तो क्या वाकई 2021 में भारत में लॉन्च होंगी उड़ने वाली कार्स

उड़ने-वाली कार यानि फ्लाइंग कार हमेशा से ही वास्तविकता से परे कल्पनाओं की दुनिया की चीज़ बनी रही है. हालांकि भविष्य में उड़ती हुई कार्स का चरितार्थ हो पाना अब अधिक दूर नज़र नहीं आता. हाल ही में आयोजित किए गए Vibrant Gujarat Summit में एक “फ्लाइंग कार” कंपनी के मुखिया ने कई रोचक जानकारियां साझा की हैं.

Flying Car India Featured Fb1

PAL-V एक हॉलैंड की कम्पनी है जिसने विश्व की पहली व्यावसायिक “फ्लाइंग कार” विकसित की है. और इससे अधिक रोचक  खबर यह है कि यह कार भारत आने वाली है और हो सकता है हमें अपनी पहली उड़ने वाली कार 2021 में देखने को भी मिल जाए. PAL-V के मुखिया Robert Dingemanse — जो Vibrant Gujarat Summit 2019 कार्यक्रम में शिरकत करने आए थे — ने मीडिया से कहा है कि “हमारी कार 2020 में लॉन्च के लिए तैयार है और हम इस कार की पूरे वर्ष के उत्पादन की बुकिंग ले चुके हैं. हमें उम्मीद है कि भारत को इस कार की पहली इकाई 2021 में देखने को मिल जाएगी.”

यह कार निर्माता भारत में इस कार के बाज़ार को खड़ा कर पाने के प्रति आश्वस्त है और उम्मीद करता है कि इस कार को भारतीय कोस्ट गार्ड, पुलिस विभाग, चिकित्सा जगत, सरकारी विभाग, कॉर्पोरेट दुनिया में बड़े स्तर पर इस्तेमाल में लाया जायेगा. यह भी संभव है कि PAL-V इस कार के भारत में निर्माण के लिए एरोस्पेस इंजीनियरिंग और वाहन-निर्माण में विषेशज्ञ कंपनियों की तालाश करें.

Flying Car India Featured 2

PAL-V के अनुसार इस कार को ड्राइव-मोड से फ्लाई-मोड में परिवर्तित करने में लगभग 5 से 10 मिनट का वक़्त लगता है. इस कार का रोटर-मास्ट अपने-आप खुल जाता है मगर रोटर-ब्लेड को खोलने और इसके टेल-सेक्शन को तैयार करने का काम ड्राईवर के द्वारा ही किया जाएगा. कार निर्माता का कहना है कि इस फ्लाइंग कार द्वारा उत्पन्न की जाने वाली ध्वनि का स्तर एक फिक्स्ड-विंग हवाई जहाज़ के बराबर होगा.

मूल रूप से यह एक दो इंजन वाला गाईरोकॉप्टर हवाई जहाज़ होगा. इस कार का ड्राइव-मोड इंजन 99 बीएचपी की अधिकतम पॉवर पैदा करता है जिसकी अधिकतम रफ़्तार 160 किलोमीटर प्रति घंटा है और यह 0 से 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार 9 सेकंड में पकड़ लेता है. हवा में इस फ्लाइंग कार में उड़ने के लिए एक 197 बीएचपी पॉवर पैदा करने वाला फ्लाइंग इंजन लगा है जो 3500 मीटर की अधिकतम ऊँचाई पर 180 किलोमीटर प्रति घंटा की अधिकतम रफ़्तार पर उड़ सकता है. PAL-V का दावा है कि इस कार की उड़ान की सीमा लगभग 310 मील है.

इस बात में कोई दो राय नहीं है कि इन फ्लाइंग कार्स की कीमत बेहद ज्यादा होगी. PAL-V Liberty की कीमत 4.18 करोड़ के लगभग, Liberty Pioneer संस्करण की 3.78 करोड़ रूपए के आस-पास, और इसके Liberty Sport मॉडल की कीमत 2.52 करोड़ रूपए के लगभग की होगी. यह सभी कीमतें बिना टैक्स से हट कर हैं.

भारत में इन ऊंची कीमतों पर फ्लाइंग कार्स खरीदने वालों की कोई कमी नहीं है क्योंकि भारतीय सड़कों पर नज़र आने वाली तमाम Lamborghini, Ferrari, और Rolls Royce कार्स इससे बहुत महंगी हैं. तो इसलिए बात अब PAL-V द्वारा अपनी फ्लाइंग कार को भारत में लॉन्च किए जाने में देरी की है न कि भारतीय रईसों द्वारा इनको खरीद पाने की.