भयंकर ट्रक एक्सीडेंट में उत्तर प्रदेश में 11 लोगों की मौत…

7 जनवरी की शाम को नेशनल हाईवे 2 पर एक एक्सीडेंट में एक ट्रक एक कार और ऑटोरिक्शा पर गिर गयी, इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना में 11 लोगों की मौत हो गयी. ये एक्सीडेंट उत्तर प्रदेश के सिरसागंज में सौथरा चौराहे पर शाम 4.10 बजे हुआ.

कैसे हुआ ये?

हुआ यूँ की हैचबैक चौराहे के पास से बायीं ओर से ओवरलोडेड ट्रक को ओवरटेक करने की कोशिश में थी. और चौराहे पर एक ऑटोरिक्शा कुछ सवारियों को बिठा रहा था. जैसे ही ट्रक चौराहे पर पहुंचा वो ओवरलोड और तेज़ रफ़्तार के चलते पलट गया.

इस बात की प्रचुर संभावना है की ट्रक ड्राईवर ने आखिरी वक़्त पर ऑटोरिक्शा वाले के लिए ब्रेक लगाया और आगे मोड़ होने के चलते अपनी गाड़ी का नियंत्रण खो बैठा. फिर ओवरलोडेड ट्रक ओवरटेक कर रही कार और ऑटोरिक्शा पर गिर गया, जिसके चलते उन दो गाड़ियों के अन्दर बैठे लोग दब गए और 9 लोगों की मौत हो गयी. चौराहे के पास खड़े दो लोगों की मौत भी ट्रक के नीचे आने के चलते हो गयी.

जिले के निवासी और चश्मदीद आशीष ने बताया की:

वो काफी भयावह मंज़र था. एक जोर की आवाज़ और फिर हमने देखा की ट्रक दो गाड़ियों पर गिरा हुआ था. ट्रक के भारी वज़न के चलते सारे पीड़ित तुरन्त ही मर गए.

अपर पुलिस अधीक्षक (ग्रामीण) Mahendra Kumar ने बताया की

ट्रक काफी तेज़ जा रहा था और जैसे हो वो चौराहे के पास मोड़ पर मुड़ने के लिए पहुंचा गाड़ी ने अपना नियंत्रण खो दिया और हैचबैक और ऑटोरिक्शा के ऊपर गिर गया, जिसमें 9 लोगों की ट्रक के भार से दबने के चलते मौत हो गयी. चौराहे के पास खड़े 2 और सवार भी अपनी चोटों के चलते मारे गये. 10-एक्सल वाला ट्रक ओवरलोडेड था और किराने के सामान के साथ कानपुर जा रहा था. ट्रक एक हरियाणा के निवासी के नाम पर पंजीकृत है. एक्सीडेंट के बाद, ट्रक का ड्राईवर मौके से फरार हो गया और उसकी पहचान भी नहीं की जा सकी. हमने सारी बॉडीज को पोस्टमॉर्टेम के लिए भेज दिया है.

गलत तरफ से ओवरटेक करने के खतरे!

इसके पीछे एक महत्वपूर्ण कारण है की दूसरे गाड़ी को बायीं तरफ से ओवरटेक करना एक जुर्म है.

ट्रक जैसे भारी गाड़ी वाले — जिनके ड्राईवर काफी ऊंची जगह पर बैठते हैं — कई बार बायीं तरफ से ओवरटेक करती हुई छोटी कार्स या 2-व्हीलर्स को नहीं देख पाते. इसके चलते उन्हें मुड़ कर रोड के बाधाओं से बचना होता है, कई बार वो सीधे ओवरटेक करते हुए गाड़ी के रास्ते में आ जाते हैं. हो सकता है इस एक्सीडेंट में भी कुछ ऐसा ही हुआ हो.

दूसरी बात ये की बायीं तरफ से ओवरटेक करते वक़्त ओवरटेक करने वाली गाड़ी के ड्राईवर को आगे के रोड अच्छे से दिख नहीं पाता. और जब आपको आगे का रोड अच्छे से दिखाई ना दे तब बिलकुल ही ओवरटेक नहीं करना चाहिए.