Maruti Swift से Hyundai Creta तक: इंडिया में सबसे ज़्यादा रीसेल कीमत वाली 11 कार्स

जब कोई व्यक्ति एक नई कार खरीदने जाता है, तो वाहन की रिसेल वैल्यू पर उसका ख्याल भी नहीं जाता है. हालांकि, जब एक बेहतर सवारी लेने का समय आता है, तो कार की रिसेल वैल्यू सबसे अव्वल प्राथमिकता बन जाती है, क्योंकि हर कार की कीमत अलग तरह से कम होती है. एक कार की कीमत जब एक गिरते हुए पत्थर की तरह गिरती है तो आमतौर पर सेकंड हैंड कार बाज़ार में इसकी ज़्यादा मांग नहीं होती है और जब अपग्रेड करने का समय आता है तो इसके मालिक को भारी नुक्सान का सामना करना पड़ता है. इसी तरह, एक कार जिसकी कीमत इतने ही समय में कम गिरती है, उसके कई प्रशंसक होते हैं जो इस्तेमाल किए जा चुके वर्शन्स खरीदना चाहते हैं और इसलिए ऐसी कार्स को अधिक कीमत पर बेचना काफी आसान होता है.

तो आपकी कार के रिसेल वैल्यू कैसे प्रभावित होती है? आइए तीन प्रमुख योगदान कारकों पर नज़र डालें जो ये निर्धारित कर सकते हैं कि आपकी कार सेकंड हैंड कार बाज़ार में डूबेगी या लाटरी लगवाएगी.

  1. अवेलेबिलिटी (डिमांड-सप्लाई रेश्यो)

सेकंड हैंड कार बाजार में एक कार के फ्लॉप या हिट होने का सबसे बड़ा कारण डिमांड-सप्लाई अनुपात है, जो कार्स को वैसे ही प्रभावित करता है जैसे की दुनिया में सभी चीज़ों को प्रभावित करता है. आइए Tata Hexa को उदाहरण के तौर पर लें. जहाँ ये अपने सेगमेंट में बिक्री के लेहाज़ से ज़्यादा बिकने वाली कार ना हो, लेकिन सेकंड हैंड कार बाज़ार में Hexas की मांग काफी अधिक है और मौजूदा Hexas मालिक इस बड़ी SUV को बेचने से इंकार कर रहे हैं, जिससे इसकी अपने सेगमेंट में सबसे अच्छी रिसेल वैल्यू है. इसके विपरीत, यदि संभावित खरीदारों की कमी के कारण अगर सेकंड हैंड कार बाज़ार में इस कार की मांग काम हो तो कार का पुनर्विक्रय मूल्य काफी कम हो जाता है.

  1. फेस-लिफ्ट और नए जेनेरशन की कार्स

जब भी कार्स सहित किसी भी आइटम का एक नया वर्शन आता है, तो जनता नए वर्शन की मांग ज़्यादा करती है, जिस के कारण पिछले वर्शन्स खड़े खड़े धूल से ढंक जाते हैं. खरीदारों के नए वर्शन की बढ़ती मांग के कारण, सेकंड हैंड कार की कीमतों में खरीदारों की कम दिलचस्बी की वजह से तेज़ी से गिरावट आने लगती है. Ford EcoSport और Maruti Dzire के पिछले वर्शन्स के मूल्यों में, नए वर्शन्स के आगमन के बाद काफी गिरावट आई है.

  1. नए मॉडल्स पर प्रतीक्षा अवधि

हालांकि कुछ पाठकों के लिए ये कुछ हद तक आश्चर्यजनक हो सकता है, लेकिन नई कार के लिए प्रतीक्षा अवधि, सेकंड हैंड कार बाज़ार में इस कार आजाने पर इसकी कीमत में काफी वृद्धि कर सकती है. खरीदार लोकप्रिय वाहनों की प्रतीक्षा करना पसंद नहीं करते हैं अपनी पसंद की कार, भले ही सेकंड हैंड क्यों न हो, मिलजाने के लिए नियमित कीमत से कई ज़्यादा कीमत पर खरीदने के लिए त्यार हो जाते हैं. नए वर्शन पर लम्बी प्रतीक्षा अवधि के चलते कई खरीदार पुराने जेनेरशन मॉडल खरीदने के लिए भी त्यार हो जाते हैं. इस लिस्ट में, हम हर सेगमेंट में सर्वश्रेष्ठ पुनर्विक्रय मूल्य, या सबसे कम मूल्यह्रास वाली कार्स पर एक नज़र डालते हैं. ये लिस्ट दिल्ली, गुड़गांव और मुंबई में प्री-ओनड कार आउटलेट की प्रमुख प्राइवेट श्रृंखलाओं में से एक Mr Car में हमारे दोस्तों की मदद से संकलित की गई है.

  1. एंट्री लेवल हैचबैक

एंट्री-लेवल हैचबैक्स सेगमेंट में एक बहुत ही कड़ा मुकाबला है फिर चाहे वो नई कार्स हों या फिर सेकंड हैंड कार्स. युवाओं की बदौलत Renault Kwid का सबसे अच्छा पुनर्विक्रय मूल्य है, इस कार की मांग उन लोगों की वजह से भी ज़्यादा है जो Kwid खरीदना चाहते हैं और साथ ही पैसे बचाने के लिए एक नई कार के बजाय इस्तेमाल की हुई Kwid के इच्छुक हैं. इस मांग के परिणामस्वरूप Kwid का इस सेगमेंट में सबसे अच्छा पुनर्विक्रय मूल्य है. इस सेगमेंट में Maruti Alto ट्विंस की मांग भी होती है.

  1. मिड-साइज़ हैचबैक

Maruti Swift अभी भी मिड-साइज़ हैचबैक सेगमेंट में सबसे आगे है. नई Swift के आगमन के बावजूद, Swift की मांग सेकंड हैंड कार बाज़ार में अभी भी बहुत ज़्यादा है जो काफी हद्द तक नई कार के लिए लंबी प्रतीक्षा अवधि के कारण है.

  1. प्रीमियम हैचबैक्स

Maruti Baleno के दो साल पहले ही आने के बावजूद ये कार सेकंड हैंड कार बाज़ार में प्रीमियम हैचबैक सेगमेंट की बाहुबली है. ये नई Baleno की अधिक मांग और उसके परिणामस्वरूप लम्बी प्रतीक्षा अवधि के कारण है. प्रतीक्षा से बचने के लिए, ग्राहक पुरानी इस्तेमाल की हुईं कार खरीदने के लिए त्यार हैं, इस प्रकार इस कार की मांग और रीसेल वैल्यू ऊँची रहती है .

  1. कॉम्पैक्ट सेडान्स

कॉम्पैक्ट सेगमेंट मार्केट में Dzire स्पष्ट लीडर ज़रूर हो सकती है लेकिन सेकंड हैंड कार बाज़ार में Honda की Amaze, Maruti की इस कार को कड़ा मुकाबला देती है. Amaze के क्लास-अग्रणी कम्फर्ट लेवल ये सुनिश्चित करते हैं कि प्री-ओन्ड मार्केट में खरीदार Dzire की जगह इसे पसंद करें.

  1. C-सेगमेंट सेडान्स

Honda City रीसेल वैल्यू के लेहाज़ से C-सेगमेंट सेडान मार्केट में सबसे आगे है. उपभोक्ताओं को इस कार के लिए जो उनके मुताबिक़ ज़्यादा प्रीमियम पेशकश है, अधिक नकद भुगतान करने में कोई फर्क नहीं पड़ता. City की सापेक्ष विश्वसनीयता और Honda का मजबूत आफ्टर-सेल्स सपोर्ट सेटअप ये सुनिश्चित करता है कि सेकंड हैंड कार खरीदारों के पास लंबे समय तक अपनी कारों को मेन्टेन रखने में आसानी हो.

  1. D-सेगमेंट सेडान्स

Toyota कार्स अपनी बेमिसाल विश्वसनीयता के लिए जानी जाती हैं और Altis इसका एक आदर्श उदाहरण है. अपनी भरोसेमंद प्रकृति और पिछली सीट्स जिनमें आप आसानी से सो सकते हैं, Altis की मांग ऊँची रहती है, जो इसकी पुरानी इस्तेमाल की गई कार्स की कीमत को सेगमेंट में टॉप पर पहुंचा देती है.

  1. सब 4 मीटर SUVs

सेकंड हैंड बाज़ार के सब 4 मीटर SUV सेगमेंट पर विशेष रूप से Maruti Suzuki Vitara Brezza का वर्चस्व है. अभी तक, Ford EcoSport, लगभग Brezza के साथ ही चल रही थी, लेकिन दूसरे जनरेशन की Ford SUV की पेशकश के कारण EcoSport की कीमत तेजी से गिर गई हैं, जबकि Vitara Brezza अभी भी उन लोगों की पसंदीदा बनी हुई है जो सेकंड हैंड कार मार्केट में अच्छी रीसेल वैल्यू चाहते हैं.

  1. मिड-साइज़ SUVs

सेकंड हैंड कार बाज़ार में मिड-साइज़ SUV सेगमेंट में केवल एक राजा है – Hyundai Creta. अपने फीचर पैक और आरामदायक इंटीरियर्स और पॉवरफुल इंजिन्स के मिश्रण के साथ, कोरियाई कार निर्माता द्वारा बनाई गई ये SUV बहुत ज़्यादा खरीदारों को आकर्षित करती है ताकि ये सेकंड हैंड कार बाज़ार में उच्च पुनर्विक्रय मूल्य का आनंद उठा सके.

  1. फुल साइज़ SUVs

 

फुल साइज़ SUV सेगमेंट एक ऐसा सेगमेंट है जो आश्चर्यजनक साबित हुआ. आश्चर्य की वजह Tata Hexa है जिसने Mahindra XUV500 से हुए मुकाबले को हराया. Hexa की हाई डिमांड, प्रयुक्त वाहनों की अनुपलब्धता के साथ, मुख्य रूप से इस तथ्य के कारण कि Hexa के मालिक इस कार से खुश हैं और इसलिए बेचने के इच्छुक नहीं हैं, Hexa फुल साइज़ SUV सेगमेंट में रीसेल वैल्यू के मामले में सेगमेंट की विजेता है.

  1. MPVs

पिछले साल आए नए वर्शन के बावजूद Toyota Innova, MPV सेगमेंट के शीर्ष पर स्थिर रही है. Innova भारतीय कार बाज़ार में सबसे कम मूल्यह्रास वाली कार्स में से एक है और अपनी बेमिसाल विश्वसनीयता के साथ, उपभोक्ता सेकंड हैंड कार के लिए प्रीमियम कीमत का भुगतान करने के लिए त्यार हैं, भले ही ये लगभग 4-6 साल तक चलाई गई हो.

  1. SUVs

प्रीमियम SUV सेगमेंट कार बाजार का एक और ऐसा हिस्सा है जहां जापानी कार निर्माता Toyota सर्वोच्च शासन करता है. इस सेगमेंट में सेकंड हैंड कार खरीदारों की पसंदीदा SUV Toyota Fortuner ही रहती है, जो दरसल इसके प्रीमियम लुक्स और कम रनिंग कॉस्ट के कारण है. Fortuner उन लोगों के लिए सटीक चॉइस है जो इस्तेमाल की हुई SUV के लिए 15-20 लाख रूपए खर्च करने के लिए त्यार हैं. हालाँकि अब इस सेगमेंट में नई Ford Endeavour की भी काफी मांग बढ़ती जा रही है.