Jeep CJ3B, Fortuner, Thar, Isuzu V-Cross, Endeavour की ऑफ-रोडिंग भिड़ंत, और विजेता है…

Toyota Fortuner इंडिया में इस सेगमेंट की बेस्ट सेलर है. Fortuner को उसके प्रतिद्वंदियों के ऊपर कई मामलों में बढ़त मिलती है. Toyota के ब्रांड वैल्यू के अलावे, Fortuner के स्लीक लुक्स और बिना किसी दिक्कत का मेंटेनेंस इसे इस सेगमेंट का सरताज बनाता है. लेकिन जब बात हार्डकोर ऑफ-रोडिंग की आती है तो क्या ये तब भी अव्वल है? पेश है एक विडियो जिसमें Jeep CJ3B, Toyota Fortuner 4X4 डीजल ऑटोमैटिक, मॉडिफाइड Mahindra Thar, Isuzu D-Max V-Cross और ARB एयर-लॉकर के साथ पुराने जनरेशन वाली Ford Endeavour एक दूसरे से भिड़ते हैं.

यहाँ क्या हो रहा है?

इस विडियो में पांचो गाड़ियों को बाधाओं और चुनौतियों को पार करते हुए दिखाया जा रहा है. जहां सभी ऑफ-रोडिंग SUVs की कड़ी परीक्षा होती है, Toyota Fortuner 4X4 ऑटोमैटिक सभी चुनौतियों को बेहतरीन ढंग से पूरा करती है. यहाँ तक की ARB एयर-लॉकर और पुराने जनरेशन वाली Ford Endeavour भी फ्रंट डिफरेंशियल के काम करने के बंद करने के बाद रेस से बाहर हो जाती है. लेकिन नए जनरेशन वाली Fortuner ने सभी चुनौतियों को बिना किसी दिक्कत के पूरा किया.

Toyota Fortuner के इंडियन वर्शन में रियर डिफरेंशियल लॉक नहीं है, जिसकी कमी हार्डकोर ऑफ-रोडिंग के दौरान खलती है. लेकिन जैसा की यहाँ देखा जा सकता है, बिना रियर डिफरेंशियल लॉक के भी Toyota Fortuner सभी चुनौतियों को पूरा कर लेती है जहां दूसरी SUVs को दिक्कतें आती हैं.

Fortuner में A-TRC सिस्टम है जो रियर व्हील डिफरेंशियल लॉक की जगह एक Active Traction Control सिस्टम है. A-TRC सिस्टम एक व्हील में ट्रैक्शन की कमी को सेंस कर उसपर अपने आप ब्रेक लगा देता है. इससे सारा पॉवर एक्सल के दूसरे व्हील तक जाने लगता है. ये डिफरेंशियल लॉक जैसा ही है लेकिन पॉवर डिलीवरी उतनी स्मूथ नहीं होती.

इसमें काफी हद तक तारीफ़ Toyota Fortuner के ड्राईवर की भी होनी चाहिए. निरंतर और स्मूथ थ्रोटल इनपुट इस बात को सुनिश्चित करता है की कार को इतनी पॉवर मिलती है की वो बिना एक ही जगह गड्ढा खोदे चुनौती पार कर लेता है. यहाँ जो Toyota Fortuner हम देख रहे हैं वो स्टॉक कंडीशन में है जो इस बात को और भी रोचक बनाता है.

इस कार में एक 2.8-लीटर डीजल इंजन है जो अधिकतम 175 बीएचपी और 450 एनएम उत्पन्न करता है. रोचक बात ये है की, ये इंजन मैन्युअल वर्शन के मुकाबले 30 एनएम ज्यादा टॉर्क उत्पन्न करता है. इसमें लो-राशन ट्रान्सफर केस के साथ एक 6-स्पीड ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन है.

विडियो — Anshuman Bishnoi