सेकंड हैण्ड Mahindra XUV500 खरीदते वक़्त इन 8 बातों का ध्यान रखना है ज़रूरी

2011 में अपने लॉन्च के बाद से, Mahindra XUV500 अपने प्राइस सेगमेंट में सबसे पॉपुलर SUV रही है. अपने बोल्ड और चीता से प्रेरित डिजाईन, पावरफुल इंजन, अच्छी राइड क्वालिटी, और फ़ीचर्स से भरे केबिन के चलते, XUV500 इंडिया के मिड साइज़ कस्टमर्स की पसंदीदा गाड़ी रही है. इस साल XUV500 का फेसलिफ्ट भी किया गया था, जिसका मतलब है की इसके पुराने वर्शन की रीसेल वैल्यू थोड़ी कम हो गयी होगी. Mahindra XUV500 एक पॉपुलर SUV है और सेकंड हैण्ड एवं नए कार मार्केट, दोनों में ही इसकी डिमांड काफी बड़ी है. कम कीमत पर अच्छी तरह से मेन्टेन की हुई XUV500 ढूंढना बेहद मुश्किल काम है. लेकिन, XUV500 के कई पुराने बैच दिक्कतों से भरे हुए थे और अच्छी कीमतों पर मिल रहे हैं. लेकिन, इन्हें खरीदना एक गलत फैसला साबित हो सकता है. इसलिए, इस पोस्ट में हम वो 8 चीज़ें बता रहे हैं जिनके बारे में आपको सेकंड हैण्ड Mahindra XUV500 खरीदने से पहले सोचना चाहिए.

SAMSUNG

क्या ये पहले वाले बैच की है?

XUV500 को 2011 में लॉन्च किया गया था. 2011 और 2012 के बैच वाले कार्स में सबसे ज़्यादा दिक्कतें आ रही हैं. जैसा की अधिकांश Mahindra और Tata मॉडल्स के साथ होता है, प्रोडक्शन के पहले 2 सालों वाली गाड़ियों में सबसे ज़्यादा दिक्कतें आती हैं. और समय के साथ, निर्माता इन्हें कस्टमर फीडबैक के हिसाब से सही कर देता है. जहां इस समय की अधिकांश XUV500s का एक या दो रीकॉल हुआ ही होगा, 2011 और 2012 मॉडल्स से दूर रहना ही सही है.

क्लच जांच लें

ध्यान दें की क्लच फेलियर शुरुआत के बैच वाली XUV500s की सबसे बड़ी प्रॉब्लम हुआ करती थी. जहां हाल के बैच वाली गाड़ियों में क्लच कॉम्पोनेन्ट में काफी सुधार किया गया है, शुरुआत के बैच वाले XUV500 के कई ओनर्स को क्लच फेलियर झेलना पड़ा है. इसलिए अगर आप एक ऐसी XUV500 खरीदना चाह रहे हैं जो 3-4 साल से ज़्यादा पुरानी है, पूरी क्लच असेंबली को चेक करवा लें.

पॉवर स्टीयरिंग जांच लें

शुरुआत के बैच वाले XUV500s में पॉवर स्टीयरिंग फेलियर एक और बड़ी दिक्कत थी. ऐसे कई रिपोर्ट आये हैं जिसमें पॉवर स्टीयरिंग ऑइल लीक कर रहा है क्योंकि एक रैक/पिनियन असेंबली हाइड्रोलिक लीक कर रहा था. और नए बैच वाले गाड़ियों में इसे सुधार दिया गया है, लेकिन फिर भी एक एक्सपर्ट से पूरे पॉवर स्टीयरिंग असेंबली को ज़रूर चेक करवा लें.

सस्पेंशन जांच लें

ध्यान दें की सस्पेंशन जांच ज़रूर करवा लें क्योंकि सस्पेंशन कॉम्पोनेन्ट को रिप्लेस करना बेहद खर्चीला काम होता है. रियर टायर्स का असमान तरीके से घिसना सस्पेंशन में दोष का सुबूत है. और काफी ज़्यादा चली हुई XUV500s में ये आम दिक्कत होती है.

ब्रेक पैड

कई XUV500 ओनर्स ने ब्रेक के उतने कारगर ना होने के बारे में शिकायत की है. जहां XUV500 के आखिरी दो बैच में ये दिक्कत नहीं आ रही है, 4 साल से ज़्यादा पुरानी कार्स में ये दिक्कत है. XUV500 के ब्रेक पैड को कई बार रीडिजाईन किया गया है, और अभी वाले सही से काम करते हैं. लेकिन, इस बात का ध्यान ज़रूर रखें की जिस XUV500 को आप खरीदने जा रहे हैं, वो सही से काम कर रहे हों.

इलेक्ट्रॉनिक्स

XUV500 के इलेक्ट्रॉनिक्स अक्सर खराब हो जाते. कई ओनर्स ने शिकायत की है कि उनका इंफोटेनमेंट यूनिट काम नहीं कर रहा या स्क्रीन खराब हो गयी है. साथ ही, बैलेंस और फेड सेटिंग्स की मदद से सारे स्पीकर्स ज़रूर जांच लें. अक्सर डोर पैनल में लीकेज के चलते स्पीकर आउटपुट पर फर्क पड़ता है.

ITM जांच लें

अगर आप AWD मॉडल खरीदने वाली हैं, तो ITM (Interactive Torque Management) की जांच ज़रूर करवा लें क्योंकि ये अक्सर फेल कर जाता है.

कागज़ात जांच लें

ये एक ऐसी आम बात है जिसे आपको किसी भी सेकंड हैण्ड कार को खरीदते वक्त दिमाग में रखना चाहिए. इस बात का हमेशा ध्यान रखें की जो कार आप खरीदने वाले हैं, उसके डॉक्यूमेंट सही हैं. साथ ही Mahindra XUV500 जैसी SUVs चोरों की पसंदीदा गाड़ियाँ हैं. इसलिए, इस बात का ध्यान रखें की आपको चोरी की गाड़ी तो नहीं बेची जा रही. साथ ही ये सुनिश्चित कारें की गाड़ी का पंजीकरण पत्र, बीमा पत्र, और प्रदूषण पत्र सही है. आप RC स्टेटस को www.parivahan.gov.in पर भी चेक कर सकते हैं. खरीद की रसीद एवं सर्विस बुकलेट को किसी भी गड़बड़ी के लिए जांच लें. और अंत में ऐसी XUV500 खरीदने की कोशिश करें जो एक्सटेंडेड वारंटी के अन्दर आती हों ताकि आप गाड़ी को सुकून से चला सकें.