क्या हैं AWD और 4WD, और इनमें से कौन सा ऑप्शन है आपके लिए बेहतर?

कार्स कॉम्प्लीकेटेड उपकरण होती हैं. हम ड्राइवर सीट में फुदक कर बैठ जाते हैं, चाबी घुमाकर कार को स्टार्ट करके अपने रास्ते पर मगन होकर निकल पड़ते हैं लेकिन ये नहीं जानते कि हमारी ये शान की सवारी काम कैसे करती हैं – कम से कम तब तक, जब तक इनमें कोई ख़राबी ना आ जाए. कुछ कारों को 4-या ऑल-व्हील ड्राइव के रूप में जाना जाता है, लेकिन इसका मतलब क्या है?

आइए 4WD और AWD के बीच अंतर को समझने का प्रयास करते हैं. ज्यादातर लोग सोचते हैं कि 4WD (4 × 4) वाहन को ड्राइव करना AWD जैसा ही होता है.  ऑल-व्हील ड्राइव और फोर-व्हील ड्राइव दोनों शब्द हैं जो एक ही चीज़ को दर्शाते हैं. हालांकि हकीकत में, इन ड्राइविंग सिस्टम के फंक्शन करने के तरीके काफी अलग हैं. जी हां, दोनों प्रणालियां चारों पहियों को पॉवर प्रदान करती हैं, लेकिन फर्क मुख्य मैकेनिकल सिस्टम में है. दोनों ही मामलों में, 4WD या AWD खरीदकर, आप मजबूत और पॉवरफुल परफॉरमेंस का आनंद लेते हैं. और बेहतर तरीके से समझने के लिए, आइए देखते हैं कि कार्स में AWD और 4WD सिस्टम कैसे काम करते हैं:

ऑल-व्हील-ड्राइव (AWD)

एक AWD सिस्टम वाहन के चारों पहियों को एक साथ पॉवर प्रदान करने के लिए सेन्टर, फ्रंट और पिछले डिफरेंशियल्स का इस्तेमाल करता है. ये सिस्टम रियर और फ्रंट एक्सेलस के बीच रोटेशनल (घूमनेवाला) अंतर बनने देने के लिए इलेक्ट्रॉनिकली कंट्रोल्ड क्लच या लिमिटेड स्लिप डिफरेंशियल का उपयोग करता है. हालाँकि इन सिस्टम्स में ऑफ-रोड पर खूबसूरती से काम करने की क्षमता होती है, लेकिन ये वास्तव में ऑन-रोड ड्राइविंग के दौरान अपनी असली चमक दिखते हैं जिसकी बदौलत ये अक्सर मिड-साइज़ SUVs और क्रॉसओवर्स में भी पाए जाते हैं.

हालांकि कई ऑल-व्हील ड्राइव सिस्टम केवल दो पहियों को पॉवर देने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं और फिर ऑटोमेटिकली डिटेक्ट करते हैं कि बाकी दो पहियों को चलाने के लिए कब, और ज़्यादा पॉवर की आवश्यकता होती है.

4-व्हील-ड्राइव (4×4, 4WD)

4WD सिस्टम चारों पहियों को पॉवर प्रदान करने के लिए एक ट्रांसफर केस और दो डिफरेंशियल्स को इस्तेमाल करता है. ये आमतौर पर बड़ी SUVs, क्रॉसओवर और फुल-साइज़ ट्रकों में इस्तेमाल किया जाता है, जो सर्वोत्तम ऑफ-रोड ड्राइविंग अनुभव के लिए फॉर-व्हील्स के अतिरिक्त ट्रैक्शन का उपयोग करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं. इन सिस्टम्स में अधिक लो-स्पीड ऑफ रोडिंग के लिए लो-रेंज गियर रेश्यो भी होता है. इसके साथ नए वाहनों में 4WD सिस्टम को चलाने के लिए मैन्युअल स्विच होता है जिससे आप जब चाहें इसका इस्तेमाल कर सकते हैं. 4WD सिस्टम की लॉक की हुई ड्राइव लाइन ऑफ-रोडिंग के दौरान वाहन को उबड़ खाबड़ मुश्किल सतहों से निपटने के लायक बनती है.

एक कार के डिफरेंशियल्स के पुर्ज़े हर ड्राइविंग सिस्टम के लिए अविश्वसनीय रूप से महत्वपूर्ण साबित होते हैं. सीधा-सीधा कहें तो ‘ओपन’ डिफरेंशियल्स, पहियों को उसी एक्सेल पर अलग-अलग रफ्तारों पर घूमने में सक्षम करते हैं. इसका मतलब है कि एक सामान्य मोड़ के दौरान, बाहरी फ्रंट व्हील्स को अधिक पॉवर मिलेगी क्योंकि उन्हें और ज़्यादा अधिक मुड़ने की आवश्यकता होती है, जबकि अन्य पहियों को भी अलग दर पर पॉवर मिलती है. इसलिए, AWD निश्चित रूप से एक अच्छी तकनीक है, जब तक कि एक पहिया मिट्टी में डूबा हुआ हो और दूसरा बाहर हो. दूसरी ओर, 4WD वाहन में दोनों पहियों पर कुछ पॉवर भेजकर इस समस्या को खत्म करने के लिए लिमिटेड-स्लिप डिफरेंशियल्स का उपयोग करते हैं.

भले ही AWD हो या 4WD सिस्टम हो, अधिकतम ट्रैक्शन और स्थिरता का फायदा मिलने के साथ, खराब मौसमों में ये फ्रंट-व्हील ड्राइव और रीयर-व्हील ड्राइव सिस्टम से बेहतर एक्सेलरेट करते हैं जिससे ड्राइवर, खड़ी चढ़ाई या गीली सड़क सतहों पर आसानी से ड्राइव कर पाता है और साथ ही ख़राब सड़कों पर कार के अटक जाने के जोखिम को कम करता है. AWD और 4WD सिस्टम चारों पहियों पर बेहतर तरीके से टार्क का विभाजन करते हैं, जिसे आपको ख़राब से ख़राब मौसम में भी बेहतर हैंडलिंग और कोनेरिंग मिलतीं हैं.

ये सब बताने के बावजूद, आपको वही ऑप्शन खरीदना चाहिए जिसकी आपको आवश्यकता हो. यदि आप गंभीर टोइंग और ऑफ़-रोड ड्राइविंग की तलाश में हैं, तो 4WD सिस्टम निश्चित रूप से आपके लिए सही ऑप्शन हैं. सामान्य ऑफ-रोड आवश्यकताओं और उल्लेखनीय ऑन-रोड ड्राइविंग के लिए, AWD सिस्टम एकदम सटीक ऑप्शन हैं.