New Maruti Swift के बारे में ये 10 चीज़ें आप बिल्कुल नहीं जानते!

नयी Maruti Swift एक ब्लॉकबस्टर हिट है! Maruti Suzuki India Ltd को इस गाड़ी के एक लाख बुकिंग्स मिल चुके हैं और पूरे आसार हैं की Swift इस देश की बेस्ट सेलिंग कार बनने की ओर अग्रसर है. इस गाड़ी को लेकर मार्केट में पहले से ही काफी खबरें आ रही हैं लेकिन पेश हैं इस कार के बारे में ऐसी 10 बातें जो आपको अब तक किसी ने नहीं बताई होंगी.

Petrol MT ज्यादा तेज़ है

नयी Maruti Swift का पेट्रोल वर्शन पिछले जनरेशन के मुकाबले बहुत तेज़ है. Tests में नयी कार 100 किमी/घंटे तक मात्र 11.96 सेकेण्ड में पहुँच जा रही थी, और ये पिछले जनरेशन वाली कार के 14.24 सेकेण्ड के टाइम से पूरे 2 सेकेण्ड ज्यादा है. ये कार के नए और हल्के प्लेटफार्म के चलते है. HEARTECT प्लेटफार्म के इस्तेमाल से कार का वज़न काफी हद तक कम हुआ है और इसके चलते Swift का माइलेज और परफॉरमेंस और भी बेहतर हुए हैं.

Petrol AMT डीजल मॉडल्स से तेज़ है

पेट्रोल वाली Swift का परफॉरमेंस काफी हद तक बढ़ा है. ये इतना बढ़ा है की ये डीजल मॉडल्स के मुकाबले काफी तेज़ हुआ है. इसका एक दूसरा कारण है की डीजल Swift के परफॉरमेंस में थोड़ी कमी आई है, लेकिन उसपर बात बाद में.

डीजल मॉडल ने बढ़िया माइलेज पर फोकस किया

नयी Swift के डीजल वैरिएंट काफी ज्यादा माइलेज देते हैं. Maruti को बखूबी पता है की डीजल कार खरीदने वाले उच्च माइलेज की तलाश में होते हैं और इसी लिए उसने इस हिसाब से कार को ट्यून किया है. आप असल दुनिया में इससे 22 किमी/लीटर की उम्मीद रख सकते हैं. ये पिछले जनरेशन के मुकाबले काफी बड़ा सुधार है. लेकिन ये कार पिछले जनरेशन के डीजल वैरिएंट से धीमी है. इसे इसके टॉल गेअरिंग और हलके वज़न से जोड़ा जा सकता है. भले ही इससे एक्सिलिरेशन कम हुआ हो, लेकिन माइलेज काफी ज्यादा बढ़ी है.

AMT भी रोचक है

Swift में मिलने वाला 5-स्पीड AMT भले ही ड्यूल क्लच ट्रांसमिशन या टॉर्क कनवर्टर यूनिट्स जितना तेज़ नहीं है लेकिन आप ट्रांसमिशन के मैन्युअल मोड का इस्तेमाल कर अपने अनुभव को और बेहतर बना सकते हैं.

बड़ा बूट

नयी Swift का बूट-स्पेस 268-लीटर का है जो पिछले जनरेशन वाली कार से 64 लीटर ज्यादा है. इससे इसकी लगेज ढोने की क्षमता काफी हद तक बढ़ जाती है. लेकिन दूसरी और, लोडिंग लिप ऊंची है और बूट फ्लोर नीचा है जिसका मतलब है की अभी भी इम्प्रूवमेंट की जगह है.

कम टर्बो लैग

Swift के पहले के वर्शन में बहुत टर्बो लीग हुआ करता था. लेकिन नयी Swift Diesel में पॉवर डिलीवरी बहुत लीनियर है. फिर भी आपको तेज़ी से ओवरटेक करने और तेज़ एक्सिलिरेशन के लिए डाउनशिफ्ट करना ही पड़ेगा. और वैसे लोग जिन्हें पिछले जनरेशन वाले Swift की लम्बे समय के लैग के बाद टर्बो किक की आदत थी, वो थोड़ा निराश होंगे.

राइड क्वालिटी

पुराने मॉडल की तुलना में एक बड़ा सुधार है और वो है राइड क्वालिटी में. नयी Swift अपने पूरख के मुकाबले ज्यादा बढ़िया राइड ऑफर करती है. आपको कोई जादुई कारपेट राइड नहीं मिलती लेकिन फिर भी Swift ने इस मामले में काफी इम्प्रूवमेंट की है. इसका सस्पेंशन उबड़-खाबड़ रास्तों पर भी आसानी से चलती है. जैसे जैसे स्पीड बढती है, राइड क्वालिटी भी सही होती जाती है और ये पेट्रोल और डीजल दोनों ही मॉडल्स पर लागू होता है.

स्टीयरिंग में फील नहीं आती

Swift हमेशा से ही अपने स्पोर्टी परफॉरमेंस के लिए जानी जाती है और ये बढ़िया रोड हैंडलिंग भी ऑफर करती है. जहां नयी Swift हाई स्पीड पर ज्यादा स्टेबल है और बॉडी-रोल अभी भी बढ़िया से कन्टेन किया हुआ है, लेकिन स्टीयरिंग में कोई फील नहीं है. इलेक्ट्रिक पॉवर स्टीयरिंग में कोई फीडबैक नहीं है और व्हील से पूरी तरह डिस्कनेक्टेड फील होती है. इसका मतलब है की कॉर्नर में ले जाते वक़्त आप उतना कॉंफिडेंट फील नहीं करते. हाई स्पीड भूल जाइए आपको सिटी स्पीड पर भी स्टीयरिंग डिस्कनेक्टेड लगती है और सेण्टर तक वापस नहीं लौटती. परफॉरमेंस के शौक़ीन यहाँ पर निराश होंगे.

बेहतरीन माइलेज

माइलेज के मामले में सिर्फ डीजल मॉडल ही इम्प्रेस नहीं करती. पेट्रोल मॉडल की माइलेज भी बेहतरीन है. ये नए कार खरीदने वालों को काफी इम्प्रेस करेगी. ऑफिशियल आंकड़ों के मुताबिक़ इस कार का पेट्रोल मॉडल 22 किमी/लीटर तक का माइलेज एवं डीजल 28 किमी/लीटर तक का माइलेज दे सकती है. अगर आप असल दुनिया के आंकड़ों को भी देखें तो पेट्रोल और डीजल दोनों ही मॉडल्स की माइलेज बेहतरीन है. ये माइलेज के प्रेमी लोगों को काफी खुश करेगी.

Swift और Baleno का प्राइस ओवरलैप

पिछले जनरेशन के मुकाबले नयी Swift थोड़ी महंगी है. ये इसे Baleno hatchback के काफी करीब प्लेस करता है. और इन दो कार्स की कीमतें आपस में टकराती भी हैं. जैसे Baleno पेट्रोल के बेस वैरिएंट (5.4 लाख रूपए) की कीमत Swift VXi (5.87 लाख रूपए) के मुकाबले कम है. वैसा ही ओवरलैप दूसरे मॉडल्स के बीच में भी है. नयी Swift के खरीददार थोड़े से फ़ीचर्स पर समझौता कर एक ज्यादा प्रीमियम कार खरीद सकते हैं.