मुंबई कारोबारी ने Honda Accord और BMW 3-Series में 103 बार तोड़ी स्पीड लिमिट, भरा लाखों का जुर्माना!

जुर्माना लोगों को क़ानून तोड़ने से रोकने के लिए लगाया जाता है. लेकिन, लगता है ये तरकीब काम नहीं कर रही, कम से कम मुंबई के इस कारोबारी के लिए तो नहीं ही कर रही, क्योंकि इन्होंने मुंबई ट्रैफिक पुलिस को 1.04 लाख रूपए का जुर्माना दिया है. हीरे के कारोबारी Rahil Mehta मुंबई के सबसे महंगे इलाकों में से एक Malabar Hill में रहते हैं और इन्हें Bandra Worli sealink पर केवल 8 महीनों (जनवरी से अगस्त 2018) में 103 बार स्पीड लिमिट तोड़ते हुए पाया गया. ऐसा इन्होंने 2 गाड़ियों में किया एक Honda Accord और एक BMW 3-Series. पिछले 8 महीनों में Mr. Mehta के 103 ई-चालान काटे गए थे और महीनों तक इसे किसी ने नहीं भरा.

Mumbai 103 Fines

तो, उन्होंने आखिर जुर्माना भरा क्यों?

Mehta की Honda Accord को Crawford Market में 23 सितम्बर को पार्किंग नियम तोड़ते हुए पकड़ा गया. मुंबई ट्रैफिक पुलिस कांस्टेबल Sunil Patil ने Honda Accord के नम्बर को अपने रिकॉर्ड में डाला और उन्हें पता चला की गाड़ी पर लगभग 85,000 रूपए का जुर्माना बकाया है. Honda Accord को ज़ब्त कर लिया गया और Mehta को जुर्माना भरने के लिए कहा गया. पुलिस ने थोड़ी और तफ्तीश की और उन्हें पता लगा की Mehta के पास एक BMW 3-Series सेडान है जिसपर Bandra-Worli sealink पर स्पीड लिमिट तोड़ने के लिए 19000 रूपए का जुर्माना बकाया है.

Kalbadevi पुलिस स्टेशन के Firoz Bagwan ने बताया,

Honda Accord को 84 बार स्पीड लिमिट तोड़ते हुए देखा गया वहीँ BMW को 19 बार. दोनों को Sea Link पर ही देखा गया था. दोनों कार्स का कुल जुर्माना 85,000 और 19,000 रूपए था. Mehta को बिल्कुल नहीं पता था की उनके गाड़ियों पर इतने का जुर्माना बकाया था. उन्होंने कहा की उन्हें ई-चालान का मेसेज नहीं मिला. उन्होंने Worli में हमारे हेडक्वार्टर आकर जुर्माना भरने की बात कही. 25 सितम्बर को स्पीड लिमिट तोड़ने के फोटो उन्हें दिखाए गए और उन्होंने 1.04 लाख रूपए भरे. उनके सभी ई-चालान स्पीड लिमिट तोड़ने के लिए थे. ऐसे और भी लोग हो सकते हैं जिनपर ज़्यादा जुर्माना बकाया हो. हम ऐसे लोगों की लिस्ट बना उन्हें नोटिस भेजने की कोशिश कर रहे हैं.

इतना ज़्यादा जुर्माना इकठ्ठा भरने वाले Rahil Mehta इकलौते इंसान नहीं हैं. मुंबई पुलिस के पास ट्रैफिक जुर्माना की बकाया राशी 103 करोड़ रूपए है और बार-बार नियम तोड़ने वालों में बॉलीवुड हस्तियाँ, नेता, और बड़े उद्योगपति शामिल हैं. गौर करने वाली बात है की महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री Devendra Fadnavis की आधिकारिक Tata Safari SUVs पर 13 बार स्पीड लिमिट तोड़ने के लिए 13,000 रूपए का जुर्माना लगाया गया था. बाद में मुंबई पुलिस ने जुर्माने के लिए एक छोटी की गलती का बहाना दिया था, और बताया था की मुख्यमंत्री की आधिकारिक गाड़ी स्पीड लिमिट के दायरे में नहीं आती.

वाया —  Mumbai Mirror