Royal Enfields आख़िरकार बन गयी है नए ज़माने की बाइक: 10 चीज़ें जो यह दर्शाती हैं 

Royal Enfield दुनिया की सबसे पुरानी मोटरसाइकिल बनाने वाली कंपनी है और आज भी इसकी बाइक्स की डिमांड में कहीं कोई कमी नहीं आई है. कंपनी ने हमेशा से ही अपनी बाइक्स को एक रेट्रो लुक दिया है जो पुरानी मोटरसाइकल्स के दीवानों में ख़ास प्रसिद्ध हुआ. मगर अपनी इस स्टाइलिंग की वजह से युवाओं के एक हिस्से ने इस बाइक से परहेज़ भी किया और कहा की कंपनी नए ज़माने में पुरानी नीति पर चलकर प्रतिद्वंद्वियों को टक्कर नहीं दे सकती है. मगर अब हम यकीन से कह सकते हैं की Royal Enfield मोटरसाइकिल नए ज़माने के साथ कदम से कदम मिलकर चल रही हैं. यह हैं वे 10 तथ्य जो इस बात की पुष्टि करते हैं.

ड्यूल-चैनल एंटी-लॉक ब्रेक्स सिस्टम (ABS)

Signals Airborne Blue Thematic 01 1

Royal Enfield ने हाल ही में Classic 350 Signals Edition भारत में लॉन्च की है जो ड्यूल-चैनल एंटी-लॉक ब्रेक्स के साथ भारत में कंपनी की पहली पेशकश है. आने वाले महीनों में Royal Enfield यह फीचर अपनी सभी बाइक्स में उपलब्ध कराएगी. ऐसा इसलिए भी हुआ क्योंकि अगले साल से भारत में 125-सीसी से ऊपर की बाइक्स में यह ABS अनिवार्य हो जायेगा.

नया पैरेलल ट्विन इंजन

Royal Enfield Twin Engine

Royal Enfield ने EICMA 2017 में Interceptor 650 और Continental GT 650 लॉन्च की थीं. इन नयी मोटरसाइकल्स में आपको मिलता है Enfield का नया पैरेलल ट्विन इंजन. यह एयर-कूल्ड फ्यूल-इन्जेक्टड इंजन पैदा करता 47 बीएचपी पॉवर और 52 एनएम टॉर्क. इसमें इस्तेमाल हुई नयी पॉवर-ट्रेन Royal Enfield India का पहला पैरेलल ट्विन इंजन है.

नया गियरबॉक्स और क्लच

अपने नए पैरेलल ट्विन इंजन के साथ ही नयी 650-सीसी Royal Enfields में आपको मिलेगा एक नया विकसित किया गया 6-स्पीड गियरबॉक्स. अब तक Royal Enfield एक 5-स्पीड ट्रांसमिशन उपलब्ध कराती थी पर यह नया गियरबॉक्स कंपनी को उसके प्रतिद्वंद्वियों को हराने में मदद करेगा.

इसी के साथ Royal Enfield अपनी 650-सीसी की नयी बाइक्स में स्लिपर क्लच भी उपलब्ध कराएगी. उम्मीद की जा रही है की कम्पनी जल्द ही और भी बाइक्स में साल के अंत तक यह फीचर उपलब्ध कराएगी.

फ्यूल-इंजेक्शन

Royal Enfield

Royal Enfield अब अपनी 411-सीसी इंजन वाली मोटरसाइकिल Himalayan और 500-सीसी सिंगल-सिलिंडर बाइक्स के साथ फ्यूल-इंजेक्शन फीचर उपलब्ध करा रही है. यह दर्शाता है की कंपनी वक़्त के साथ आगे बढ़ी है. मगर इन बाइक्स के भारतीय संस्करण में ऑक्सीजन सेंसर अब भी नहीं है. भारत में इस्तेमाल होने वाली बाइक्स का फ्यूल-इंजेक्शन ओपन-लूप होगा. इसका मतलब यह है की ऊँची जगहों पर सफ़र करते समय ऑक्सीजन का स्तर कम हुआ तो आप की बाइक ऑटोमैटिक एडजस्ट नहीं कर पायेगी. भारत से निर्यात की जाने वाली बाइक्स में क्लोज-लूप सिस्टम और ऑक्सीजन सेंसर दोनों ही मौजूद हैं.

डिस्क ब्रेक

Royal Enfield Rear Disc

जहाँ फ्रंट-व्हील में डिस्क ब्रेक भारतीय सड़कों पर अब एक आम बात हो चुकी है वहीँ रियर डिस्क केवल परफॉरमेंस बाइक्स में ही दिए जाते हैं. Royal Enfield अपनी Classic, Thunderbird, और Himalayan जैसी बाइक्स में रियर डिस्क ब्रेक का विकल्प देती है. यह साधारण ब्रेक से कहीं ज्यादा ताकतवर हैं और बाइक की हैंडलिंग को भी बेहतर बनाते हैं.

उन्नत प्रोडक्शन तकनीक

Royal Enfield 3

Royal Enfield ने अपनी बाइक्स बनाने के लिए नयी तकनीक का इस्तेमाल शुरू कर दिया है और इसमें शामिल है Computer Numerical Control (CNC) मशीन. इस के अंतर्गत कंप्यूटर ग्राफ़िक और इनपुट की मदद से मोटरसाइकिल के पार्ट्स बनाये जाते हैं और इससे गाड़ी में खराबी आने की सम्भावना भी कम होती है. इसके साथ ही Royal Enfield अपनी बाइक्स की डिजाइनिंग में भी कंप्यूटर प्रोग्राम का इस्तेमाल करती है. नयी तकनीक के इस्तेमाल से कंपनी को प्रोडक्शन बढ़ाने में सफलता मिली है और बाइक्स की डिलीवरी तेज हुई है.

पेंट शॉप

Royal Enfield Robots 1

Royal Enfield अपनी बाइक्स के प्रोडक्शन में रोबोट्स का भी काफी इस्तेमाल करती है और यह बात तब और भी ख़ास हो जाती है जब बात आती है बाइक को पेंट करने की. रोबोटिक आर्म्स का इस्तेमाल कर बाइक को पेंट करने में लगने वाला समय कम किया जाता है और काम में सफाई भी आती है.

उन्नत UCE इंजन

Royal Enfield 2

Royal Enfield ने अब अपने पुराने लोहे के बने इंजन का इस्तेमाल बंद कर एक नए एडवांस्ड Unit Construction Engine (UCE) का प्रयोग शुरू कर दिया है. UCE इंजन इस्तेमाल करने के काफी सारे फायदे हैं और इनमें सबसे बड़ा है तेल के अधिक प्रवाह से बाइक की लाइफ बढ़ना. इस इंजन से बाइक की परफॉरमेंस में खासी बढ़ोतरी होती है और रख-रखाव में खर्चा भी कम आता है.

UCE इंजन से गियरबॉक्स की परफॉरमेंस भी सुधरती है और ऊँचे रास्तों पर बाइक चलाना एक मज़ेदार अनुभव बन जाता है.

आख़िरकार आ गया एक ओवरहेड कैम इंजन

Royal Enfield 1

जब Royal Enfield ने अपनी पहली एडवेंचर टूर मोटरसाइकिल Himalayan लॉन्च की तो पहली बार ओवरहेड कैम इंजन की दुनिया में प्रवेश किया. कंपनी भले ही इस क्षेत्र में अपने प्रतिद्वंद्वियों की तुलना में काफी देर से आई हो पर अब इस एडवांस्ड तकनीक को अपनी हर बाइक में उपलब्ध करा रही है.

इलेक्ट्रिक बाइक्स

Royal Enfield बाइक्स से निकलने वाली आवाज़ इसके प्रेमियों के बीच एक ख़ास आकर्षण है मगर कंपनी एक ऐसी तकनीक पर काम कर रही जिससे इस आवाज़ को दबाया जा सके. Royal Enfield एक इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल पर काम कर रही है और कंपनी की पहली ‘साइलेंट’ बाइक 2020 तक बाज़ार में आने की उम्मीद है. यह दर्शाता है की कम्पनी अब भविष्य की और देख रही है ताकि बदलते वक्त में बाज़ार में मौजूद सभी प्रतिद्वंद्वियों को हराया जा सके.