पुलिस ने जब तोड़े Mahindra Scorpio, Ford Endeavour, और Figo Freestyle पर लगे गैरकानूनी नंबर प्लेट और हूटर (वीडियो)

वैसे तो भारत में गाड़ियों पर गैरकानूनी नंबर प्लेट और हॉर्न के इस्तेमाल के खिलाफ सख्त कानून मौजूद हैं लेकिन आपको सैकड़ों ऐसे वाहन सडकों पर दौड़ते दिख जाएंगे जो इन नियमों की धज्जियां उड़ाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ते.  मध्यप्रदेश के देवास की पुलिस ने ऐसी ही गैरकानूनी नंबर प्लाटों और हूटेर्स को कार्स से हटाने के लिए एक विशेष मुहिम छेड़ी है.

इस वीडियो में आप देख सकते हैं कि कैसे पुलिस अधिकारी मुस्तैदी से गाड़ियों को रोक उन पर लगे गैरकानूनी हिस्सों को निकाल रहे हैं.

पुलिस की यह टुकड़ी किसी भी वाहन को गैरकानूनी नेमप्लेट या नंबर प्लेट के इस्तेमाल से रोकने की विशेष मुहिम पर है. कई ऐसे वाहन देखे जा सकते हैं जिनकी नंबर प्लेट पर नाम और ओहदा लिखा हुआ है जो कि गैरकानूनी है. ऐसी नंबर प्लेट वाली अधिकतर कार्स किसी न किसी राजनीतिक दल से नाता रखने वालों की हैं और पुलिस इस बात को सुनिश्चित कर रही है कि ऐसे वाहनों को चेकिंग के लिए रोक कर इनमें से गैरकानूनी हिस्से जैसे नेमप्लेट और रजिस्ट्रेशन प्लेट को निकाल दिया जाए. पुलिस या तो इन नंबर प्लेट्स कि जब्ती कर रही है या इनको तोड़ रही है ताकि इनका फिर से इस्तेमाल न किया जा सके.

इस वीडियो में आप देख सकते हैं कि कैसे पहले तो Mahindra Scorpio से लेकर Ford Endeavour जैसी गाड़ियों को रोका जा रहा है और फिर उनमें लगीं गैरकानूनी नंबर प्लेट्स को निकाल दिया जा रहा है. पुलिस को कुछ गाड़ियों से हूटर भी निकालते हुए देखा जा सकता है. भारत में वाहनों पर साईरन या फ्लैशर लाइट्स लगाना प्रतिबंधित है सिवाय एम्बुलेंस और आधिकारिक पुलिस वाहनों जैसे आपातकालीन वाहनों पर. यहां तक कि भारत के प्रधानमन्त्री को भी अपने वाहन पर साईरन या फ्लैशर लाइट्स लगाने की अनुमति नहीं है.

पुलिस ने एक हफ्ता पहले भी एक इस ही किस्म की मुहिम चलाई थी जिसमे उस दौरान कुछ राजनेताओं और विधायकों को रोका था जिनके वाहनों पर ऐसी गैरकानूनी प्लेट लगीं हुईं थीं. काफी बहस-मुबहसे के बाद भी ऐसी प्लेट्स को निकाल वाहन मालिकों के सामने तोड़ दिया गया था. पुलिस लोगों से क़ानून का पालन करवाने के लिए भले ही ऐसी कितनी भी मुहिमें चला ले लेकिन अक्सर हम ऐसे वाहनों को पुलिस कि नाक के नीचे से खुलेआम निकलते देख सकते हैं क्योंकि इन वाहनों के मालिक रसूखदार और ऊंची पंहुंच रखने वाले होते हैं. वैसे यह एक सुखद बदलाव है जहाँ सड़क पर चल रहे हर वाहन से समान व्यवहार किया जा रहा है.

नंबर प्लेट को लेकर यह  कानून 2015 से लागू हुआ था जब Motor Vehicle Act (MV Act) में तब्दीलियाँ कीं गईं थीं. उस वक्त धारा 50 में संशोधन कर यह सुनिश्चित किया गया था कि भारत में सभी कार्स एक ही किस्म की नंबर प्लेट का इस्तेमाल करें.

एक ही किस्म की नंबर प्लेट से इनको पढ़ना आसान हो जाता है और क़ानून तोड़ने वाले वाहनों के नंबर बिना किसी दिक्कत के नोट किये जा सकते हैं. एक ही किस्म की और सरल नंबर प्लेट्स के चलते यातायात पुलिस को e-चालान जारी करने में बहुत आसानी हो जाती है क्योंकि अब वो CCTV कैमरा के जरिए क़ानून तोड़ने वाले वाहन की तस्वीर खींच आसानी से इनका रजिस्ट्रेशन नंबर पढ़ सकती है.

भारत में सभी इंजन लगे वाहन को रजिस्ट्रेशन नंबर लगाना कानूनी तौर पर अनिवार्य है. भारत में चार-पहिया और दु-पहिया वाहनों पर लगाई जाने वाली नंबर प्लेट का आकार निर्धारित है. सरकार ने नए वाहनों पर High Security Number Plates (HSRP) लगाना भी अनिवार्य कर दिया है. ऐसी नंबर प्ल्तेस पर सेफ्टी स्क्रू लगे हैं जिनसे छेड़-छाड़ नहीं कि जा सकती.

Source