PUC प्रमाणपत्र के बिना भारत में चलने वाले वाहन जनवरी 2021 से अपनी RC खो सकते हैं

Ad

परिवहन के लिए नियम और कानून अधिक से अधिक सख्त हो रहे हैं। बस BS6 उत्सर्जन मानकों की तरह, जो बहुत सख्त हो गए और कई डीजल इंजनों को बंद कर दिया गया, PUC या प्रदूषण नियंत्रण नियंत्रण प्रमाण पत्र नहीं होने के नियमों को और अधिक सख्त बना दिया गया। बहुत से लोग अपने वाहन के दस्तावेजों को गंभीरता से नहीं लेते हैं। वे समय पर नियंत्रण प्रमाण पत्र और बीमा के तहत अपने प्रदूषण को नवीनीकृत नहीं करते हैं। सरकार इन चीजों को जनवरी 2021 से मुश्किल से बचा सकती है।

Hindustan के अनुसार, सड़क परिवहन मंत्रालय द्वारा 27 नवंबर को प्रकाशित एक मसौदा अधिसूचना में PUC प्रणाली को ऑनलाइन सिस्टम में स्थानांतरित करने से पहले सुझाव मांगे गए हैं। यह प्रक्रिया पूरी तरह कार्यात्मक होने में दो महीने लग सकते हैं। इसलिए, यह जनवरी 2021 से लागू होना चाहिए। निर्धारित समय के भीतर प्रदूषण नियंत्रण को नवीनीकृत करना अनिवार्य हो जाएगा। PUC प्रमाणपत्र को नवीनीकृत करने के लिए वाहन के उपयोगकर्ता को सात दिनों का समय दिया जाएगा। यदि वह वैध प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने में विफल रहता है, तो उसके वाहन के पंजीकरण प्रमाणपत्र को जब्त कर लिया जाएगा।

नई प्रणाली के माध्यम से, वाहन के सभी मालिक की जानकारी उन सर्वरों पर अपलोड की जाएगी जो एक मोटर वाहन डेटाबेस से जुड़े हैं। इससे लोगों को प्रदूषण नियंत्रण नियंत्रण प्रमाण पत्र के साथ अपने वाहनों का उपयोग जारी रखना मुश्किल हो जाएगा। इसके बाद लोगों को अपने मोबाइल नंबर PUC केंद्र पर कार्यकारी को साझा करने होंगे, जिसके बाद फोन नंबर पर एक ओटीपी या वन-टाइम पासवर्ड भेजा जाएगा। एक बार, ओटीपी सिस्टम द्वारा सही पाया जाता है, उसके बाद ही सिस्टम फॉर्म बनाने की अनुमति देगा। यह गुंडागर्दी की संभावना को कम करने के लिए किया जा रहा है।

साथ ही, वाहनों के उपयोगकर्ताओं को अतिरिक्त धुएं के उत्सर्जन के लिए अपने वाहनों की जांच करने के लिए कहा जा सकता है। यह वाणिज्यिक वाहनों के मालिकों पर भी लागू होता है। उपयोगकर्ताओं को अपने वाहनों को ठीक करने के लिए सात दिन दिए जाएंगे।

इन सभी उपायों को नियंत्रण में AQI या Air Quality Index को नियंत्रित करने के लिए लिया जा रहा है। Air Quality Index यह मापने के लिए एक सूचकांक है कि वायु प्रदूषण किसी व्यक्ति के स्वास्थ्य को कम समय में कैसे प्रभावित कर सकता है। शनिवार से दिल्ली का Air Quality Index पहले से ही खराब श्रेणी में है। दिल्ली का 24 घंटे का औसत एक्यूआई 231 था।

संदर्भ के लिए, शून्य और 50 के बीच Air Quality Index को ‘अच्छा’ माना जाता है, 51 और 100 को ‘संतोषजनक’, 101 और 200 का अर्थ ‘मध्यम’, 201 और 300 को ‘खराब’, 301 और 400 को ‘बहुत खराब’, और 401 और 500 ‘गंभीर’ हैं। इस खराब Air Quality Index के कई कारण हैं। उनमें से कुछ वाहनों की बढ़ती संख्या, पटाखों से निकलने वाले धुएँ, जो दिवाली, निर्माण और विध्वंस, कृषि उत्पादों आदि पर फट रहे थे।

वाहन उत्सर्जन के लिए कड़े नए नियम सभी वाहन मालिकों से अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए हैं। जबकि वाहन उत्सर्जन के कारण प्रदूषण खराब वायु गुणवत्ता का विलक्षण कारण नहीं है, प्रत्येक मालिक को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उसका वाहन उत्सर्जन मानदंडों को पूरा करता है।

स्रोत