Daewoo और Mitsubishi की भूली-बिसरी कार्स जो मार्केट ने भुला दिया

भारतीय कार बाज़ार में तीन दशक से कई विदेशी निर्माता अपने उत्पादों को बेच रहे हैं. एक वक्त था जब Daewoo और Mitsubishi अपने उत्पादों को लेकर भारतीय मार्केट में काफी सक्रिय थे, पर अंत में, कीमत पर फोकस करने वाला भारतीय बाजार में इनके कई मॉडल्स सक्षम साबित नहीं हुए. आइये देखें की Daewoo और Mitsubishi की वो कौन सी कार्स हैं जो भारतीय मार्केट में भुला दी गई हैं.

Daewoo Cielo

Daewoo की Cielo सेडान कई केटेगरी तथा वर्गों में भारतीय मार्केट में अपने तरह की पहली कार थी. इस कार का 1.5-लीटर 4-सिलिंडर पेट्रोल इंजन 80 बीएचपी – 128 एनएम उत्पन्न करता था. ये वो पहली मास मार्केट कार थी जिसमें फ्यूल-इंजेक्शन तथा 3-स्पीड आटोमेटिक ट्रांसमिशन ऑप्शन उपलब्ध था. ये कार अपने सेगमेंट में आटोमेटिक ट्रांसमिशन की ऑफर करने वाली पहली कार थी जो सीधे Maruti 1000/ Esteem को चुनौती देने के लिए उतारी गई थी.

Daewoo Nexia

Nexia दरअसल Daewoo Cielo का पॉवरफुल वर्शन है. Nexia भारत में अधिक पॉवरफुल 1.6-लीटर पेट्रोल इंजन के साथ आई थी जो लगभग 90 बीएचपी उत्पन्न था. ये कार अपने स्ट्रेट लाइन डिज़ाइन के साथ काफ़ी क्लासी लगती थी. Nexia का उत्पादन भारत में Daewoo के व्यापार समाप्त हो जाने के बाद रुक गया. Nexia का माइलेज काफी कम था पर इसका डिज़ाइन अपने वक्त के हिसाब से बेमिसाल था. आज कल Nexia की झलक भी दिखना काफी मुश्किल है.

Daewoo Matiz

Matiz भारतीय बाज़ार में Daewoo की सबसे प्रसिद्ध कार बन गई थी. ये एंट्री-लेवल हैचबैक 90 के दशक के अंत में मार्केट में प्रसिद्ध Hyundai Santro और Maruti 800 को चुनौती देने के लिए पेश की गई थी. Matiz काफी फेमस हुई थी पर इसके बावजूद कम्पनी इसे Maruti और Hyundai की पहले से स्थापित कारों के खिलाफ एक असली प्रतियोगी नहीं साबित कर पाई. इस कार में अपने सेगमेंट में सबसे एडवांस्ड 796 सीसी, 3-सिलिंडर पेट्रोल इंजन मौजूद था.

Mitsubishi Lancer

Lancer भारत में Mitsubishi ब्रांड की लॉन्च हुई सबसे प्रतिष्ठित कार है. Lancer एक ऐसी कार थी जिसने अंतराष्ट्रीय स्तर पर Mitsubishi ब्रांड के लिए सफलता की कहानी लिखी थी. Mitsubishi के खराब बिक्री नेटवर्क और बिक्री के बाद के समर्थन के कारण देश में कम्पनी की छवि अच्छी नहीं रह गयी, पर इसके बावजूद Lancer अपनी टेस्टिंग रैली की क्षमताओं के कारण काफ़ी लोकप्रिय रही थी.

Lancer का 1.5-लीटर पेट्रोल इंजन 87 बीएचपी की अधिकतम पॉवर उत्पन्न करता था. Honda City के आगमन ने Lancer की लोकप्रियता को कम कर दिया था.

Source

Mitsubishi Cedia

Cedia ने भारत में Lancer की विरासत को आगे बढ़ाया था. Cedia ड्यूल एयरबैग्स और ABS जैसे सभी आधुनिक सुरक्षा उपकरणों के साथ आई थी लेकिन Honda City से कड़े मुकाबले ने Cedia को बाजार में बहुत लोकप्रिय नहीं होने दिया. इस कार का 2.0-लीटर इंजन अधिकतम 115 बीएचपी और 175 एनएम उत्पन्न करता था. ये कार अपने समय की काफी पॉवरफुल कार थी पर इसका माइलेज खासा कम था.

Mitsubishi Outlander

Mitsubishi ने भारतीय बाज़ार में 7-सीटर Outlander को 2012 में लॉन्च किया था. इससे पहले कम्पनी 5-सीटर मॉडल बेचा करती थी. 2010 में कम्पनी ने Outlander का फेसलिफ्टेड वर्शन लॉन्च किया था जो अपनी “जेट फाइटर” से प्रभावित ग्रिल के लिए काफी चर्चित हुई थी. हालांकि इस कार को ज़्यादा लोगों ने नहीं ख़रीदा था और आज इस कार को ज़्यादातर लोग भूल चुके हैं. ये कार रिमोट फोल्डिंग सीट्स, कूल्ड ग्लव बॉक्स जैसे कई और एडवांस्ड फीचर्स के साथ आई थी. Outlander में 2.4-लीटर Mivec पेट्रोल इंजन मौजूद था जिसमें CVT आटोमेटिक ट्रांसमिशन भी उपलब्ध था.