व्यस्त भारतीय सड़कों पर कुछ ऐसी लगती है ATV की सवारी

ऑल-टेरेन वेहिकल्स (ATVs) आम सड़कों पर दिखने वाली गाड़ियों की सबसे दुर्लभ प्रजाति कही जा सकती है. ऐसा क्यों? इसलिए नहीं की यह गाड़ियाँ बेहद महंगी होतीं हैं बल्कि इसलिए कि इन्हें आम सड़कों पर चलाना गैर-कानूनी है. पेश है यह वीडियो जिसमें आप Born To Ride नाम के एक YouTuber द्वारा एक ATV को राष्ट्रीय राजधानी की सड़कों पर दौड़ाते हुए देख सकते हैं.

इस वीडियो में दिखाई पड़ रही ATV चीन में निर्मित एक उत्पाद है जिसे काफी सारी डीलरशिप्स के ज़रिए भारतीय बाज़ार में उपलब्ध कराया जा रहा है. आपको ऐसी अनेकों दुकानें मिल जाएंगी जो ऐसी आयातित ATVs को भारतीय बाज़ार में बेच रही हैं. इस ATV के मालिक ने इस गाड़ी के बारे में अधिक जानकारी तो साझा नहीं की लेकिन यह ज़रूर बताया कि इस में एक 250-सीसी का इंजन लगा है जो संभावित तौर पर एक सिंगल-सिलेंडर इंजन है.

इस ATV मालिक ने यह भी कहा कि उसने इस गाड़ी में कुछ एक्सेसरीज़ लगवाईं हैं जैसे एक विंडस्क्रीन, एक अधिक आवाज़ वाला हॉर्न, और एक कस्टम साइलेंसर जो इस गाड़ी की आवाज़ को काफी अधिक बढ़ा देता है. हम इस ATV के ब्रैंड के बारे में भी कुछ पुख्ता तौर पर नहीं कह सकते लेकिन इसकी उल्लेखित कीमत 2.5 लाख रूपए के आस-पास है.

Atv Indian Roads Featured 768x399

भारत में ATVs को आम सड़कों पर चलाना गैर-कानूनी है और RTO के ज़रिए इनका पंजीकरण भी संभव नहीं है. इसका मतलब इनका सार्वजनिक सड़कों पर इस्तेमाल वर्जित है. ऐसे ऑफ-रोड वाहनों को निजी संपत्तियों जैसे फार्म हाउस या रेस ट्रैक्स पर चलाया जा सकता है लेकिन सार्वजनिक सड़कों पर नहीं.

इस ATV के मालिक ने लोगों की प्रतिक्रियाएं रिकॉर्ड करने के मकसद से अपनी ATV पर सवार हो अपने घर के पास स्थित एक लोकप्रिय बाज़ार तक की सवारी करने का निर्णय लिया. और उम्मीद के अनुसार अनेकों नज़रें इस गाड़ी के मालिक पर आकर टिकीं और साथ ही इसकी ओर कुछ सवाल भी उछाले गए. कई लोगों ने इस ATV की कीमत, परफॉरमेंस, और माइलेज तक जानने के लिए सवाल किए.

अधिकतर ऐसी ATVs में CVT ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन दिया जाता है और इस ATV में भी यही गियरबॉक्स लगा है. CVT ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के साथ ही इस ATV को पीछे की दिशा में ले जाने में सुविधा के लिए इसमें रिवर्स गियर भी दिया गया है. ऐसी वाहन काफी वज़नी होते हैं और इन्हें पीछे की दिशा में लेकर जाना काफी जटिल काम हो जाता है. अपनी इस सवारी के दौरान राइडर इस ATV को स्थिर अवस्था में एक्सेलरेटर दे कर इस गाड़ी के साइलेंसर की धमाकों भरी आवाज़ भी निकालता नज़र आता है. अगर तथ्यात्मक रूप से देखें तो ऐसे कस्टम साइलेंसर्स भी गैर-कानूनी होते हैं.

https://youtu.be/vR6Y4yowCEc

ATVs को ऑफ-रोडिंग के लिए इस्तेमाल कर आप एक बेहद मजेदार राइड का अनुभव ले सकते हैं. कुछ ATVs में लो-रेश्यो ट्रान्सफर केस भी मुहैय्या कराया जाता है जो इसे उबड़-खाबड़, पथरीले, या बर्फीले रास्तों का सामना करने की विशिष्ट क्षमता प्रदान करता है. हम इस बारे में यकीन से नहीं कह सकते कि इस वीडियो में नज़र आ रही ATV इस फीचर से लैस है या नहीं. ATVs की असीम क्षमताओं के चलते हमारी सशस्त्र सेनाएं और विभिन्न राज्यों की पुलिस इन वाहनों का इस्तेमाल कठिन और दुर्गम रास्तों पर गश्त लगाने के लिए करती हैं. इन वाहनों में दुर्गम और जटिल रास्तों — जहाँ पहुँचने से पहले आम गाड़ियाँ हाथ खड़े कर देतीं हैं — का सामना करने की विशिष्ट क्षमता होती है. लेकिन ऐसे वाहनों का सार्वजानिक रास्तों पर इस्तेमाल अफरातफरी मचा सकता है और अगर खुदा न खास्ता आपका सामना पुलिस से हो जाए तो आपका वाहन जब्त भी किया जा सकता है.

Polaris Industries एक प्रतिष्ठित ATV निर्माता कंपनी है जो भारतीय बाज़ार में भांति-भांति की ATVs का कारोबार करती है. Polaris द्वारा बनायी गयीं उच्च-गुणवत्ता वाली बेशकीमती ATVs न केवल बेहद शक्तिशाली होती हैं बल्कि इनमे से कई में 4-व्हील ड्राइव सिस्टम भी होता है. इनका भारतीय सड़कों पर इस्तेमाल गैर-कानूनी होता है. यह सब बातें इस किस्म के वाहन को बेहद छोटी तादाद में देखे और इस्तेमाल किए जाने वाले वाहनों की श्रेणी में ला कर खड़ा करता है. ऐसे वाहनों का इस्तेमाल अक्सर रईसों द्वारा अपने फार्म-हाउस या निजी सडकों पर किया जाता है.