Advertisement

Honda Amaze के इतने सारे कस्टमर्स होने के पीछे का कारण क्या है?

नयी Honda Amaze भारत में बेहतरीन प्रदर्शन कर रही है. सितम्बर महीने में कंपनी ने इस मॉडल के 8401 यूनिट्स फैक्ट्री से डिस्पैच किये थे जो पिछले साल के सितम्बर के मुकाबले 228% की वृद्धि है. ये इंडिया में Honda की बेस्ट सेलर बन City से भी आगे निकल गयी है. असल में, Honda ने Amaze के लॉन्च के पहले 3 महीनों में इस गाड़ी के 30,000 यूनिट्स बेच डाले हैं. ये कंपनी द्वारा भारत में अपनी मौजूदगी के 20 सालों दौरान दर्ज किया गया सबसे ऊंचा आंकड़ा है. अब आइये उन कारणों पर एक नज़र डालते हैं जो इस कार को भारत में इतना फेमस बनाते हैं.

Dzire का फ्रेश और काबिल विकल्प

Honda Amaze के इतने सारे कस्टमर्स होने के पीछे का कारण क्या है?

Maruti Suzuki Dzire फिलहाल देश की बेस्ट सेलिंग कॉम्पैक्ट सेडान है. लेकिन नयी Amaze भी अच्छा प्रदर्शन कर रही है और Dzire को कड़ी टक्कर दे रही है. जिस गति से Amaze की सेल्स बढ़ रही हैं, वो दिन दूर नहीं जब Amaze और Dzire सेल्स के मामले में आमने सामने आ खड़े हों. Amaze उन गिनी-चुनी सब-4 मीटर सेडान्स में से है जो हैचबैक पर आधारित नहीं है और इसका डिजाईन काफी फ्रेश है. साथ ही इसका बोल्ड डिजाईन भले ही लोगों के मत को बांटता ही लेकिन ये फ्रेश दिखती है और मार्केट में काफी नायाब भी है.

नए और जगहदार इंटीरियर और सेगमेंट में सबसे अच्छा बूट स्पेस

Honda Amaze के इतने सारे कस्टमर्स होने के पीछे का कारण क्या है?

एक कार में बैठते हीं आप सबसे पहले जगह और केबिन के फील पर नज़र डालते हैं. Honda की ‘मैन मैक्सिमम, मशीन मिनिमम’ की पॉलिसी पूरे केबिन में दिखती है. सिल्वर एक्सेंट के साथ इसका ड्यूल-टोन इंटीरियर काफी प्रीमियम लगता है. साथ ही पियानो ब्लैक फिनिश इसे और भी प्रीमियम लुक देता है. इसका स्टीयरिंग एक चंकी यूनिट है जिसकी ग्रिप अच्छी है. वहीँ सेण्टर कंसोल में एक अच्छा सा 7-इंच टचस्क्रीन इंफोटेनमेंट सिस्टम है जो Apple Car Play और Android Auto दोनों को सपोर्ट करता है. कार का व्हीलबेस 65 एमएम बढ़ा है जिसके चलते इसमें स्पेस बढ़ा है जिसके चलते रियर और फ्रंट में अच्छा लेगरूम और अच्छी सीट्स हैं. इन सब के चलते ये सेगमेंट लीडर्स को टक्कर देती है. कभी-कभार रियर हेडरूम एक दिक्कत बन सकती है लेकिन वो तभी होता है जब पीछे तीन व्यस्क बैठे हों. ABS, EBD, और ड्यूल एयरबैग्स जैसे सेफ्टी फ़ीचर्स पूरे रेंज में स्टैण्डर्ड है. इसके साथ ही बूट स्पेस 420 लीटर के साथ क्लास में सबसे ज़्यादा है. कुल मिलाकर इसका केबिन काफी जगहदार एवं अपमार्केट है जो सेगमेंट में सबसे ज़्यादा है.

पेट्रोल और डीजल दोनों में ही AT ऑप्शन

Honda Amaze के इतने सारे कस्टमर्स होने के पीछे का कारण क्या है?

इंडिया जैसे देश में सड़क कम और गड्ढे ज़्यादा होते हैं और इसके साथ ही बुरे ट्रैफिक जैम में ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन बेहद आरामदायक फ़ीचर बन जाता है. Honda यहाँ सबकुछ सही कर रही है और इसमें पेट्रोल और डीजल दोनों ही इंजन पर CVT का ऑप्शन ऑफर करती है लेकिन इसका डीजल CVT वर्शन काफी कम पॉवर उत्पन्न करता है. इसका पेट्रोल इंजन एक 4 सिलिंडर, 1.2 लीटर इंजन है जो 88 बीएचपी का पॉवर उत्पन्न करता है. वहीँ दूसरी तरफ डीजल इंजन एक 1.5 लीटर यूनिट है जो मैन्युअल के साथ 98.6 बीएचपी और CVT के साथ 80 बीएचपी ऑफर करता है. इसके कारण से कार की सेल्स काफी हद तक ऊंची रही हैं.

Honda का भरोसा और बिल्ड क्वालिटी

Honda Amaze के इतने सारे कस्टमर्स होने के पीछे का कारण क्या है?

अपने सॉलिड बिल्ड क्वालिटी और बेहतरीन आफ्टर सेल्स सपोर्ट के चलते इंडिया में हमेशा से ही Honda की इमेज अच्छी रही है. बहरहाल, Honda बैज के साथ मन की शान्ति का टैग मिलता है जो कीमत पर प्रभाव डालता है. Honda की कार्स की रीसेल वैल्यू भी अच्छी होती है और वो सालों के इस्तेमाल के बाद भी भरोसेमंद रहती हैं. Honda से बेहतरीन इंजीनियरिंग और टिकाऊ कार की उम्मीद रहती है और ये कमतर ही उम्मीदों पर खरी नहीं उतरती. यही कारण हैं की लोग Honda के कस्टमर बने रहना चाहते हैं और इस गाड़ी को भी खरीद रहे हैं.

इंजन और ट्रांसमिशन में ढेर सारे ऑप्शन

Honda Amaze के इतने सारे कस्टमर्स होने के पीछे का कारण क्या है?

Amaze में कई सारे इंजन और ट्रांसमिशन ऑप्शन्स हैं जो अलग-अलग ट्रिम लेवल में मिलते हैं. Amaze की शुरुआत 5.8 लाख रूपए से होती है और ये 9.11 लाख रूपए तक जाती है (एक्स-शोरूम कीमत, दिल्ली) जो इसके प्रतिद्वंदियों के रेंज की ही है. हर इंजन ऑप्शन में 4 ट्रिम लेवल मिलते हैं — E, S, V, और VX. हर ट्रिम में अपने फ़ीचर्स हैं जहां VX टॉप-ऑफ़-दी-लाइन वर्शन है. Honda ने यहाँ अपना काम बखूबी किया है और हर किसी के लिए एक ऑप्शन लॉन्च किया है. इंजन की बात करें तो इसका पेट्रोल इंजन एक 4 सिलिंडर 1.2 लीटर यूनिट है जो 88 बीएचपी का पॉवर उत्पन्न करता है वहीँ डीजल इंजन एक 1.5 लीटर यूनिट है जो मैन्युअल ट्रांसमिशन के साथ 98.6 बीएचपी और CVT के साथ 80 बीएचपी उत्पन्न करता है.