Advertisement

Honda लॉन्च करेगी 6 नई SUVs: विवरण आई सामने

कई महीनों तक भारतीय कार बाजार में कम प्रोफ़ाइल रखने के बाद, Honda ने अब 2030 तक अपनी उत्पाद रणनीति का अनावरण करके भारत के लिए अपनी दीर्घकालिक प्रतिबद्धता का खुलासा किया है। इस रणनीति के तहत, Honda ने पांच नई एसयूवी लॉन्च करने की अपनी योजना की घोषणा की। 2030 तक भारत में, पहली हाल ही में पेश की गई Honda Elevate मध्यम आकार की SUV है। अगस्त-सितंबर 2023 में त्योहारी सीजन की शुरुआत से पहले एलेवेट के बाजार में आने की उम्मीद है।

Honda लॉन्च करेगी 6 नई SUVs: विवरण आई सामने

इसके अलावा, Honda ने पुष्टि की कि वह एलेवेट का एक पूर्ण-इलेक्ट्रिक संस्करण पेश करेगी, जिसे अगले तीन वर्षों के भीतर भारतीय बाजार में लॉन्च किया जाना है। यह अनुमान लगाया गया है कि एलेवेट पर आधारित पूरी तरह से इलेक्ट्रिक एसयूवी 2026 की पहली छमाही में उपलब्ध होगी, जो Honda की भारत के लिए पांच एसयूवी की योजनाबद्ध लाइनअप में दूसरी एसयूवी होगी।

Honda ने पहले ही 2023 से शुरू होने वाले हर साल एक नया मॉडल पेश करने की अपनी मंशा की घोषणा कर दी थी, जिसमें एलिवेट पहली पंक्ति में था। उम्मीद है कि अगले दो वर्षों में Honda अपने वैश्विक उत्पाद पोर्टफोलियो से दो और नई एसयूवी लॉन्च करेगी। कंपनी कथित तौर पर इन आगामी एसयूवी के लिए पूरी तरह से नॉक-डाउन (सीकेडी) और पूरी तरह से निर्मित (CBU) मार्गों के विकल्पों पर विचार कर रही है। भारतीय कार बाजार में Honda की स्थापित उपस्थिति को देखते हुए, यह अनुमान लगाया जाता है कि इन दो एसयूवी में से एक हाल ही में लॉन्च की गई नई Honda CR-V हो सकती है, जिसकी भारत में मजबूत प्रतिष्ठा है।

विवरण अज्ञात रहता है

जबकि भारत के लिए Honda द्वारा योजना बनाई गई शेष एसयूवी के बारे में विवरण वर्तमान में अज्ञात है, यह अनुमान लगाया गया है कि देश में Honda की ब्रांड स्थिति के साथ संरेखित करते हुए उनकी कीमत 50 लाख रुपये से कम होगी। Honda ने अपने ग्रेटर नोएडा संयंत्र को पहले ही बंद कर दिया है, और राजस्थान के टपुकारा में इसकी विनिर्माण सुविधा अब भारत में इसका एकमात्र उत्पादन संयंत्र है। टापूकारा संयंत्र भविष्य के Honda उत्पादों की संभावित सीकेडी असेंबली के साथ-साथ सभी नए एलीवेट के उत्पादन को संभालेगा। अपनी वर्तमान और आगामी पेशकशों का समर्थन करने के लिए, Honda ने 2023 की पहली तिमाही में टपुकारा संयंत्र की निर्माण क्षमता को 540 वाहन प्रतिदिन से बढ़ाकर 660 वाहन कर दिया है।

इसके अलावा, Honda यह सुनिश्चित करने के लिए देश भर में अपने शोरूम का नवीनीकरण कर रही है कि इसके वर्तमान और भविष्य के उत्पादों को भारतीय ग्राहकों द्वारा अच्छी तरह से प्राप्त किया जाए। कंपनी ने भारत के 238 शहरों में फैले अपने 326 आउटलेट्स के ग्राहक इंटरफेस को बढ़ाने के लिए लगभग 260 करोड़ रुपये का निवेश किया है।