Advertisement

चुनाव खत्म होते ही पेट्रोल, डीजल के दाम बढ़ गए हैं

Ad

चुनाव खत्म होते ही पेट्रोल और डीजल के दाम एक बार फिर बढ़ गए हैं। राज्य के स्वामित्व वाली तेल विपणन कंपनियों ने मंगलवार को डीजल के साथ-साथ पेट्रोल की कीमत भी बढ़ा दी। यह पुडुचेरी, असम, केरल, पश्चिम बंगाल और तमिलनाडु में रविवार को विधानसभा चुनाव के लिए परिणाम घोषित होने के बाद किया गया था। 23 फरवरी के बाद से यह पहली बार है कि ईंधन की कीमतों में वृद्धि की गई है।

पेट्रोल की कीमत में 15 पैसे की बढ़ोतरी की गई है, इसलिए अब यह 90.55 रु प्रति लीटर हो गयी है जबकि डीजल की कीमत में 18 पैसे की बढ़ोतरी की गई है, इसलिए यह अब 80.91 रु प्रति लीटर हो गयी है। ये कीमतें मंगलवार को Indian Oil Corporation Ltd के आउटलेट्स पर दिल्ली में हैं। उम्मीद की जा रही है कि यहां से ईंधन की कीमतें धीरे-धीरे बढ़ेंगी।

ऐसा इसलिए है क्योंकि राज्य में तेल विपणन कंपनियों को पिछले दो महीनों के लिए चुनाव के समय दरों को कृत्रिम रूप से कम रखने के कारण होने वाले नुकसान की वसूली करनी होगी। 3 मई को भारतीय क्रूड बास्केट की लागत $65.71 प्रति बैरल थी। पिछले साल कोरोनवायरस के प्रकोप के बाद, 2020 के अप्रैल में यह दर गिरकर 19.90 डॉलर हो गई। हालांकि, अब यह दर 2021 के अप्रैल में 63.40 डॉलर प्रति बैरल हो गई है। यह डेटा पेट्रोलियम प्लानिंग एंड एनालिसिस सेल से लिया गया है। इस दौरान, इंडियन ऑयल कार्पोरेशन लिमिटेड (IOCL), Bharat Petroleum Corp. Ltd. (BPCL) और हिंदुस्तान पेट्रोलियम कार्पोरेशन लिमिटेड (HPCL) कीमतों को बढ़ाने का विरोध करते हैं।

सरकारी तेल विपणन कंपनियों और सरकार का कहना है कि चुनाव और पेट्रोल और डीजल की कीमतों के बीच कोई संबंध नहीं है। उनके अनुसार, ईंधन की कीमतें वैश्विक तेल की कीमत में उतार-चढ़ाव पर निर्भर करती हैं। हालांकि, ज्यादातर लोगों ने देखा है कि पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ना बंद हो जाती हैं या जब भी कोई चुनाव होता है तो कीमतें कम हो जाती हैं।

मुंबई में पेट्रोल की कीमत वर्तमान में 96.95 रुपये प्रति लीटर है जो कि 12 पैसे की वृद्धि में है जबकि डीजल की कीमत 18 पैसे की बढ़ोतरी के बाद 87.98 रु प्रति लीटर हो गयी है। कोलकाता में, पेट्रोल की कीमत बढ़कर Rs 90.76 हो गई है, जो पहले 90.62 रुपये थी और डीजल की कीमत में 17 पैसे की बढ़ोतरी की गई है, इसलिए यह अब 83.78 प्रति लीटर रु हो गयी है। बेंगलुरु को पेट्रोल के लिए 24 पैसे की बढ़ोतरी का सामना करना पड़ा, इसलिए अब इसकी कीमत 93.67 रु प्रति लीटर हो गयी है। चेन्नई में इसकी कीमत बढ़ाकर 12.6 पैसे की बढ़ोतरी के बाद 93.67 रु हो गयी है।

दिलचस्प बात यह है कि ईंधन की कीमतों में बढ़ोतरी ने भारतीय अर्थव्यवस्था को तब प्रभावित किया है जब वैश्विक कच्चे तेल की कीमतें कोरोनोवायरस के संकट के कारण गिर रही हैं, जिसका सामना दुनिया अभी कर रही है। भारत वर्तमान में दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा तेल आयातक है और 2020 COVID-19 महामारी के बाद से आयात में काफी कमी आई है। ग्लोबल क्रूड ऑयल की कीमतों में और भी अधिक गिरावट की उम्मीद है क्योंकि कोरोनोवायरस के मामलों की गंभीर वृद्धि से हमारे देश का सामना करना पड़ रहा है। कई राज्य पहले से ही लॉकडाउन में हैं और लॉकडाउन के तहत जाने वाले अधिक राज्य केवल वैश्विक कच्चे तेल की कीमत को प्रतिकूल रूप से प्रभावित करेंगे। हमारे देश में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में वृद्धि नागरिकों और हमारे देश में चलने वाले व्यवसायों को प्रभावित करती रहेगी।