Tata Safari Storme अब लेगी आर्मी में Maruti Gypsy की जगह [वीडियो]

Tata Motors ने आर्मी-स्पेक Safari Storme सेना को देना शुरू कर दिया है और रक्षा बलों ने भी देश भर में इन्हें इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है. यह विशेष Safari Storme GS800 स्पेसिफिकेशन्स को पूरा करती है और इसकी भारत से एकमात्र अन्य प्रतियोगी महिंद्रा Mahindra Scorpio थी. पेश हैं इस SUV के बारे में कुछ दिलचस्प बातें।

इस आर्मी-स्पेक Storme में बिना किसी प्रकार के बदलाव के 400 Varicor इंजन का इस्तेमाल किया गया है । यहाँ ग़ौर किया जाए कि इस वाहन को शुरुआत में आर्मी को परीक्षणों के लिए देते समय इस Safari में 5-स्पीड मैन्युअल गियरबॉक्स के साथ पुराना 320 एनएम / 140 पीएस इंजन था पर जो Safari Storme अब सेना को दी जा रही हैं उनमें 6-स्पीड मैन्युअल गियरबॉक्स के साथ 400 एनएम/ 154 पीएस सेट-अप वाला इंजन देने की अनुमति मिल गई है. इस Safari में ज़्यादा नए हैवी ड्यूटी रियर एक्सल ताकि ये उन क्षेत्रों में अतिरिक्त भार झेल सके जहाँ सड़कें नहीं हैं. इस नए एक्सल के कारण पिछले डिस्क ब्रेक्स की जगह इसमें ड्रम ब्रेक्स लगाए गए हैं. इस Storme के सस्पेंशन को रीट्यून करके आम Storme के मुकाबले सख्त रखा गया है ताकि ये अतिरिक्त वज़न ले जा सके. GS800 spec के अनुसार भी इस Storme को 800 किलोग्राम का वज़न समेत 200 एमएम का ग्राउंड क्लीयरेंस मेन्टेन करना चाहिए जिसके कारण जैसा की आप देख सकते हैं ये Storme ऊँची रखी गई है.

बहार की बात करें तो इसमें टोइंग हुक्स, आगे पीछे ब्लैक-ऑउट लैम्प्स, झंडे का माउंट और पीछे की और उलटे हाथ पर एक जेरी कैन माउंट दिया गया है. इस माउंट पर 20 लीटर तक का जेरी कैन लगे जा सकता है. इस आर्मी-स्पेक Storme का विभिन्न स्थानों पर बुरे से बुरे मौसम की स्तिथियों के लिए परीक्षण किया गया था. इसमें ठंड के मौसम के लिए North Sikkim, गर्म मौसम के लिए Jamshedpur और बारिश के परीक्षणों के लिए Hashimara शामिल हैं.

ये वीडियो नई दिल्ली में बनाई गई थी और इसमें दिख रही Storme नई पेंट स्कीम और ऊंची हाइट की बदौलत अपने नए अवतार में काफी खूंखार लग रही है. Maruti Gypsy की तुलना में Storme के ज़्यादा आरामदायक और सक्षम विकल होने कारण ये निर्णय काफी सही है. लेकिन ये Gypsy को पूरी तरह प्रतिस्थापित करने में सक्षम नहीं हो सकता है. ऐसा Gypsy की मुश्किल ड्राइविंग वातावरण से निपटने की क्षमता इसके हल्के वजन और एक पेप्पी पेट्रोल मोटर की बदौलत है.