Royal Enfield: जानिये 10 राज़ इस ऐतिहासिक मोटरसाइकिल के

Royal Enfield पूरे विश्व के बाइक बाज़ार में अपनी एक अलग पहचान रखती है और केवल भारत में ही इसका 50 साल से ज्यादा का शानदार इतिहास रहा है. इतने लम्बे समय से भारत में मौजूद होने के बावजूद इस बाइक के बारे में कई बातें ऐसी हैं जो आप नहीं जानते हैं. पेश हैं 10 तथ्य Royal Enfield के.

दुनिया की सबसे पुरानी बाइक जो अब भी प्रोडक्शन में है

Royal Enfield 3

Royal Enfield का पहला और सबसे मशहूर मॉडल — Bullet 350 — 87 साल पहले 1931 में लॉन्च किया गया था. यह बाइक सबसे पहले ब्रिटिश बाज़ार में लॉन्च की गयी थी. Bullet भारत में सबसे पहले 1951 में आई और तभी से इसका शानदार सफ़र ज़ारी है. कोई भी अन्य मोटरसाइकिल कंपनी इतने लम्बे समय तक बाज़ार में कभी नहीं टिक पाई है और यह इसकी लोकप्रियता का ही एक नमूना है.

Royal Enfield पहले बनाती थी लॉन की घास काटने की मशीन

Royal Enfield 4

Royal Enfield कंपनी मोटरसाइकिल से पहले लॉन की घास काटने की मशीन बनाया करती थी. इसके अलावा यह कंपनी हथियारों का भी कारोबार किया करती थी. Royal Enfield फ़ौज को भी राइफल्स की सप्लाई किया करती थी.

हैण्ड-मेड नहीं होतीं यह बाइक्स

वैसे तो इस बाइक का एक  विंटेज लुक हमेशा से रहा हैं मगर आज की Royal Enfield मोटरसाइकिल मॉडर्न रोबोट्स के इस्तेमाल से बनायी जाती हैं. साल 2014 से पहले यह बाइक  हाथ से बनायी जाती थी मगर जब डिमांड में भारी उछाल आया तो कंपनी को मजबूरन मशीन का सहारा लेना शुरू करना पड़ा. मगर इस गाड़ी को पेंट अब भी हाथ से ही किया जाता है. ख़ास बात यह है की भारत में शुरुआत से ही एक ही खानदान के लोग इस बाइक को पेंट कर रहे हैं.

Interceptor 650 इस कंपनी की सबसे बड़ी बाइक नहीं है

Royal Enfield 5

विश्व स्तर पर Royal Enfield कंपनी 1,000-सीसी V-Twin इंजन का इस्तेमाल करती है और इसकी बाइक्स कई इंजन विकल्पों में मौजूद हैं. भारत में  1970 के दशक में इस कंपनी ने 650-सीसी V-Twin और 700-सीसी V-Twin इंजन भी लॉन्च किये थे पर यह ज्यादा सफल साबित नहीं हुए.

Splendor से ज्यादा माइलेज देती थी इस कंपनी की बाइक!

Royal Enfield 6

Royal Enfield ने एक बार Taurus नाम से एक डीजल बाइक लॉन्च की थी. इसका 325-सीसी सिंगल-सिलिंडर डीजल इंजन पैदा करता है 6.5 बीएचपी पॉवर और 15 एनएम टॉर्क. यह लो-पॉवर इंजन 12 साल तक बाज़ार में रहा पर अब सड़कों पर ज्यादा नहीं दिखता. इस बाइक का माइलेज 70 किलोमीटर प्रति लीटर था.

Royal Enfield अब अपनी उत्पत्ति के देश को करती है बाइक एक्सपोर्ट

Royal Enfield मूल रूप से एक ब्रिटिश कंपनी थी जो दिवालिया होने के बाद बंद कर दी गयी थी. साल 1999 में Royal Enfield की भारतीय इकाई ने इस कंपनी को खरीद लिया और इसके नाम का इस्तेमाल ज़ारी रखा. एक लम्बी कानूनी लड़ाई के बाद Royal Enfield India ने इस नाम को इस्तेमाल करने का अधिकार प्राप्त किया. अब इस कंपनी का दुनिया भर में नाम है और यह इंग्लैंड में अभी गाड़ी निर्यात करती है.

फ़ौज को भी सप्लाई करती है बाइक!

Royal Enfield 7

Royal Enfield अब तक तीन देशों की फ़ौज को बाइक्स सप्लाई कर चुकी है. शुरुआत में यह बाइक्स केवल रुसी फ़ौज को दी जाती थीं मगर बाद में अंग्रेज सैनिकों ने भी इस बाइक का इस्तेमाल शुरू कर दिया. 1950 के दशक से Royal Enfield भारतीय सेना को भी बाइक्स सप्लाई कर रही है. इनका इस्तेमाल देश के सैनिक और अर्धसैनिक बल अब भी कर रहे हैं.

Royal Enfield दुनिया की सबसे पुरानी मोटरसाइकिल बनाने वाली कंपनी है

Royal Enfield 2

Royal Enfield ने मोटरसाइकिल बनाने की शुरुआत 1901 में की थी जबकि Harley-Davidson ने अपना पहला मॉडल 1905 में लॉन्च किया गया. Royal Enfield की केवल भारत में बिकने वाली बाइक्स की संख्या Harley-Davidson की विश्व भर की सेल्स से ज्यादा है. इन दोनों को देखते हुए लगता नहीं की जल्द ही इनमें से किसी के भी बुरे दिन आयेंगे.

भारत की पहली आर्मी मोटरसाइकिल

Royal Enfield 1 1

Royal Enfield ने भारतीय सेना को 1955 से बाइक सप्लाई करना शुरू किया था. पहला आर्डर 800 Royal Enfield बाइक्स का था और इसके लिए कंपनी ने Madras Motors के साथ हाथ मिलाकर भारत में अपनी फैक्ट्री लगायी थी. पहले इस फैक्ट्री से निकली Bullet 350 और बाद में Bullet 500.

भारत की पहली 4-स्ट्रोक बाइक

 

Royal Enfield एक समय अपने नए प्रयोगों के लिए जानी जाती थी. 1924 में इस कंपनी ने 4-स्ट्रोक 350-सीसी सिंगल सिलिंडर इंजन विकसित किया था. भारत को अपनी पहली 4-स्ट्रोक बाइक Royal Enfield Bullet 350 के रूप में मिली.