5 कांसेप्ट कार्स जो आज तक कभी भी प्रोडक्शन लाइन तक नहीं आ पायीं…

वो कहते हैं ना, ‘नाम बड़े और दर्शन छोटे’, कार ब्रांड्स के साथ भी कभी-कभी कुछ ऐसा ही हो जाता है. आमतौर पर मोटर शो में हर ब्रांड अपने नए कांसेप्ट कार्स पेश करती है. ये कॉन्सेप्ट्स अकसर ब्रांड के कार उत्पादन के भविष्य के बार में बताते हैं, या किसी नए मॉडल का आईडिया देते हैं. लेकिन कभी-कभी ब्रांड कस्टमर्स को सब्ज़बाग दिखाकर मुकर जाते हैं. ऐसे कई उदाहरण हैं जब ब्रांड ने कांसेप्ट तो पेश किया लेकिन प्रोडक्शन मॉडल के नाम पर ठन-ठन गोपाल! आइये आज एक नज़र डालते हैं ऐसे ही 5 उदाहरणों पर —

Tata Indigo Advent

Tata ने हाल ही में 2018 Auto Expo में H5X को प्रदर्शित किया था और इसके प्रोडक्शन वर्शन को टेस्टिंग के दौरान देखा भी गया है. 2004 में Tata ने Geneva Auto Show में Indica के प्लेटफार्म पर आधारित Tata Indigo Advent कांसेप्ट पेश की थी. ये गाड़ी एक SUV और एक स्टेशनवैगन के बीच की क्रॉसओवर थी. इसके साथ कंपनी परिवारों के लिए एक गाड़ी लाना चाहती थी जिसमें SUV के बड़े साइज़ की झंझट ना हो लेकिन कार जगहदार भी हो. इसमें लगा पेट्रोल इंजन 83.8 बीएचपी और डीजल इंजन 69 बीएचपी उत्पन्न करता था. कहने की ज़रुरत नहीं है की ये कार रोड पर कभी नहीं आ पायी, और कस्टमर्स की उम्मीदें धरी की धरी रह गयीं. पेश है कार का विडियो —

https://youtu.be/R8w9rhmnAMk

Honda Fuya-Jo

ये इस लिस्ट की अजीब कार्स में से पहली है, Honda द्वारा वर्ष 1999 में पेश की गयी Fuya-Jo Concept पार्टी पसंद कस्टमर्स को ध्यान में रखकर बनायी गयी. Fuya-Jo का शाब्दिक अर्थ होता है ‘ना सोने वाला शहर’. शहर का तो पता नहीं, लेकिन इस कार ने हमारी नीदें ज़रूर उड़ा दी हैं. जापान से हमेशा ही अजीब तरह के कॉन्सेप्ट्स आते रहे हैं, लेकिन ये कार तो अजीब के भी ऊपर है. इस कार में जो सीट्स थीं उसपर आप पूरी तरह बैठ नहीं सकते थे, उसपर लोग बस सहारा लेकर अड़ सकते थे, और हाँ, ड्राईवर सीट भी ऐसी ही थी. ये कार भी कभी प्रोडक्शन में नहीं आई, और हमें नहीं लगता की आपको इसके प्रोडक्शन ना होने के पीछे का कारण बताना होगा. उसके लिए जापानी भाषा का ये विज्ञापन ही काफी है —

Volkswagen Aqua

ऐसा लगता है ये गाड़ी सीधे किसी James Bond फिल्म से आई हो. और इसे कार बुलाने में थोड़ी हिचकिचाहट होती है. चाइना के Zhang Yuhan द्वारा डिजाईन की गयी ये गाड़ी हर किसी को ललचाने में कामयाब रही थी. Volkswagen Aqua Hovercraft कांसेप्ट एक कार, एक नाव, थीम पार्क राइड, और एक स्पेसशिप के बीच क्रॉस थी. इसमें एक हाइड्रोजन फ्यूल सेल मोटर लगा था. पानी, बर्फ, रोड, और रेत के साथ ये गाड़ी कहीं भी जाने में सक्षम थी. अपने समय से बहुत आगे ये गाड़ी प्रोडक्शन स्टेज पर नहीं पहुँच पायी. इसे आप इस विडियो में देख सकते हैं —

https://youtu.be/wP6mpUmQPIg

Mahindra Halo EV Concept

Mahindra की Halo एक कांसेप्ट इलेक्ट्रिक कार थी जिसने Auto Expo 2014 में मौजूद हर दर्शक का दिल जीत लिया था. बेहतरीन लुक्स वाली ये गाड़ी Aston Martin के छोटे भाई जैसी दिखती थी. कंपनी के मुताबिक़ इसकी टॉप स्पीड 160 किमी/घंटे की थी और इसकी रेंज 200 किलोमटर की थी. साथ ही, ये 0-100 किमी/घंटे मात्र 8 सेकेण्ड में पह्हुंच सकती थी. इसके सेंट्रल कंसोल में Tesla की याद दिलाने वाला एक बड़ा सा टेबलेट लगा था. शायद ये इस लिस्ट की वो कार है जिसे हम प्रोडक्शन में दिलोजान से देखना चाहते थे. और अब जब इलेक्ट्रिक कार मार्केट तेज़ी पकड़ रहा है, Mahindra को इसे मार्केट में लाने पर सोचना ज़रूर चाहिए. पेश है कंपनी द्वारा जारी किया गया इसका विडियो —

Toyota i-Unit

अगर आपको लग रहा था की Volkswagen Aqua को कार बुलाना गलत होगा, फिर Toyota i-unit के बारे में आपका क्या ख़याल है? 2005 में Toyota ने ये कांसेप्ट न्यू यॉर्क ऑटो शो में पेश किया था. इसके साथ कंपनी ट्रेवल मार्केट में लीक से हटकर सोच लाने की कोशिश कर रही थी. इस कांसेप्ट का ड्राईवर एक आर्मचेयर जैसे पोजीशन में बैठ कहीं भी जा सकता था. शहरी वातावरण में छोटे दूरियों के सफ़र पर केन्द्रित ये कार फ्यूचरिस्टिक तकनीक से भरी पड़ी थी. ड्राइव बाई वायर तकनीक के साथ ड्राईवर इसे आसानी से चला सकता था और इसका ड्राईवर इनफार्मेशन सिस्टम आवाज़, रौशनी, और वाइब्रेशन के ज़रिये ड्राईवर से परस्पर संवाद साधता था. कहने की ज़रुरत नहीं होगी की ये कार भी कभी प्रोडक्शन में नहीं आ पायी. शायद ये कार अपने समय से काफी आगे थी, क्योंकि आज 13 साल के बाद के मार्केट में भी ये कहीं फिट नहीं बैठती. आप इसे इस विडियो में भी देख सकते हैं —

विडियो — 1, 2, 3, 4, 5