CVT, AMT, या DSG; हर प्रकार के ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के डिटेल्स हैं मौजूद यहाँ!

ट्रांसमिशन (या गियरबॉक्स) एक वाहन के इंजन और ड्राइव पहियों के बीच एक पुल होता है. ये टॉर्क और पॉवर को विभिन्न स्पीड लिमिट्स में बदलता है. आसान शब्दों में कहा जाए तो ये एक कार को आगे और पीछे जाने में मदद करने के लिए पहले पार्ट से दूसरे पार्ट में पॉवर भेजता है. गियरबॉक्स का ऑटोमैटिक वर्शन वाहनों के चलने  के साथ गियर बदल सकता है, ड्राइवर को मोड सेलेक्ट करने के अलावा कुछ भी करने की आवश्यकता नहीं होती है. मॉडर्न वाहनों में कई प्रकार के ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन होते हैं. आइये इनके अलग-अलग प्रकारों पर एक नज़र डालते हैं:

ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के प्रकार

वाहन के मेक और मॉडल के आधार पर ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन टाइप्स कई वर्शन्स में उपलब्ध है.

Torque Converter Transmission या पारम्परिक ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन

अक्सर टॉर्क कनवर्टर ऑटोमैटिक कहलाया जाने वाला ये ट्रांसमिशन, स्टैण्डर्ड टाइप का ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन है जी आजकल ज्यादातर कार्स में पाया जाता है. मैन्युअल गियरबॉक्स के विपरीत, ये गियर्स बदलने के लिए क्लच का उपयोग नहीं करता है. इसके बजाए, एक हाइड्रोलिक फ्लूइड कपलिंग या टॉर्क कनवर्टर ये काम करता है. ये इंजन के Electronic Control Unit से जुड़कर वाहन के सटीक नियंत्रण की अनुमति देता है.

ऑटोमैटिक कार्स स्मूथ तरीके से परफॉर्म करती हैं, लेकिन गियर की शिफ्टिंग हर बार तेज़ नहीं होती है, जिस के कारण इन्हें ‘स्लैशबॉक्स’ भी कहा जाता है. हालांकि Porsche Panamera, BMW X1, Kia Sportage और Jaguar जैसी कई परफॉरमेंस कार्स में मिलने वाले ZF 8-स्पीड जैसे कुछ शानदार ट्रांसमिशन मॉडल की बदौलत ये  इंप्रेशन बदल रहा है.

AMT (Automated Manual Transmission) या ऑटोमेटेड-मैन्युअल ट्रांसमिशन

सेमि-ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन (SAT) नाम से जाना जाने वाला ये ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन टाइप, नियमित क्लच और गियर सेटअप का उपयोग करता है लेकिन सेंसर, एक्ट्यूएटर, प्रोसेसर और न्यूमेटिक्स के उपयोग से गियर बदलने के कार्य को ऑटोमैटिक करता है.

इस ट्रांसमिशन वाली कार्स हाईवेज़ पर बेहतर परफॉरमेंस प्रदान करती हैं. इन कार्स की शहर की ड्राइविंग के लिए राय नहीं दी जाती है क्योंकि इनका इंजन कठोर एक्सीलीरेशन के तहत झटकेदार होता है.

CVT (Continuously Variable Transmission) या कन्टिन्यूसली वेरिएबल ट्रांसमिशन

गियर बदलने के लिए, पारंपरिक ऑटो ट्रांसमिशन में पाए जाने वाले स्टील गियर के बजाय ये गियरबॉक्स पुली का उपयोग करता है. ये कई गियर रेश्योस की कई रेंज के साथ स्मूद गियर शिफ्टिंग और इंजन को अधिकतम RPM (स्पीड) पर घूमने में सुविधा प्रदान करता है.

दो और प्रकार के CVT होते हैं. Hydrostatic CVT इंजन को पॉवर भेजने के लिए हाइड्रोस्टैटिक मोटर और variable-displacement पंप का उपयोग करता है. दूसरी तरफ, Toroidal CVTs इस कार्य के लिए डिस्क और पॉवर रोलर्स का उपयोग करते हैं.

ये ट्रांसमिशन इंजन को बेहतरीन एक्सीलीरेशन के साथ अधिकतम दक्षता पर काम करने की अनुमति देता है. यह ईंधन दक्षता के लिए अच्छा होता है, और इसकी रिपेयरिंग और मेंटेनेंस भी महंगी नहीं होतीं हैं. हालांकि, इंजन एक्सीलीरेशन और लोड के तहत बहुत शोर मचाता है. Maruti Baleno, Nissan Micra, Honda Jazz, Honda City समेत कई मॉडल्स में इस गियरबॉक्स का उपयोग किया जाता है.

DCT (Dual Clutch Transmission) या ड्यूल-क्लच ट्रांसमिशन

यह ऑटोमैटिक और मैनुअल ट्रांसमिशन का एक हाइब्रिड है. DCT में कोई टॉर्क कनवर्टर नहीं होता है. आप गियर बदलने के लिए दो अलग शाफ्ट का उपयोग करेंगे, एक विषम संख्या के लिए और दूसरा सम संख्या गियर के लिए. दोनों शाफ्ट्स का अपना क्लच होता है.

आप ऊँचे या निचले गियर पर पलक झपकते ही शिफ्ट कर सकते हैं और ऑटोमैटिक से मैन्युअल में परिवर्तन भी निर्बाध है. हालाँकि DCT गियरबॉक्स शोर मचाने वाले  क्लच, घिसने की आवाज़ और रफ शिफ्ट्स से मुक्त नहीं है.

DSG (Direct Shift Gearbox) या डायरेक्ट शिफ्ट गियरबॉक्स

ये लगभग DCT के समान है लेकिन बिना उसकी परेशान करने वाली समस्याओं के. ये टॉर्क कनवर्टर की बजाय दो क्लच्स का उपयोग करता है, और इसकी मैकेनिज्म में सिम्पल तौर पर एक क्लच को छोड़कर गियर बदलने के लिए दूसरे को इस्तेमाल करता है. ये ट्रांसमिशन पारंपरिक मॉडल से ज़्यादा तेज़ी से गियर शिफ्टिंग करता है.

मॉडर्न DSG यूनिट मैन्युअल गियरबॉक्स से बेहतर ईंधन दक्षता प्रदान करता है. DCT एक ड्राई ट्रांसमिशन है जिसमें ड्राइवर को गियरबॉक्स फ्लूइड को कभी भी बदलने की आवश्यकता नहीं होती है. ये क्लच को सूखा छोड़ देता है और अंततः उसकी फ्रिक्शनल क्वॉलिटी को कम कर देता है. परिणाम अचानक शिफ्ट्स, गियर शिफ्टिंग के लिए धीमी प्रतिक्रियाएं, और झटकेदार ट्रांसमिशन हैं. दूसरी तरफ, DSG एक ऐसा ट्रांसमिशन है जो क्लच में चिकनाई बनाए रखता है जिसका नतीजा सालों के लिए गोली की तरह तेज़ और स्मूद गियर-शिफ्टिंग परफॉरमेंस होती है. हालांकि, आपको नियमित आधार पर गियर फ्लूइड बदलना पड़ता रहा करेगा, जो महंगा खर्च हो सकता है.

आपको कौन सा ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन चुनना चाहिए ? ये निर्भर करता है कार के मेक, मॉडल और किस तरह की परफॉरमेंस आप चाह रहे हैं उसपर. इसके अलावा, बजट भी एक बड़ा मुद्दा है. उम्मीद है कि हमारे इस लेख से आपको कुछ हद तक मदद मिलेगी.