एक्सीडेंट कवर अनिवार्य किए जाने से कार/बाइक के बीमा प्रीमियम्स होंगे महंगे

भारत में बीमा नियामक और विकास प्राधिकरण (IRDAI) ने वाहन बीमा करने वाली कंपनियों को ‘अनिवार्य व्यक्तिगत दुर्घटना’ (CPA) कवर को 15 लाख रुपए तक बढ़ाने के आदेश दिए हैं. यह भारत की सड़कों पर चल रहे हर कार और बाइक मालिक के ऊपर लागू होगा. इससे वाहन बीमा की कीमतें इस महीने में दूसरी बार बढ़ेंगी.

Insurance1

अनिवार्य व्यक्तिगत दुर्घटना कवर को बढ़ाने का ये आदेश Madras High Court के अक्टूबर 2017 के उस फैसले के बाद आया है जिसमें कोर्ट ने IRDAI को व्यक्तिगत बीमा कवर 15 लाख रुपए तक बढ़ाने के लिए आदेश दिया था. ध्यान रहे कि पहले दुपहिया वाहन के लिए ‘Capital Sum Insured’ (CSI) 1 लाख रुपए था और 4-व्हीलर्स के लिए 2 लाख रुपए. यह निश्चित तौर पर सड़क हादसों के शिकार लोगों और उनके परिवारजनों के लिए कुछ राहत देने वाली खबर है.

मालिक-ड्राइवर के लिए व्यक्तिगत दुर्घटना कवर को बढ़ाये जाने के इस फैसले के बाद अब प्रीमियम बढ़ कर 750 रुपए हो जाएगा जो पहले दुपहिया वाहन के लिए 50 रुपए और चारपहिया वाहन के लिए 100 रुपए हुआ करता था. बीमा नियमों के अनुसार गाड़ी मालिक के लिए पर्सनल एक्सीडेंट कवर अनिवार्य है और ये गाड़ी मालिक और उनके ड्राइवर को कवर करता है. इस पर बीमा कम्पनी द्वारा ‘व्यापक कवर्स’ और ‘थर्ड पार्टी लायबिलिटी कवर्स’ भी दिया जायेगा.

IRDAI ने कहा है कि जो भी वाहन मालिक 15 लाख के कवर के इच्छुक हैं वो नए 750 रुपए के न्यूतम प्रीमियम के लिए लगने वाली अतिरिक्त राशि का भुगतान कर इसे ले सकते हैं. 15 लाख रुपए के नए CSI को हासिल करने के लिए ग्राहक अपने वाहन का बीमा उस तारीख से करवा सकते हैं जिस तारीख को बीमा कम्पनी के पास IRDAI के आदेश का सर्कुलर पहुंचा हो.

इस महीने में यह दूसरी बार है जब ऑटोमोबाइल बीमे की कीमतों में वृद्धि हुई है और इत्तेफ़ाक़न ये भी दूसरी बार हुआ है की इस कदम को भारतीय न्यायपालिका के आदेश के बाद उठाया गया है. सितम्बर 1 के बाद से सुप्रीम कोर्ट के आदेश के पश्चात IRDAI ने अपने एक डायरेक्टिव में किसी भी नई या पुरानी कार या SUV के बीमे के लिए 5 साल के थर्ड पार्टी इंश्योरेन्स को अनिवार्य कर दिया था. दुपहिया वाहनों के लिए अनिवार्य थर्ड पार्टी बीमे की अवधि को न्यूनतम 3 साल के लिए निर्धारित किया गया है. सुप्रीम कोर्ट के सड़क सुरक्षा बढ़ाये जाने के आदेश के बाद अनिवार्य किये गए इन बदलावों के चलते भारत में कार और बाइक्स की ऑन-रोड कीमतों में कम से कम 4 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. वहीं प्रीमियम की नई बढ़ी हुई दरें चार पहिया और दुपहिया वाहनों के लिए क्रमशः 650 रुपए और 700 रुपए के बीच होंगी और इसके चलते मिलने वाले फायदों को आम जनता यक़ीनन सराहेगी.