केरल बाढ़ के नायक मछुआरे को Mahindra डीलर ने गिफ्ट की एक नयी Marazzo!

याद है वो फोटो जो केरल में हाल में आये बाढ़ के सबसे बुरे दिनों में वायरल हो गयी थी? वो एक मछुआरे की फोटो थी जो अपने हाथों और पैरों पर बाढ़ के पानी में था और उसने एक महिला को अपने ऊपर चढ़ बाढ़ से निकलने की अनुमति दी थी. ऐसे मछुआरे जो अपने नावों में लोगों की मदद कर रहे थे, बचाव कार्य के हीरो बने.

Jaisal Marazzo Gift Gift

ये मशहूर बचावकर्ता KP Jaisal नाम का एक मछुआरा था. उसके कामों को देखते हुए, Kozhikode के एक Mahindra डीलर Eram Motors ने उन्हें एक नयी Mahindra Marazzo गिफ्ट की है जिसे Mahindra ने इस हफ्ते Nashik में लॉन्च किया था. Kozhikode डिस्ट्रिक्ट की पहली Marazzo अब Jaisal की अपनी है.

Kerala के उत्पाद और श्रम मंत्री TP Ramachandran ने Marazzo की चाबी Jaisal को आधिकारिक तौर पर दी.

Eram Motors Gift

Eram Group के CMD Siddique Ahmed, महापौर Thottathil Ravindran, और Kozhikode के कलेक्टर U V Jose ने इसमें भाग लिया. Jaisal ने कहा वहां मौजूद श्रोताओं को कहा की उन्हें इस गिफ्ट से बहुत ख़ुशी हुई है और वो इसे जब भी संभव हो सामाजिक कल्याण के लिए इस्तेमाल करेंगे. Jaisal ने लोगों और मीडिया से कहा की उन्हें NDRF टोली ने बताया की एक दुर्गम जगह पर एक महिला फँसी हुई थी. उन्होंने कोशिश करने के बारे में बोला और फिर NDRF टीम ने Jaisal को एक रबर की नाव दे दी. चूंकि महिला का खून बह रहा था, उन्हें लगा की महिला को खुद से नाव पर चढ़ने में दिक्कत आएगी और इसी के चलते उसने वो कदम उठाया जो आगे चलकर वायरल हो गया.

Jaisal और उनके दोस्त Afzal और Muzeen को ‘Gem of the Sea’ खिताब भी दिया गया.

India Monsoon Flooding
Volunteers reach in a boat to rescue stranded people from a flooded area in Chengannur in the southern state of Kerala, India, Sunday, Aug.19, 2018. Some 800,000 people have been displaced and over 350 have died in the worst flooding in a century. (AP Photo/Aijaz Rahi)

Mahindra और Eram Motors ने कहा की ये तोहफा Jaisal और उनके जैसे लोगों की प्रोत्साहन के लिए, और उनके रोल मॉडल बनने के लिए है.

फोटो से वायरल हुए Vengara में बचाव के बाद, Jaisal और उनके दोस्त दूसरे बाढ़ग्रस्त जगहों पर पहुँच गए और बचाव जारी रखा. लगभग 3000 मछुआरों ने एक हफ्ते तक बचाव में हिस्सा लिया, और उन्होंने अपने नाव ट्रक पर लाद समुद्र से दूर बाढ़ग्रस्त जगहों तक लाये. जुलाई में शुरू हुए और अगस्त में कई बांधों के अचानक खोले जाने से बढ़ जाने वाले इस बाढ़ में 480 लोग मारे जा चुके हैं.