Daewoo Nexia से Peugeot 309; 12 सेडान्स जिन्हें कस्टमर्स ने पूरी तरह से नज़रन्दाज़ कर दिया

सेडान्स को हमेशा से ही अपने बेहतरीन कम्फर्ट लेवल और स्ट्रीट प्रजेंस के लिए जाना गया है. कुछ काफी स्पोर्टी भी होती हैं. लेकिन, दुर्भाग्य की बात है की कम से कम एक दर्जन ऐसी सेडान हैं जिन्हें कस्टमर्स ने पूरी तरह से नज़रन्दाज़ कर दिया. इनमें से अधिकांश अच्छे प्रोडक्ट्स हैं लेकिन वो किसी न किसी कारण से सेल्स में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए. आज हम ऐसी ही 12 सेडान्स पर एक नज़र डालते हैं जो किसी को याद नहीं.

Mitsubishi Cedia

Cedia ने भारत में Lancer की विरासत को आगे बढ़ाया था. Cedia ड्यूल एयरबैग्स और ABS जैसे सभी आधुनिक सुरक्षा उपकरणों के साथ आई थी लेकिन Honda City से कड़े मुकाबले ने Cedia को बाजार में बहुत लोकप्रिय नहीं होने दिया. इस कार का 2.0-लीटर इंजन अधिकतम 115 बीएचपी और 175 एनएम उत्पन्न करता था. ये कार अपने समय की काफी पॉवरफुल कार थी पर इसका माइलेज खासा कम था.

Ford Escort

Escort वो पहली कार थी जो इंडियन मार्केट में Ford के लोगो के साथ लॉन्च की गयी थी. ये बड़ी सेडान इंडियन मार्केट में Ford और Mahindra के पार्टनरशिप के बाद ब्रांड की पहली कार थी. Escort ढेर सारे फ़ीचर्स के साथ आई थी जिसमें पॉवरड ORVMs, पॉवर स्टीयरिंग, म्यूजिक सिस्टम, एसी, और पॉवर विंडोज़ थे. ये काफी जगहदार कार थी जिसमें बड़ा बूट स्पेस और रियर में काफी जगह थी. लेकिन Escort मार्केट में चल नहीं पायी. इसमें दो इंजन ऑप्शन थे: 1.3-लीटर पेट्रोल और 1.8-लीटर डीजल.

Peugeot 309

Premier Motors Ltd (PAL) और Peugeot ने साथ मिलकर देश में 309 सेडान लॉन्च किया था. Peugeot 309 में पेट्रोल और डीजल दोनों इंजन मिलते हैं. 309 की राइड क्वालिटी बेहतरीन थी और इसके TUD5 diesel इंजन ने बहुत ख्याति बटोरी एवं ये अपने लम्बे लाइफ और ऊंचे माइलेज के लिए फेमस थी.

Daewoo Nexia

Nexia दरअसल Daewoo Cielo का पॉवरफुल वर्शन है. Nexia भारत में अधिक पॉवरफुल 1.6-लीटर पेट्रोल इंजन के साथ आई थी जो लगभग 90 बीएचपी उत्पन्न था. ये कार अपने स्ट्रेट लाइन डिज़ाइन के साथ काफ़ी क्लासी लगती थी. Nexia का उत्पादन भारत में Daewoo के व्यापार समाप्त हो जाने के बाद रुक गया. Nexia का माइलेज काफी कम था पर इसका डिज़ाइन अपने वक्त के हिसाब से बेमिसाल था. आज कल Nexia की झलक भी दिखना काफी मुश्किल है.

Nissan Teana

Nissan Teana एक D2-सेगमेंट सेडान थी जो Skoda Superb और Honda Accord से टक्कर लेती थी. Teana इंडिया में CBU के रास्ते आती थी. इसमें आरामदायक केबिन थी और ये काफी अच्छी दिखती भी थी. लेकिन, इसकी सेल्स कुछ ख़ास नहीं थीं क्योंकि इसका पेट्रोल इंजन उतनी अच्छी माइलेज नहीं देता था, इसकी कीमत बहुत ज़्यादा थी, मेंटेनेंस महंगी थी, और इसका सर्विस नेटवर्क भी बहुत छोटा था.

Opel Vectra

इंडिया में 2002 में लॉन्च की गयी Opel Vectra एक D-सेगमेंट सेडान थी जो अपने समय के काफी आगे थी. इस सेडान में 2.2-लीटर इंजन था जो 146 बीएचपी ऑफर किया करता था. जहां Vectra में काफी हाई कम्फर्ट लेवल और ढेर सारे फ़ीचर्स मिला करते थे, इसे ढेर सारे कस्टमर्स नहीं मिल पाए. Opel ने एक सस्ते फेसलिफ्ट मॉडल के साथ भी कस्टमर्स को रिझाने की कोशिश की लेकिन Vectra मुश्किल से 500 यूनिट्स बेच पायी.

Rover Montego

Rover Montego को 1991 में भारत में लॉन्च किया गया था. ये कार दो बॉडी वेरिएंट – सेडान और स्टेशन वैगन में उपलब्ध थी. आप में से कई को ये कार याद नहीं होगी इसके दोनों बॉडी वैरिएंट्स अधिक फ्लॉप थे. इन कार्स को बैंगलोर स्थित Sipani Automobiles द्वारा भारत लाया गया था. Rover Montego मूल रूप से एक रिबैज्ड Austin Montego थी जिसे 1984 में अपने वतन के बाजार में लॉन्च किया गया था.

Maruti 1000

Maruti 1000 को 1990 में लॉन्च किया गया था. असल में, ये उस समय की Suzuki Swift का सेडान वर्शन थी. इस कार के लिए एक बड़ी प्रतीक्षा अवधि थी और कारों को कंप्यूटराइज्ड लॉटरी के माध्यम से आवंटित किया जाता था. 1000 को ‘elite’ (अभिजात वर्ग) की कार माना जाता था क्योंकि इसकी कीमत 3,81,000 थी, जो उस समय के हिसाब से काफी ज़्यादा थी. ऐसा कहा जाता है कि Maruti 1000 देश की 99.5% से अधिक आबादी के लिए पहुंच से बाहर थी.

Fiat Siena

Fiat Siena असल में Maruti Esteem से टक्कर लेती थी लेकिन ये Fiat के बदनाम सर्विस नेटवर्क और ब्रांड के खराब इमेज के चलते फेल हो गयी. Siena को Petra से रिप्लेस किया गया था, जो एक और Fiat सेडान जिसने सेल्स में अच्छा परफॉर्म नहीं किया. आज मुश्किल से ही किसी को ये मछली से चेहरे जैसी सेडान याद है.

Tata Indigo XL

Indica प्लॅटफॉर्म Tata Motors के लिए सबसे वर्सटाइल रहा है. Indigo XL एक और ऐसी गाड़ी थी जिससे पता चलता था की Indica को वाकई कैसे स्ट्रेच किया जा सकता है. Honda Accord से ज़्यादा स्पेशियस एक लिमोज़ीन, Indigo XL Indigo Sedan का स्ट्रेच्ड वर्ज़न थी. मैसिव लेगरूम  था इसकी ख़ासियत और कैब सेगमेंट में कुछ कारें बिकीं भी. पर्सनल कार खरीदारों ने इसे अपनी पसंद के हिसाब से थोड़ा ज़्यादा अलग पाया.

Suzuki Kizashi

Kizashi को भारत की सबसे किफायती CBU के रूप में जाना जाता है. लेकिन ऊंची कीमत और पेट्रोल इंजन के साथ सुजुकी के लोगो ने इस कार को ग्राहकों के बीच कुछ ख़ास प्रसिद्ध नहीं किया. आज भी Kizashi सड़कों पे आधुनिक कारों जैसी दिखती है और इसका डिजाईन काफी फ्यूचरिस्टिक लगता है. दुःख की बात की कार ने भारतीय बाज़ार में ज्यादा ख्याति नहीं पायी और आसानी से भुला दी गयी.

Ford Fiesta facelift

Ford Fiesta फेसलिफ्ट में Aston Martin के जैसी हेक्सागन फ्रंट ग्रिल, पावरफुल इंजन, और अच्छे डायनामिक्स थे. लेकिन, कार के कम जगह वाले रियर सीट्स और Honda City जैसी गाड़ियों से टक्कर मिलने के चलते इसके सेल्स उतने अच्छे नहीं थे. Fiesta फेसलिफ्ट इस लिस्ट की सबसे मॉडर्न सेडान है लेकिन हम शर्तिया कह सकते हैं की आप सब इस कार को भूल गए होंगे.