Maruti Suzuki का बड़ा फैसला, इलेक्ट्रिक कार्स नहीं, CNG कार्स पर होगा फोकस…

पूरा कार उद्योग इलेक्ट्रिक कार्स की ओर बढ़ रहा है लेकिन Maruti Suzuki ने इसे प्राथमिकता देने के बजाय CNG संचालित कारों ज़्यादा ध्यान देने का फैसला किया है. Maruti भविष्य की सोचते हुए इलेक्ट्रिक कारों में निवेश करना जारी रखेगी, वहीं CNG संचालित कार्स जिनके कम मेंटेनेंस के चलते पेट्रोल कार्स से चलाना सस्ता पड़ता है, पर तत्काल फोकस करेगी. CNG कार्स का एमिशन कम होता है, जिससे वो पेट्रोल और डीजल इंजन वाली कारों के मुकाबले चलाने में ज्यादा सस्ती होती हैं. Maruti Suzuki फिलहाल CNG संचालित कार्स की एक श्रृंखला ऑफर करता है, जिसमें Alto 800 और WagonR एंट्री लेवल तथा ऊपर के सेगमेंट में Eeco और Ertiga शामिल हैं.

CNG कार्स इलेक्ट्रिक कार्स से काफी सस्ती होती हैं. इनकी कीमत इनके पेट्रोल इंजन वेरिएंट से लगभग 50,000 रूपए कम होती है वहीं इलेक्ट्रिक कार्स की कीमत पेट्रोल कार्स से लगभग 50% महंगी होती है. CNG कार्स के लिए, Maruti को बैटरी और इलेक्ट्रिक पावरट्रेन टैकनोलॉजी को विकसित करने की ज़रूरत नहीं है. यह मौजूदा पेट्रोल इंजन पर CNG किट लगा कर किया जा सकता है.

इन फायदों का मतलब है कि CNG संचालित कार्स के पास भारतीय बाजार में काम करने का एक बेहतर मौका है. CNG कार्स को बनाने की कम कॉस्ट और कम प्रदूषण होने के कारण अगले पांच वर्षों में इलेक्ट्रिक कार्स की तुलना में ये ज्यादा पॉपुलर हो सकती हैं. भारत में बहुत सारे प्राकृतिक गैस भंडार हैं जो परिवहन के लिए उपयोग किए जाने पर देश के विशाल फ्यूल इम्पोर्ट बिल को भी कम कर सकते हैं.

भारत में CNG संचालित कार्स को अपनाने की दिशा में मुख्य चुनौती CNG डिस्पेंसिंग इंफ्रास्ट्रक्चर है. यह बुनियादी ढांचा देश के ज़्यादातर हिस्सों में अच्छी तरह से विकसित नहीं हुआ है जिसके कारण CNG कार्स बड़े पैमाने पर नहीं बनाई जाती हैं. इसका समाधान करने के लिए, Maruti Suzuki ईंधन कंपनियों के साथ काम कर रही है ताकि पूरे भारत में अधिक CNG डिस्पेंसिंग आउटलेट स्थापित किए जा सकें. इससे कारों के लिए ईंधन के रूप में CNG का उपयोग बहुत अधिक प्रभावी होगा.

वाया FinancialExpress