Fury 175 to the Fantabulous scooter; 7 Royal Enfields of India That You Definitely Do Not Remember Fury 175 से Fantabulous स्कूटर; इंडिया की 7 Royal Enfields जो आपको पक्का नहीं याद होंगी

Fury 175 से Fantabulous स्कूटर; इंडिया की 7 Royal Enfields जो आपको पक्का नहीं याद होंगी

Royal Enfield की स्थापना 1901 में हुई थी और ये लगातार प्रोडक्शन में रहने वाली सबसे पुरानी मोटरसाइकिल ब्रांड होने का दावा करती है. लेकिन, इस कंपनी को हम जिस रूप में आज जानते हैं, उसे 1955 में Enfield India के नाम से बनाया गया था और पिछले 63 सालों में इसने इंडिया में कई आइकोनिक बाइक्स लॉन्च की हैं. लेकिन, इसके सारे मॉडल उतने सफल नहीं हुए हैं. आइये एक नज़र डालते हैं इस ब्रांड के 7 अलग टू-व्हीलर्स पर जिसे इंडियन पब्लिक ने भुला दिया है.

Fury 175

Fury Re

Royal Enfield Fury को ब्रिटिश मार्केट में 1959 में लॉन्च किया गया था. इंडिया में Royal Enfield ने इस नाम से एक 163-सीसी सिंगल सिलिंडर बाइक उतारी. Fury का इंडियन वर्शन जर्मनी के Zundapp KS175 का लाइसेंस्ड प्रोडक्ट था. 1984 में इस जर्मन कंपनी के बंद हो जाने के बाद, Royal Enfield इस बाइक के पार्ट्स को इंडिया इम्पोर्ट किया करती थी. Fury शौकीनों के बीच अपने जर्मन कनेक्शन और पहली बार लाये गए फ़ीचर्स के चलते काफी पॉपुलर थी. इस बाइक में 5-स्पीड ट्रांसमिशन और Brembo के फ्रंट डिस्क ब्रेक थे. यहाँ तक की इंजन में भी स्लीवलेस हार्ड क्रोम सिलिंडर बैरल था.

Royal Enfield Lightning

Explorer Re

Royal Enfield Lightning को एक तरह से आज के Royal Enfield Thunderbird का पूर्वज कह सकते हैं. इस क्रूज़र बाइक का लुक काफी हद तक Royal Enfield Thunderbird जैसा था और ये लम्बी दूरी के टूरर्स को काफी पसंद थी. लेकिन, ये उतना फेमस नहीं हुई जितना कंपनी चाहती थी और इसे 2003 में बनाना बंद कर दिया गया. Lightning में एक 535-सीसी इंजन था जो अधिकतम 26 बीएचपी और 38 एनएम का आउटपुट देता था. इसका 4-स्ट्रोक इंजन एक 4-स्पीड ट्रांसमिशन के साथ आता था जो इस बाइक को 125 किमी/घंटे की टॉप-स्पीड पर लेकर जाता था.

Royal Enfield Explorer 50

Royal Enfield Explorer 50

ये एक और बाइक थी जो Royal Enfield जर्मनी के Zundapp ब्रांड से इम्पोर्ट करती थी. ये 1980 के दशक में थोड़े समय के लिए ही मार्केट में आई थी. इस बाइक को जर्मन मार्केट में 16 वर्षीय युवाओं को बेचा जाता था जहां ये “Mokick” केटेगरी में आती थी. इस केटेगरी के तहत 16 वर्षीय बच्चों को कुछ गिने-चुने बाइक्स चलाने के लाइसेंस दिया जाता था. इस बाइक में 50 सीसी इंजन और 3-स्पीड ट्रांसमिशन था.

Royal Enfield Silver Plus

Re Moped

Royal Enfield Silver Plus एक स्टेप-थ्रू मोटरसाइकिल थी. इसे 1980 के दशक में लॉन्च किया गया था जब स्टेप-थ्रू मोटरसाइकिल्स प्रैक्टिकल, चलाने में आसान, और जगहदार होने के चलते काफी फेमस हो रही थीं. ये इंडिया की पहली स्टेप-थ्रू मोटरसाइकिल थी. Silver Plus का गियर-शिफ्टर हाथ से एक तार के ज़रिये चलता था. इस बाइक में 65-सीसी, सिंगल-सिलिंडर, एयर-कूल्ड इंजन था जिसमें टू-स्पीड ट्रांसमिशन था. इस स्टेप-थ्रू को भी Zundapp की मदद से बनाया जाता था. आगे चलकर Silver Plus में 3 स्पीड ट्रांसमिशन लगा दिया गया.

Royal Enfield Fantabulous

Royal Enfield Scooter

Royal Enfield ने इंडिया के बढ़ते हुए स्कूटर मार्केट में पैर जमाने के लिए Fantabulous को उतारा था. जी हाँ! Royal Enfield स्कूटर भी बनाया करती थी. हालांकि ये मार्केट में कभी ज़्यादा फेमस नहीं हुआ. इसमें Villiers का एक 175-सीसी, 2-स्ट्रोक इंजन था जो अधिकतम 7.5 बीएचपी उत्पन्न करता था. इसमें सेल्फ-स्टार्ट भी था, और ये फ़ीचर तो उन दिनों बाइक्स में भी नहीं मिला करता था.

Royal Enfield Taurus डीजल

Tauras Re

Royal Enfield Taurus इंडिया की इकलौती डीजल पॉवर वाली बाइक थी जो मास प्रोडूस की गयी थी. इस बाइक में एक विशाल 325-सीसी, सिंगल-सिलिंडर इंजन था जिसमें Lambardini इनडायरेक्ट इंजेक्शन था. ये सिर्फ़ 6.5 बीएचपी और 15 एनएम उत्पन्न किया करती थी. ये बाइक 65 किमी/घंटे की टॉप स्पीड तक पहुँच जाती थी और 196 किलो पर काफी वज़नी थी. इस बाइक में Greaves-Lombardini का इंजन था और शौकीनों के बीच ये ‘Diesel Bullet’ के नाम से मशहूर थी.

Royal Enfield Mofa

Royal Enfield Mofa Cycle

Royal Enfield ने इंडिया के मोपेड सेगमेंट में हल्के वज़न और बिना सस्पेंशन वाले 25-सीसी Mofa के साथ एंट्री की. इस बाइक को Italy में Morbidelli द्वारा डिजाईन किया गया था और ये इंडिया में Royal Enfield द्वारा बनाई गयी सबसे छोटी मोटरसाइकिल है. इस स्टेप-थ्रू में सिंगल-टीब डिजाईन था और ये एक मोटर लगे हुए साइकिल जैसी दिखती थी. इंडिया में Mofa के बहुत कम ही उदाहरण हैं और इसे स्पॉट कर पाना बेहद मुश्किल है.

×

Subscibe our Newsletter