लोग कार के बाहर भी जा गिरे हैं | और कई बाहर गिरने के बाद दूसरी गाड़ियों द्वारा कुचले जा चुके हैं |

सीटबेल्ट अवश्य पहनें | ये आपकी जिंदगी बचा सकती है |  

आम धारणा के विपरीत, अयरबैग्स युक्त कार्स में भी ड्राईवर और पसेंजर्स को हमेशा सीटबेल्ट का इस्तेमाल करना चाहिए | ऐसा इसलिए भी है क्योंकि कई कर्स में अयरबैग्स तभी काम करते हैं जब आपने सीटबेल्ट पहन रखा हो | कई बार ऐसा हुआ है कि हादसों के दौरान अयरबैग्स खुल जाने से सीटबेल्ट ना पहने हुए यात्री बुरी तरह घायल हुए हैं | कुल मिलकर सीटबेल्ट तब भी पहनी जानी चाहिए जब कार अयरबैग्स युक्त हो |

Maruti के सीनियर एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर (मार्केटिंग और सेल्स) आर.अस. कलसी इसकी पुष्टि करते हैं:

अयरबैग्स को लेकर काफी कुछ कहा जा रहा है पर अयरबैग्स अकेले पसेंजर्स का बचाव नहीं कर सकते | सीटबेल्ट के बिना तो ये और खतरनाक हैं |

×

Subscibe our Newsletter