फँस गयी Mitsubishi Pajero; कुछ इस तरह बचाया उसे Fortuner ने!

बालू में गाड़ी चलाने में काफी मज़ा आता है लेकिन अगर आप ध्यान ना दें तो बालू में बेहद काबिल गाड़ी भी फँस सकती है. पेश है एक विडियो जो कई ऑफ-रोडिंग SUVs को राजस्थान में बालू के टीलों से दो-दो हाथ करते हुए दिखाता है. इस विडियो में आप यह भी देख सकते हैं की बालू में लापरवाही से चलने से फँस जाने का कितना ज़्यादा खतरा बना रहता है. पेश है एक विडियो जो दर्शाता है की एक Mitsubishi Pajero कैसे बालू के टीलों में फँस जाती है और कैसे उसे एक Toyota Fortuner बचाती है.

इस विडियो में ये नहीं दर्शाया गया है की Mitsubishi Pajero कैसे फंसती है. लेकिन, ये साफ़ है की SUV का अगला टायर इसके रिम से निकल गया था, जिससे गाड़ी वहां फँस गयी थी. फिर Mitsubishi Pajero को एक Toyota Fortuner ने विंच की मदद से बचाया था. Toyota Fortuner ढीले बालू के चलते Pajero के नज़दीक नहीं आ सकती थी क्योंकि उसके भी धंस जाने का खतरा था.

इस विडियो में आप देख सकते हैं की Pajero के बाएँ टायर के नीचे ट्रैक्शन बोर्ड लगाए गए हैं ताकि चक्के को अधिकतम ग्रिप मिले. इन ट्रैक्शन बोर्ड्स को खासतौर पर डिजाईन किया जाता है ताकि मुश्किल से मुश्किल हालात में भी गाड़ी को पर्याप्त ट्रैक्शन मिल सके. जब बचाव पूरा कर लिया गया, तब लोग टायर वापस चढाने का काम करने लगे. टायर में हवा भरी गयी और टायर को सही जगह वापस लाकर उसपर ट्रेड चढ़ाया गया.

ऐसी दिक्कतों से बचने के लिए ऑफ-रोडिंग गाड़ियों के लिए ख़ास बीडलॉक रिम्स लगाए जाते हैं. ऐसे रिम्स टायर को जगह पर रखकर इस बात को सुनिश्चित करते हैं की टायर्स पर लगने वाले फ़ोर्स के बावजूद वो जगह पर रहें. ऑफ-रोडिंग में टायर्स अक्सर बीड से निकल जाते हैं. अधिकांश अनुभवी ऑफ-रोडर्स टायर का प्रेशर कम कर देते हैं ताकि उनका ज़मीन से संपर्क बढ़ सके. पर इससे टायर्स के ट्रेड से निकलने का खतरा बढ़ जाता है.

Pajero

साथ ही बिना बचाव गाड़ी के ऐसे जगह पर ऑफ-रोडिंग के लिए नहीं जाना चाहिए. ऐसी जगहों पर लोगों का फँस जाना बेहद आम होता है और मदद के पहुँचने में काफी समय लग सकता है. ऐसे में बचाव गाड़ी कई तरीकों से मदद कर सकती है. अगर एक गाड़ी बुरी तरह से फँस भी गयी तो बचाव गाड़ी आसपास मदद के लिए जल्द से जल्दी जा भी सकती है.

सही औज़ारों, ज्ञान और अनुभव के साथ ऑफ-रोडिंग मजेदार साबित हो सकती है. इसीलिए इस बात का ध्यान रखना चाहिए की आप अगर ऑफ-रोडिंग पर जाएँ तो सही तैयारी के साथ जायें.