पहले 17.5 लाख रूपए में बेची Audi A4, फिर उसे वापस चुरा भी लिया!

एक इंजीनियरिंग स्टूडेंट ने अपनी कार को Ghaziabad के एक आर्टिस्ट को बेचा लेकिन फिर उसे वापस चुरा लिया. Ghaziabad के जाने-माने शिल्पकार Sarfarazudin ने Manoj Singhal के खिलाफ उन्हें बेचे गए एक Audi A4 सेडान की चोरी के लिए केस दर्ज किया है.

वरीय पुलिस कमिश्नर ने कहा Sarfarazudin ने Hazrat Nizamuddin पुलिस स्टेशन में केस दर्ज कराया की Manoj उनकी January 2017 में खरीदी हुई कार चला कर ले गए. उन्होंने Audi A4 सेडान को 17.5 लाख रूपए में खरीदा और अभियुक्त को 50,000 रूपए डाउनपेमेंट के तौर पर दिया. डाउनपेमेंट के बाद कार पीड़ित को दे दी गयी थी. अगले कुछ महीनों में इन्टरनेट बैंकिंग के द्वारा किश्तों में 14 लाख रूपए का भुगतान किया गया था. लेकिन Manoj ने पूरे पैसे मिलने तक रजिस्ट्रेशन के कागज़ Sarfarazudin के नाम ट्रान्सफर करने से मना कर दिया.

15 March को Manoj Singhal ने पीड़ित को फाइनल पेमेंट के लिए Delhi National Zoological Park बुलाया. Sarfarazudin अपने पत्नी के साथ Manoj से मिलने गए और पेमेंट के लिए कैंटीन मैं बैठ गए. लेकिन, बातचीत के बाद दोनों पार्टी अंतिम कीमत पर नहीं पहुँच पाए. बातचीत के बाद Manoj ने Audi A4 की डुप्लीकेट चाबी इस्तेमाल की और कार चला कर ले गए. Manoj ने गाड़ी को हैण्डओवर करते वक़्त कथित तौर पर खरीददार को गाड़ी की डुप्लीकेट चाबी नहीं दी थी.

शिकायत के बाद Manoj को पूछताछ के लिए बुलाया गया लेकिन उन्होंने जांच में मदद नहीं की. जब अभियुक्त ने जांच में मदद नहीं की उनके नाम एक गैर-ज़मानती वारंट जारी कर दिया गया और उनका तकनीकी सर्विलांस किया जाने लगा. सर्विलांस के एक दिन बाद Singhal को Uttrakhand के Kashipur से अरेस्ट किया गया और कार को उनके Karol Bagh के Bidanpur में उनके मोबाइल शॉप से रिकवर किया गया. Manoj Singhal एक B.Tech ग्रेजुएट हैं जो दुकान चलाते हुए M.Tech कर रहे हैं. आर्टिस्ट को बेची गयी Audi A4 दिल्ली में कैब के रूप में चलाई जा रही थी.

कार बेच या खरीद रहे हैं? सावधान रहिये

ऑटोमोबाइल्स के खरीददार और बेचने वालों से डील करते हुए आपको ज़्यादा सावधान रहना चाहिए. पहले ऐसे कई मामले सामने आये हैं जहां सेलर या कस्टमर को धोखा मिला है. सेकंड हैण्ड कार या बाइक खरीदते वक़्त कुछ चीज़ें दिमाग में ज़रूर रखनी चाहिए.

  • अगर डील सुनने में बहुत अच्छी लग रही है, ये एक स्कैम हो सकता है.
  • पेमेंट की रसीद हमेशा रखें. कभी भी कैश में डील नहीं करें, बिना रसीद की पेमेंट आपके लिए महंगी साबित हो सकती है.
  • कभी भी सेलर या कस्टमर को पैसे देने के लिए सुनसान जगह पर नहीं मिलें. ऐसे डील के लिए सार्वजनिक जगह सबसे अच्छी होती है.
  • हमेशा इस बात को सुनिश्चित कर लें की हैण्डओवर के वक़्त ही गाड़ी का रजिस्ट्रेशन आपके नाम हो जाए.
  • हमेशा डुप्लीकेट चाबी ले लें. अगर ओनर कहता है की डुप्लीकेट चाबी खो गयी है या चोरी हो गयी है तो लॉक ज़रूर बदलवा लें.

सोर्स