Vitara: Maruti Brezza का बड़ा और ओरिजिनल वर्शन!

Suzuki Motor Corporation ने आधिकारिक तौर पर 2019 विटारा फेसिलिफ्ट का पेश किया है जो फिलहाल केवल अंतरराष्ट्रीय बाजारों में उपलब्ध है. भारत में उपलब्ध फुल साइज SUV Maruti Suzuki Vitara Brezza का बड़ा वर्शन, जल्द ही अंतरराष्ट्रीय बाजारों में लॉन्च किया जाएगा. पिछले वर्शन की तुलना में कार के फेसलिफ्टेड वर्शन में कई नए फीचर्स और विजुअल अपडेट किए गए हैं.

ये नई कार इस साल के अंत तक UK बाजार में पेश की जाएगी. कार की तस्वीरें कुछ दिन पहले ऑनलाइन लीक हुई थीं. Vitara Brezza UK बाजार के वर्शन में मौजूद सुविधाओं के साथ कई और नए फीचर्स और सुरक्षा उपकरणों की लम्बी लिस्ट के साथ पेश की जाएगी. Suzuki Vitara 4.2 मीटर लम्बी है, जो इसे भारत में उपलब्ध सब-4 मीटर Vitara Brezza से अधिक लम्बी बनाता है.

कॉस्मेटिक अपडेट में एक नया अपडेटेड फेस, एक रीडिज़ाइनड वर्टिकल क्रोम स्लैट वाली ग्रिल, बड़े एयर डैम और बड़ी LED DRLs के साथ रिवाइज्ड फ्रंट बम्पर शामिल हैं. साइड से, Vitara फेसिलिफ्ट वर्शन मौजूदा वर्शन के समान है. हालांकि, Suzuki इस कार में नए एलॉय व्हील्स पेश किए हैं. पीछे की तरफ, इस SUV में नई LED टेललैम्प्स लगाए गए हैं.

Suzuki ने वाहन के इंटीरियर्स में भी बदलाव किए हैं. कार के इंटीरियर्स अब सॉफ्ट-टच मटेरियल के व्यापक उपयोग के साथ अधिक प्रीमियम महसूस करते हैं. कार के इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर को भी फिर से डिजाइन किया गया है और साथ ही बीच में एक रंगीन LCD इनफार्मेशन स्क्रीन दी गई है. इस SUV के सबसे लोडेड वर्शन में ड्यूल सेंसर ब्रेक सपोर्ट, लेन डिपार्चर वॉर्निंग एंड प्रिवेंशन, ट्रैफिक साइन रिकॉग्निशन, ब्लाइंड स्पॉट मॉनिटर और रियर क्रॉस ट्रैफिक अलर्ट जैसे फीचर्स मिलते हैं.

UK मार्केट में, Vitara 1.0 लीटर और 1.4 लीटर टर्बोचार्ज पेट्रोल इंजन द्वारा संचालित है. 1.0 लीटर टर्बोचार्ज पेट्रोल इंजन अधिकतम 109 बीएचपी उत्पन्न करता है जबकि 1.4 लीटर टर्बो-पेट्रोल इंजन अधिकतम 138 बीएचपी-220 एनएम उत्पन्न करता है. दोनों वर्शन्स में Suzuki का 4WD सिस्टम मिलती है जिसे कंपनी ALLGRIP कहती है.

Maruti Suzuki India से Maruti Vitara Brezza की बेहतरीन सफलता के बाद भारतीय बाज़ार में इस कार को दोबारा लॉन्च करने की उम्मीद है. बल्कि एक Vitara को कई बार भारत में परीक्षण करते पकड़ा गया है. Maruti से इस कार को अधिक बजट अनुकूल और भारतीय स्थितियों के लिए उपयुक्त बनाने के लिए इसमें  काफी बदलाव किए जाने की उम्मीद है.