BMW 7-Series, Toyota Fortuner जैसी गाड़ियाँ चुराने वाला MBA हुआ दिल्ली से गिरफ्तार!

कार्स चोरी करना बेहद आकर्षक काम हो सकता है और अब तो पढ़े-लिखे लोग भी इस बुरे काम को करने लगे हैं. एक ऐसे ही मामले में, 34 वर्षीय MBA Asker Ahmad को कुछ हफ्ते पहले दिल्ली पुलिस ने अरेस्ट किया था. इसे इसके तीन साथियों के साथ अरेस्ट किया गया था.

तो क्या हुआ?

पुलिस ने इस गैंग से 16 हाई एंड कार्स और SUVs बरामद कीं. 4 लोगों का ये गैंग BMW 7-Series, Toyota Fortuner और Hyundai Creta जैसी महंगी कार्स को टारगेट किया करता था और उनके चेसी नम्बर बदलकर उन्हें फिर से Manipur में रजिस्टर कराते थे. Asker Ahmad ने कूबूला की उन्होंने अभी तक 50 गाड़ियाँ चुराई हैं और Manipur में ऐसे ही रजिस्टर कराने के तरीके से उन्हें बेचा है.

अभियुक्त गाड़ी के नकली कागज़ बनाकर उन्हें भोल-भाले कस्टमर्स को बेच देता था. इन्हें दक्षिणी दिल्ली की Anti-Auto Theft Squad (AATS) काफी समय से फॉलो कर रही थी और उन्होंने ही इन्हें अरेस्ट किया. पुलिस को खबर मिली थी और Asker को Saket से अरेस्ट किया गया.

पुलिस ने Asker द्वारा आमतौर पर इस्तेमाल की जाने वाली Honda City से 5 देसी कट्टे और 8 जिंदा कारतूस बरामद किया. कार चोरी करने से पहले Ahmad कॉल सेण्टर में काम किया करता था. पुलिस को ये भी पता चला की Akser को इसके पहले चाइना से pseudoephedrine टेबलेट की तस्करी के लिए अरेस्ट किया गया था. उनके गैंग का एक मेम्बर Mohammad Fakruddin पहले Manipur पुलिस में था और उसे कार चोरी में संलिप्तता के बाद फ़ोर्स से निकाल दिया गया था.

अपनी कार सुरक्षित रखें!

जहां ये गैंग केवल चेसी नम्बर बदल उन्हें बेचा करती थी, कई चोर कार को पूरी तरह से अलग-अलग कर पार्ट्स बेचा करते हैं. इससे ऐसी गाड़ियाँ ट्रैक करना नामुमकिन हो जाता है. इसलिए अपनी गाड़ी में एंटी-थेफ़्ट डिवाइस ज़रूर लगवाएं, और अगर संभव हो, एक GPS डिवाइस भी. ऐसे डिवाइस कार स्टार्ट होने पर आपके फ़ोन पर अलर्ट भेजते हैं और इसके साथ ही गाड़ी की हालिया लोकेशन भी बताते हैं. इसके बाद ऐसे कार्स को ट्रैक करना बेहद आसान हो जाता है और रिकवरी भी बेहद आसान हो जाती है.

साथ ही, कार खरीदने से पहले उसे अच्छे से जाँच लें. इससे आप चोरी की हुई गाड़ी खरीदने से बच पायेंगे. हमेशा कार की हिस्ट्री चेक कर लें और अगर डील बहुत ही अच्छी है, तो एक बार और ज़रूर सोच लें. साथ ही, ये भी याद रखें की सर्विस सेण्टर से गाड़ी की हिस्ट्री लेने से आपको पता चल जाएगा की गाड़ी का चेसी नम्बर बदला गया है या नहीं.

सोर्स