मशहूर फिल्मों के गानों में इस्तेमाल हुई और भी मशहूर गाड़ियाँ…

बॉलीवुड की फिल्में हम सभी की ज़िन्दगी का एक बड़ा हिस्सा रही हैं. फिर चाहे बात ब्लैक एंड वाइट ज़माने की हो या रंगीन परदे की. फिल्में काफी लोगों के लिए केवल एक मनोरंजन का साधन हैं तो कई के लिए उस चकाचौंध का माध्यम हैं जिसे हासिल करना उनके इस जीवन में थोड़ा मुश्किल है. हसीन अभिनेत्रियों और एक्शन सीन्स के अलावा इन फिल्मों का एक और महत्वपूर्ण हिस्सा रही हैं इनमें दर्शाए गए वाहन. आज हम आपके लिए पांच ऐसे सदाबहार गीत लेकर आए हैं जिनमें अभिनेता के अलावा चित्रित वाहन भी उतने ही लोकप्रिय हुए थे.

कार: 1958 Fiat Spyder

फिल्म: मेरे जीवन साथी

गाना: चला जाता हूँ किसी की धुन में…

1972 की फिल्म ‘मेरे जीवन साथी’ के लोकप्रिय गीत ‘चला जाता हूँ किसी की धुन में’ में 80 के दशक के सुपरस्टार Rajesh Khanna अपने मस्त मौला ढंग में पहाड़ियों पर एक 1958 Fiat Spyder चलाते हुए अपने दिल का हाल दर्शकों को ज़ाहिर करते हुए दिखाई देते हैं. Rajesh Khanna इसे पहले और इसके बाद भी अपनी फिल्मों में कई आलिशान कार्स चलते दिखाई दिए हैं. ये 2-डोर रोडस्टर एक रियर व्हील कार थी जिसका 1.2-लीटर इंजन 58 पीएस की पॉवर और 81.5 एनएम की टार्क उत्पन्न करता था जिसके चलते ये कनवर्टिबल 140 किलोमीटर/घंटे की टॉप-स्पीड तय कर लेती थी. बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार इस गीत में एक नारंगी रंग की Spyder चलाते दिखाई देते हैं.

कार: 1964 Willys CJ3 B

फिल्म: धर्मात्मा

गाना: क्या ख़ूब लगती हो…

https://www.youtube.com/watch?v=1gp7rStZm-o&t=52s

बॉलीवुड के ओरिजिनल खाँ साहब ज़िन्दगी को ना सिर्फ अपनी शर्तो पर जीते थे बल्कि ज़िन्दगी के हर पल को आलिशान तरीके से जीना भी जानते थे. 1975 की ब्लॉकबस्टर फिल्म धर्मात्मा में बॉलीवुड के ओरिजिनल बैडबॉय Firoz Khan अफ़ग़ानिस्तान की घाटियों में 1964 Willys CJ3 B चलाते हुए Hema Malini की ख़ूबसूरती की तारीफ करते दिखाई देते हैं. इस जीप की विंडशील्ड हटा कर इसे फ्लैट हुड लुक में इस्तेमाल किया गया है. Willys दूसरे विश्व युद्ध में इस्तेमाल की जाने वाली एक मशहूर वाहन थी जो अपने किसी भी तरह की सतह पर चलाई जाने वाली क्षमता के लिए लोकप्रिय थी. इस वॉर मशीन में 2.2-लीटर 4-सिलिंडर F4-134 Hurricane 14 इंजन था. ये इंजन 72 एचपी उत्पन्न करता था जो वाहन के हाई ग्राउंड क्लीयरेंस और ठोस बॉडी आकार की मदद से इसे ऐसे इलाकों में ले जाता था जहाँ अच्छी-भली कार्स के पसीने छूट जाएं. इस गीत में फिल्म के विलन इस जोड़ी का एक Land Rover में पीछा करते भी दिखाई देते हैं.

कार: 1928 Ford Model A

फिल्म: चलती का नाम गाड़ी

गाना: बाबू ! समझो इशारे…

सदाबहार संगीतकार Kishore Kumar की बतौर अभिनेता फिल्मों में से ‘चलती का नाम गाड़ी’ हर किसी की ब्लैक एंड वाइट ज़माने की यादें ताज़ा कर देती है, फिर चाहे वो Madhubala की ख़ूबसूरती के दीवाने हों, Kishore दा की आवाज़ के चाहने वाले, या फिर खुद इस फिल्म को अनगिनत बार देखने वाले. फिल्म का प्रसन्नचित गीत जिसमें Kishore अपने भाई Ashok Kumar के साथ एक 1928 Ford Model A में मुंबई की सड़कों पर घूमते दिखाई देते हैं. बल्कि ये गीत खुद ज़िन्दगी को एक कार की तरह चित्रित कर रहा है. ये कार 3.3-लीटर L-head इनलाइन-4-सिलिंडर इंजन द्वारा संचालित थी जो 3-स्पीड गियरबॉक्स के साथ मिलकर 41 पीएस उत्पन्न करता था. ये कार 105 किलोमीटर/घंटे की टॉप-स्पीड तय कर लेती थी जो इसके युग को ध्यान में रखते हुए एक बेहतरीन आकंड़ा है.

कार: 1948 Studebaker Commander Convertible

फिल्म: कश्मीर की कली 

गाना: कहीं न कहीं दिल…

बॉलीवुड के ‘जंगली’ Kapoor अपने बारातियों का स्वागत Pan Parag से किया जाना पसंद करते थे. 1964 की मेगाहिट फिल्म ‘कश्मीर की कली’ में Shammi Kapoor एक 1948 Studebaker Commander Convertible में कश्मीर की ख़ूबसूरत पहाड़ियों में सफ़ेद रंग की विशाल 6-सिलिंडर 3.7-लीटर इंजन वाली Studebaker चलते देखे गए थे. ये कार 95 बीएचपी उत्पन्न करती थी और अपने समय में रईस लोगों की पसंदीदा कार्स में से एक थी.

मोटरसाइकिल: 1942 BSA M20

फिल्म: शोले

गाना: ये दोस्ती…

कार न सही पर ये लिस्ट इस एंट्री के बिना अधूरी-सी रह जाएगी. 1975 की फिल्म ‘शोले’ — जिसने बॉलीवुड में खलनायकों को एक नई पहचान दी — में आज भी दोस्ती का प्रतीक माना जानेवाले, अपने अमर संगीत ‘ये दोस्ती,हम नहीं भूलेंगे’, में बॉलीवुड की मशहूर जोड़ी ‘जय – वीरू’ को एक 1942 BSA WM 500cc मोटरसाइकिल पर जेल से फ़रार होते देखा गया था. इस पूरे गाने में तीन लोग प्रसिद्ध हुए थे — Amitabh Bachan, Dharmendra और साइडकार बोगी वाली BSA M20. ये गीत जितना दोनों अभिनेताओं पर फिल्माया गया है उतना ही इस BSA पर. BSA M20 मोटरसाइकिल एक 496 सीसी सिंगल सिलिंडर साइड वाल्व 4-स्ट्रोक इंजन द्वारा संचालित थी जो 4200 आरपीएम पर 13 बीएचपी उत्पन्न करता था.