Bajaj Dominar Vs. Royal Enfield Himalayan और Off-Road Track: देखें क्या हुआ [Video]

Bajaj Dominar जो फ़िलहाल ब्रांड का फ्लैगशिप मॉडल है, ने अपने कई ऐड्स में Royal Enfield को टारगेट किया है. जहां इन दो मोटरसाइकिल्स के बारे में पहले कई बार बहस हो चुकी है, एक विडियो सामने आया है जिसमें Royal Enfield Himalayan और Bajaj Dominar को एक ही भूखंड पर आमने सामने होते हुए दिखाया गया है.

तो ये हुआ.

When Dominar wanted to compare itself with Himalayan.. 🤭🤭Credits #hafeezshaikh

Chennai Bullet Club ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಮಂಗಳವಾರ, ಮಾರ್ಚ್ 20, 2018

इस विडियो में Royal Enfield Himalayan इस बिना सड़क वाले भूभाग पर बिना किसी दिक्कत के चढ़ जाती है. इसके बाद, Himalayan के पीछे आ रही Bajaj Dominar एक गहरे बालू के गड्ढे में फँस जाती है. Dominar के पीछे वाला चक्का गड्ढे में फँस जाता है और स्पिन करने लगता है.

इसके बाद राइडर वापस जाकर गड्ढे से दुबारा निकलने की कोशिश करता है लेकिन वो फिर फँस जाता है और उसके बाद फिर से व्हीलस्पिन शुरू हो जाता है. इसके बाद आप उसके साथ के राइडर्स को मदद के लिए आते हुए देख सकते हैं लेकिन बचाव से पहले ही विडियो खत्म हो जाता है.

यहाँ क्या हो रहा है?

हम सबको पता है की एक गाड़ी की क्षमता उसे चला रहे इंसान पर भी निर्भर करती है और यही बात यहाँ भी लागू होती है. दूसरी बातें भी हैं जिसके चलते Himalayan आसानी से बाधा पार कर जाती है और Dominar फँस जाती है. जहां दोनों मोटरसाइकिल्स का वज़न 182 किलो पर बराबर है Dominar में आगे का हिस्सा भारी है. इस भारी अगले हिस्से के चलते ये इसे सीधे रोड्स पर काफी स्थिर रखता है लेकिन ऑफ़-रोड में दिक्कतें आ सकती हैं.

Dominar का राइडर हैंडल पर प्रेशर डाले काफी अग्रेसिव तरीके से बैठा है वहीँ Himalayan का अपराईट सिटींग पोजीशन बॉडी के वज़न को दोनों चक्कों पर बराबर तरीके से बांटता है जिससे Himalayan आसानी से गड्ढा पार कर जाती है.

Dominar में रोड-परस्त टायर्स भी हैं वहीँ Himalayan में ड्यूल-पर्पस टायर्स हैं. Himalayan के टायर के बड़े ब्लाक Dominar के मुकाबले बेहतर ग्रिप देते हैं. Himalayan में Dominar के मुकाबले ज्यादा बेहतर लो-एंड टॉर्क भी है, जहां Dominar में 8,000 आरपीएम पर 34.5 बीएचपी और 5,500 आरपीएम पर 30 एनएम उत्पन्न होता है Himalayan में 6,500 आरपीएम पर 24.5 बीएचपी और 4,250 आरपीएम पर 32 एनएम उत्पान होता है. Himalayan में बेहतर ग्राउंड क्लीयरेंस भी है.

Himalayan का सिर्फ टॉर्क आउटपुट ही Dominar से बेहतर नहीं है बल्कि Himalayan का अधिकतम आउटपुट 4,250 आरपीएम पर आता है वहीँ Dominar का मैक्सिमम टॉर्क 5,500 आरपीएम पर मिलता है. बेहतर लो-एंड टॉर्क का मतलब बेहतर ऑफ़-रोड काबिलियत होता है. इन फैक्टर्स के साथ ही वज़न का सही बटवारा और राइडर्स के स्किल के चलते Himalayan गड्ढे से आसानी से निकल जाती है वहीँ Dominar को दिक्कत होती है.

लेकिन Dominar अपने आप में काफी सक्षम है…

Dominar Himalayan के मुकाबले काफी सस्ती है और इसमें ढेर सारे फ़ीचर्स हैं. बेहतर पॉवर आउटपुट और इंजन का मतलब है खुले हाईवे पर आपको ज्यादा आरामदायक राइड मिलेगी. इसमें बेहतर फ़ीचर्स भी हैं और इसमें ऑप्शनल ड्यूल चैनल ABS हैं जो इंडिया के सरप्राइज से भरे रोड्स के लिए बेहद ज़रूरी हैं.

Dominar में बेहत माइलेज जैसे दूसरे बेहतर फ़ीचर्स के साथ फुल LED हेडलैंप भी हैं. इसलिए दोनों बाइक्स का अपना अलग इलाका है जहां वो बेहतर परफॉर्म करती हैं. लेकिन ऊपर की सारी बातें भी उनकी क्षमता में एक अहम् रोल निभाती हैं.