इंडियन मार्केट में आई 5 कार्स जिन्हें पब्लिक ने सिरे से नकार दिया

हमने हाल ही में एक आर्टिकल लिखा था जिसमें हमने इंडिया में फ्लॉप हुई बाइक्स की बात की थी. आज हम बात करते हैं ऐसी कार्स की जो इंडिया में पब्लिक को रिझा नहीं पायीं. इस कारण से ये कार्स या तो बननी बंद हो गयी हैं या फिर बेहद खराब सेल्स की बीमारी से ग्रस्त हैं.

Mahindra Verito Vibe

कुछ बेहतरीन SUVs की निर्माता Mahindra ने Verito नाम के सेडान लॉन्च किया था. और इसी का हैचबैक रूप थी Verito Vibe. 2013 में लॉन्च होने के बाद से ही इस कार के सेल्स लगातार खराब रहे हैं. और इसका बड़ा कारण है इस कार के लुक्स. बेहद बोरिंग लुक्स वाली ये कार मार्केट में Maruti Baleno, Maruti Swift, और Honda Jazz के सामने काफी पुरानी लगती है. जगहदार इंटीरियर और वैल्यू फॉर मनी होने के बावजूद ये कार फ्लॉप ही रही है.

Ford Fusion

2006 में लॉन्च हुई Fusion में Fiesta का प्लेटफार्म ही इस्तेमाल हुआ था और इसका एस्टेट और MPV का मिश्रित डिजाईन इसे नायाब लुक्स देता था. लेकिन ज़रूरी नहीं है की नायाब लुक्स लोगों को पसंद ही आयें. अच्छी ड्राइविंग, ग्राउंड क्लीयरेंस, और सेफ्टी फ़ीचर्स होने के बावजूद ये गाड़ी इंडिया के लोगों को कभी भी लुभा नहीं पायी और आखिरकार Ford ने इसे 2010 में बनाना बंद कर दिया.

Maruti Baleno Altura

इंडिया में एस्टेट वैगन कभी नहीं चले हैं, और Maruti को ये सीख एक करारे फ्लॉप के बाद मिली. Baleno Altura एक और कार थी जो अपने लुक्स के चलते मार खा गयी. जगहदार और काफी प्रैक्टिकल होने के बावजूद इसकी सेल्स ने निर्माता को निराश ही किया. और नए Baleno को देखकर लगता भी है की आखिरकार Maruti को सीख मिल ही गयी है.

San Storm

इंडिया में एक और सेगमेंट है जो प्रैक्टिकल नहीं होने के चलते कभी नहीं चलता और वो है कनवर्टिबल. लेकिन शायद Goa की San Motors को शायद किसी ने ये बात बतायी नहीं थी. लेकिन कंपनी के Storm कनवर्टिबल के फ्लॉप होने के पीछे इसमें लगे 1.2 लीटर 60 बीएचपी मोटर का हाथ भी था. कनवर्टिबल के स्पोर्टी लुक्स होने के बावजूद इतना छोटा इंजन एवं और भी कम पॉवर आउटपुट इसे बेहद अव्यवहारिक बनाता था. खैर अगर आप इसे अभी भी खरीदने की चाहत रखते हैं तो कम्पनी के Goa प्लांट से आप इसे आर्डर कर सकते हैं.

Maruti Suzuki Kizashi

ये एक ऐसी कार का बेहतरीन उदाहरण है जो अपने समय से बेहद आगे थी. Kizashi के लुक्स 2011 के लिए भी काफी मॉडर्न थे. और इसके साथ ही इसका 2.4 लीटर पेट्रोल इंजन 175 बीएचपी का अच्छा आउटपुट भी देता था. लेकिन लोगों के लिए सस्ती कार बनाने की छवि के चलते लोग एक Maruti पर लक्ज़री सेडान के पैसे खर्च करने के लिए तैयार नहीं थे. इसके साथ ही Kizashi में डीजल ऑप्शन का ना होना भी इसके पक्ष में काम नहीं करता था. कहने की ज़रुरत नहीं है की अच्छी कार होने के बावजूद 2014 में Maruti ने इसे बनाना बंद कर दिया.