मत कीजिये Royal Enfield बॉबर का इंतज़ार, पढ़िए CEO Sid Lal का बयान

भारतीय मोटरसाइकल निर्माता Royal Enfield की फिलहाल अधिक क्षमता वाले इंजन वाली बाइक्स बनाने की कोई मंशा नहीं है क्योंकि अपने सेगमेंट में बाज़ार का नेतृत्व कर रही इस कंपनी का कहना है कि अपनी आकांक्षाओं की पूर्ति के लिए कंपनी को उत्पादों की लम्बी-चौड़ी श्रृंखला की कोई ज़रूरत नहीं है. यह बयान Royal Enfield के मालिक Siddhartha Lal द्वारा Economic Times के साथ एक साक्षात्कार के दौरान दिए गए कई अन्य बयानों में से एक है.

Concept Kx Royal Enfield

Eicher Motors के CEO, Sid Lal से इस प्रकाशन के साथ चल रही बात-चीत के दौरान जब यह पूछा गया कि क्या Royal Enfield एक कदम और आगे बढ़ अधिक क्षमता वाले इंजन वाली बाइक्स को बाज़ार में उतारने की तैयारी में है तो Lal ने जवाब में कहा कि,

हमें 350 से 500 सीसी बाइक्स से होते हुए यहां तक पहुंचने दशकों लग गए. अधिक क्षमता वाली बाइक की ओर कदम बढ़ाने में कंपनी को कोई गुरेज़ नहीं लेकिन फिलहाल हमारा ऐसा कोई इरादा नहीं है क्योंकि हमारा मानना है कि कंपनी के पास इससे (इन दो नई मोटरसाइकल्स) भारतीय और वैश्विक बाज़ारों में 650 सीसी सेगमेंट पर करने के लिए बहुत से काम बाकी हैं. हम Classic के जैसे कम काम लेकिन उसे बेहतरीन ढंग से पूरा करने में भरोसा रखते हैं. कुछ अन्य मोटरसाइकल निर्माताओं की इस मामले में रणनीति भिन्न हो सकती है लेकिन हम केवल अपनी आकांक्षाओं की पूर्ति के लिए उत्पादों की लम्बी-चौड़ी श्रृंखला की ज़रूरत नहीं समझते. हम दो-चार उम्दा दर्ज़े के उत्पादों से ही खुश हैं जैसे की Classic थी और उम्मीद है की Interceptor भी बनेगी. हमारे लिए इतना ही काफी है. यकीनन फिलहाल कई प्रोजेक्ट्स पर काम चल रहा है और आगे कई रोचक चीज़ें उजागर होंगी. EICMA (Milan, Italy में आयोजित मोटरसाइकल शो) में प्रदर्शित किया गया हमारा कॉन्सेप्ट KX अभी भी अपने कॉन्सेप्ट स्वरुप में ही है. हम अभी इस बाइक के मामले में ग्राहकों की नब्ज़ टटोल रहे हैं और अगर हम इस बाइक को बाज़ार में उतारने का फैसला लेते हैं तो यह 650 से बड़ी मोटरसाइकल होगी, लेकिन हमने अभी तक इस मामले में कोई भी फैसला नहीं लिया है.

Sid Lal की इन टिप्पणियों के बाद, Milan में आयोजित EICMA 2018 में 838 सीसी KX कॉन्सेप्ट के अनावरण से उत्साहित Royal Enfield के फैन्स को एक बड़े इंजन वाली Bobber उतारे जाने की बात अपने दिमागे से निकाल देनी चाहिए. EICMA 2018 में प्रदर्शित किए गए मॉडल में एक 838 सीसी V-Twin इंजन लगा है जिसे Indian Motorcycles ब्रैंड के मालिक Polaris की मदद से विकसित किया गया है. EICMA 2018 में प्रदर्शित मोटरसाइकल का इंजन और अन्य बॉडी पार्ट्स फोम के बने हुए थे. इस लिहाज़ से पक्के तौर पर कुछ नहीं कहा जा सकता की आज की तारीख में यह इंजन और बाइक कितने प्रतिशत तैयार किए जा चुके हैं.

इस ही साक्षात्कार में Sid Lal ने इस बात की जानकारी भी दी है कि Royal Enfield के सभी नए उत्पाद अप्रैल 2020 में लागू किए जाने वाले नए BS-VI उत्सर्जन नियमों के अनुकूल हैं और वो पहले ही इन्हें नियमों से ज़्यादा सख्त मानदंडों पर टेस्ट कर रहे हैं. Sid Lal ने कहा कि,

हम पूरी तरह से तैयार हैं. हमें अपने किसी भी नए उत्पाद को बाज़ार में उतारने में साढ़े-तीन से चार साल का वक़्त लगता है. हम लम्बे अरसे से अपने सभी उत्पादों को BS-VI नियमों के अनुकूल ढालने के काम में जुटे हैं. हमारा मानना है कि हमारे पास BS-VI नियमों के अनुकूल उतारे जाने के लिए नए उत्पादों की एक रोचक श्रृंखला मौजूद है. हमारे द्वारा की गयीं सभी टेस्टिंग में हमारे सभी उत्पाद BS-VI उत्सर्जन नियमों के पैमाने से निचले स्तर का उत्सर्जन कर रहे हैं. तो अगर हम विशुद्ध तकनीकी के लिहाज़ से देखें तो हम उत्सर्जन नियमों का पूरा-पूरा पालन कर रहे हैं. लेकिन अब हमेशा की तरह पूरी बात टेस्टिंग, वैधता, सप्लाई चेन की ही बचती है. इस मामले में, सप्लाई चेन ज़्यादा मायने रखता है क्योंकि अपने 70,000 से 80,000 मोटरसाइकल (प्रति माह) के उत्पादन को BS-IV से BS-VI में परिवर्तित करना कोई आसान काम नहीं. ये काफी बड़ा सप्लाई चेन है. फिलहाल हमारा सारा ध्यान इसी काम को पूरा करने पर है. यह बात केवल supply chain की ही नहीं, इसमें वितरण, हमारा सर्विस नेटवर्क का जाल, पार्ट्स — सभी पहलुओं में बदलाव की ज़रुरत है. लेकिन हम मार्च 2020 की समय सीमा के पहले बिल्कुल तैयार रहेंगे.