Jalopnik के मुताबिक़ Mahindra Roxor और Willys CJ-2A में बेहतर ऑफ-रोडर है…

हमने Thar पर आधारित लाइफस्टाइल गाड़ी Mahindra Roxor पर लगातार रिपोर्टिंग की है, ये गाड़ी मुख्यतः अमेरिकी मार्केट की Polaris RZR जैसी गाड़ियों से टक्कर लेती है. अमेरिका के कई ऑफ-रोड एक्सपर्ट्स ने Roxor को टेस्ट किया है और सभी ने इसके रफ एंड टफ नेचर की प्रशंसा की है. लेकिन हाल ही में Jalopnik ने Roxor को लीजेंडरी Willys CJ-2A के खिलाफ ये देखने के लिए उतारा था की इन दो में से बेहतर ऑफ-रोडर कौन है.

Mahindra Roxor मूलतः Willys CJ-2A का मॉडर्न रूप है. ऊपर दिए गए विडियो में इस टेस्टर ने दोनों गाड़ियों को ऑफ-रोड ले जाकर उन्हें अलग-अलग बाधाओं का सामना कराया. ‘Articulation’ टेस्ट के लिए दोनों गाड़ियों को 20-डिग्री रैंप पर चढ़ाया.

Articulation की तुलना करने के लिए आमतौर पर Ramp Travel Index इस्तेमाल किया जाता है. इसे गाड़ी द्वारा ज़मीन पर टायर्स रखते हुए रैंप पर तय की गयी दूरी को उसेक व्हीलबेस से भाग देकर और 1000 से गुना कर निकाला जाता है. Mahindra सिर्फ 39 इंच चढ़ पायी और इसलिए इसका RTI स्कोर 406 था. वहीँ दूसरी ओर, वहीँ Willys 56 इंच तक चढ़ पायी और इसलिए इसका RTI स्कोर 725 था. यहाँ Willys साफतौर पर विजेता थी.

इन दोनों गाड़ियों का ट्रैक्शन टेस्ट करने के लिए उन्हें फिसलन भरी कीचड़ से गुज़ारा गया था. दोनों गाड़ियाँ कई बार फंसीं. Jalopnik ने बताया की दोनों गाड़ियों में मड-टेरेन टायर्स हैं जो इन्हें फिसलन भरी जगहों से निकलने में मदद करता है. और इन दोनों में से किसी ने भी यहाँ अच्छा प्रदर्शन नहीं किया.

Jalopnik ये भी बताता है की Roxor का 2.5-लीटर इनलाइन 4 टर्बोडीजल इंजन एक ‘असल हीरा’ है. इस इंजन का आउटपुट 62 एचपी और 195 एनएम उत्पन्न करता है जो CJ-2A के आउटपुट से 2 एचपी 32 एनएम ज़्यादा है. लेकिन एक्स्ट्रा टॉर्क, छोटे टायर्स और ड्राइव-बाई-वायर सेटअप के चलते Roxor में बाधा पार करना ज़्यादा आसान था.

जहां टेस्टर को लगा की कोई भी गाड़ी ढलान से उतारते वक़्त उसकी Willys को हरा नहीं पाएगी, लेकिन Roxor ने बेहतर परफॉर्म किया. यहाँ इस बात पर भी ध्यान दिया गया की Roxor के ऑइल पैन के नीचे एक स्किड प्लेट भी होना चाहिए. लेकिन, लगता है Mahindra ऑइल पैन बचाने पर अभी से ही काम कर रही है. साथ ही, Roxor बाकी मामलों में भी अच्छे प्रोटेक्शन से साथ आती है. रियर में लगे फ्यूल टैंक पर आर्मर लगा है और ट्रान्सफर केस के लिए एक स्किड प्लेट भी है.

अंत में, टेस्टर ने बताया की दोनों गाड़ियों की काबिलियत एक जैसी है. लेकिन छोटी होने और लम्बे सस्पेंशन ट्रेवल के चलते Willys ने बेहतर परफॉर्म करती है. साथ ही, इस तुलना के लिए इस्तेमाल की गयी Willys CJ-2A में आफ्टरमार्केट टायर्स हैं जिन्होंने इन्हें बेहतर परफॉर्म करने में मदद करती है.